loader

जनरल रावत हादसे के बाद भी ज़िंदा थे, अस्पताल ले जाते रास्ते में मृत्यु हुई: रिपोर्ट

तमिलनाडु में हेलीकॉप्टर हादसे की ख़बर के कुछ घंटों बाद तक भी सीडीएस जनरल बिपिन रावत की स्थिति के बारे में सूचना क्यों नहीं सामने आ पाई थी? इस सवाल का जवाब रेस्क्यू ऑपरेशन में जुटे प्रत्यक्षदर्शी के बयान से भी मिल सकता है।

दरअसल, हादसे के बाद सीडीएस जनरल बिपिन रावत जीवित थे और एक अन्य यात्री के साथ एमआई-17वी5 हेलीकॉप्टर के मलबे से निकाले जाने पर अपना नाम बताने में भी सक्षम थे। यह बात घटना के बाद राहत और बचाव कार्य में लगे एक वरिष्ठ फायरमैन ने कही है। वह सबसे पहले पहुंचने वालों में से एक थे।

ताज़ा ख़बरें

समझा जाता है कि उनकी हालत काफ़ी ज़्यादा ख़राब थी और इस वजह से बिना अस्पताल की तरफ़ से या आधिकारिक तौर पर पुष्ट हुए कुछ भी नहीं कहा जा सकता था। जनरल रावत के साथ जिस एक अन्य यात्री को दुर्घटनाग्रस्त हेलीकॉप्टर से निकाला गया उनकी बाद में ग्रुप कैप्टन वरुण सिंह के रूप में पहचान हुई। 

टीओआई की रिपोर्ट के अनुसार, राहत व बचाव दल में शामिल एन सी मुरली ने कहा, 'हमने दो लोगों को ज़िंदा बचाया। एक थे सीडीएस रावत। जैसे ही हमने उन्हें बाहर निकाला, उन्होंने रक्षा कर्मियों से हिंदी में धीमी आवाज़ में बात की और अपना नाम बताया। अस्पताल ले जाते समय उनकी मृत्यु हो गई। हम तुरंत दूसरे व्यक्ति की पहचान नहीं कर सके जिन्हें अस्पताल ले जाया गया और उनका अभी इलाज चल रहा है।' 

उन्होंने कहा कि जनरल रावत के शरीर के निचले हिस्से में गंभीर चोटें आईं।

वैसे, राहत और बचाव दल को इलाक़े में काफ़ी कठिनाइयों का सामना करना पड़ा। रिपोर्ट के अनुसार, आग बुझाने के लिए दमकल को ले जाने के लिए कोई रास्ता नहीं था। दमकलकर्मियों को पास की नदी और आसपास के घरों से बर्तनों में पानी लाना पड़ा।

हेलीकॉप्टर में से लोगों को बचाने और शव निकालने में भी दिक्कत हुई। एक उखड़े हुए पेड़ को काटने में भी परेशानी हुई। इन वजहों से बचाव कार्य में देरी हुई। उन्होंने कहा कि 12 शव बरामद कर लिए गए और दो लोगों को जिंदा निकाल लिया गया, लेकिन दोनों गंभीर रूप से झुलस गए थे।

देश से और ख़बरें
दुर्घटनास्थल से लगभग 100 मीटर की दूरी पर कटेरी गांव के लोगों ने इस दुर्घटना को लेकर ज़िला अधिकारियों को सतर्क किया और क्षेत्र की बिजली आपूर्ति तुरंत काट दी गई। रिपोर्ट के अनुसार, छोटे से गांव बर्लियार निवासी प्रकाश ने हेलीकॉप्टर को 100 फीट दूर से दुर्घटनाग्रस्त होते देखा। उन्होंने कहा, 'मैंने इसे अपने घर से सिर्फ़ 200 मीटर ऊपर उड़ते हुए देखा। सुबह धुंध थी। अचानक, यह एक पेड़ से टकराया और एक धमाके के साथ दुर्घटनाग्रस्त हो गया। आस-पास रहने वाले लोग आग लगने की आशंका से अपने घरों से भाग गए।'
ख़ास ख़बरें

अंतिम संस्कार शुक्रवार को

बता दें कि जनरल बिपिन रावत व उनकी पत्नी मधुलिका रावत का पार्थिव शरीर आज दिल्ली लाया जाएगा। आज शाम को उनके शवों को दिल्ली के कामराज मार्ग स्थित आवास पर अंतिम दर्शन के लिए रखा जाएगा। शुक्रवार को कामराज मार्ग से अंतिम यात्रा शुरू होगी। अंतिम संस्कार दिल्ली कैंट के बरार स्क्वायर में स्थित श्मशान घाट पर होगा। 

इस हादसे में 13 लोगों की मौत हो गई है और जीवित बचे अकेले शख़्स ग्रुप कैप्टन वरूण सिंह का इलाज चल रहा है। वायु सेना ने हादसे की जांच के आदेश दे दिए हैं। हेलीकॉप्टर में जनरल बिपिन रावत, उनकी पत्नी के अलावा उनके दो सहायक और पांच सुरक्षा अधिकारी भी थे। हेलीकॉप्टर जिस समय दुर्घटनाग्रस्त हुआ, उस समय उसमें 14 लोग सवार थे। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें