loader
फ़ोटो क्रेडिट- @TheHockeyIndia

हॉकी खिलाड़ी वंदना कटारिया के परिजनों को दी जातिसूचक गालियां

दलित समाज से आने वालीं वंदना कटारिया जब भारत के लिए ओलंपिक में खेलने गयी होंगी, तो उन्होंने या उनके परिवार ने यह कभी नहीं सोचा होगा कि टीम की हार के लिए उन्हें जातिसूचक गालियां सुननी पड़ेंगी। वंदना कटारिया ओलंपिक में भारत की महिला हॉकी टीम की खिलाड़ी हैं और वह अकेली ऐसी खिलाड़ी हैं, जिन्होंने ओलंपिक में गोल दागने की हैट ट्रिक लगाई है। 

एक ओर सारा देश महिला हॉकी टीम की खिलाड़ियों के प्रदर्शन पर गर्व कर रहा था, वहीं वंदना के परिवार को जातीय अपमान का घूंट पीना पड़ा। 

बुधवार को भारत और अर्जेंटीना के बीच हुए मैच में वंदना ने भी बाक़ी खिलाड़ियों की ही तरह देश को जिताने के लिए जी-जान से खेला लेकिन भारत को जैसे ही हार मिली तो जातीय अहंकार में डूबे कुछ लोग वंदना के घर के बाहर पहुंच गए और उन्होंने इस हार के लिए महिला हॉकी टीम में शामिल दलित खिलाड़ियों को जिम्मेदार ठहरा दिया। इन लोगों ने वंदना के परिवार को जातिसूचक गालियां दीं और बेहूदगी की हदें पार कर गए।  

ताज़ा ख़बरें

वंदना कटारिया उत्तराखंड के हरिद्वार जिले के रोशनाबाद गांव की रहने वाली हैं। टाइम्स ऑफ़ इंडिया (टीओआई) में छपी ख़बर के मुताबिक़, ऊंची जाति से संबंध रखने वाले दो लोगों ने भारतीय महिला हॉकी टीम की हार के बाद वंदना के घर के बाहर पटाखे फोड़े और डांस किया। 

वंदना के परिजनों ने टीओआई को बताया कि गालियां देने वाले इन लोगों का कहना था कि भारतीय टीम इसलिए हार गयी क्योंकि इसमें कई दलित खिलाड़ी हैं। 

वंदना के भाई शेखर ने कहा कि हार के बाद हम सभी लोग निराश थे लेकिन टीम ने अच्छा खेला और हमें इस पर गर्व है। 

शेखर ने टीओआई को बताया, “मैच के बाद अचानक हल्ला-गुल्ला होने लगा। कुछ लोग हमारे घर के बाहर पटाखे जला रहे थे। हम बाहर गए तो देखा कि हमारे ही गांव के दो लोग थे। हम उन्हें जानते हैं, वे ऊंची जाति के हैं और वे हमारे घर के बाहर नाच रहे थे।” 

Casteist slurs on Vandana Katariya family - Satya Hindi

जब वंदना के परिजन बाहर आए तो इन लोगों ने उन्हें जाति सूचक गालियां दीं। शेखर ने कहा कि ये लोग कह रहे थे कि केवल हॉकी ही नहीं बल्कि हर खेल से दलितों को बाहर रखा जाना चाहिए। इसके बाद उन लोगों ने अपने कुछ कपड़े उतार दिए और फिर से नाचने लगे। 

शेखर ने इसे लेकर पुलिस में शिकायत दर्ज कराई है। एक अभियुक्त को पुलिस ने गिरफ़्तार कर लिया है। 

देश से और ख़बरें

वंदना के परिजनों के साथ जो हुआ है, उसकी न सिर्फ़ आम लोगों को बल्कि खेल जगत से जुड़े सारे लोगों को भी मज़म्मत करनी चाहिए। क्योंकि खिलाड़ी किसी जाति या क्षेत्र का नहीं होता, वो पूरे देश का होता है और तिरंगे को ऊंचा रखने के लिए खेलता है। 

वंदना के परिजनों के साथ जो हुआ है, वह इस बात को भी बताता है कि कुछ लोग नहीं चाहते कि दलित समाज के लोग ऊंचे पदों पर चले जाएं। ओलंपिक में हैट ट्रिक ठोककर देश की शान बढ़ाने वालीं वंदना का कसूर यही दिखाई देता है कि वह दलित समाज से हैं, वरना टीम के हारने पर उनके परिजनों के साथ इस तरह का व्यवहार क़तई नहीं होता।

जो भी लोग किसी खिलाड़ी को उसकी जाति या क्षेत्र से जोड़ें, इस तरह का जातिगत उत्पीड़न करें, उनका सामाजिक बहिष्कार भी अवश्य किया जाना चाहिए।  

जातीय अहंकार के कारण दलितों के साथ मारपीट, भेदभाव होने की ख़बरें इस आधुनिक युग में भी आम हैं। लेकिन टीम की हार के लिए किसी पुरूष या महिला खिलाड़ी को उसकी जाति के कारण निशाना बनाना, घिनौनी जातिवादी सोच का वीभत्स रूप है। 

बीसवीं सदी में जब दुनिया असंभव को संभव कर दिखा रही है, तब इस तरह की घटनाएं और मानसिकता देश की तरक्की में बहुत बड़ा रोड़ा है। महिला हॉकी टीम के प्रदर्शन पर हर भारतीय को नाज है लेकिन कुछ लोग ऐसे भी हैं, जिनके लिए जातीय श्रेष्ठता ही सब कुछ है। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें