loader

सेंट्रल विस्टा पर अड़ी सरकार, कोर्ट से विरोध करने वाली याचिका खारिज करने को कहा

कांग्रेस पार्टी के नेता और दूसरे लोग कोरोना महामारी को देखते हुए सेंट्रल विस्टा परियोजना को रद्द करने की मांग कर रहे हैं और ऐसे में नरेंद्र मोदी सरकार इस पर पूरी तरह अड़ी हुई है।

केंद्र सरकार ने मंगलवार को दिल्ली हाई कोर्ट में एक हलफ़नामा दायर कर गुजारिश की है कि इस परियोजना का विरोध करने से जुड़ी याचिका न सिर्फ खारिज कर दी जाए, बल्कि याचिका देने वालों पर ज़ुर्माना लगाया जाए क्योंकि यह नियम का दुरुपयोग है। 

केंद्र के हलफ़नामे में कहा गया है कि 19 अप्रैल को कर्फ्यू लगाए जाने से पहले ही निर्माण स्थल पर 400 कर्मचारी थे। ये उस समय से अब तक वहीं हैं, कोरोना दिशा निर्देशों का पूरी तरह पालन कर रहे हैं तब से साइट पर हैं और पूरी तरह सुरक्षित हैं।  

ख़ास ख़बरें

दिशा निर्देश का पालन

हलफनामे में यह भी कहा गया है कि स्वच्छता, थर्मल स्क्रैनिंग, सामाजिक दूरी और मास्क के प्रयोग जैसे सभी दिशा निर्देशों का पालन सख़्ती से किया जा रहा है। निर्माण स्थल पर ही  टेस्टिंग, आइसोलेशन और चिकित्सा सहायता के लिए अलग सुविधाएँ हैं। 

सरकार ने यह भी दावा किया है कि सेंट्रल विस्टा परियोजना स्थल पर काम करने वालों के लिए तत्काल चिकित्सा सुविधा और उचित देखभाल की व्यवस्था है।  हलफनामे में कहा गा है कि  ठेकेदार ने सभी मजदूरों के स्वास्थ्य बीमा प्रदान का इंतजाम किया है। 

centre defends central vista project in delhi high court - Satya Hindi

क्या कहा राहुल ने?

केंद्र सरकार का यह अड़ियल रवैया ऐसे समय सामने आया है जब कांग्रेस ने एक बार फिर सेंट्रल विस्टा परियोजना का विरोध करते हुए सरकार को निशाने पर लिया है। पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने कहा कि 'सरकार को वह चश्मा हटा लेने चाहिए जिससे सिर्फ सेंट्रल विस्टा जैसी गुलाबी चीजें ही दिखती हैं।' 

कांग्रेस ने इसके पहले भी सेंट्रल विस्टा परियोजना पर केद्र को घेरते हुए कहा था कि लोगों को यह परियोजना नहीं, बल्कि साँस चाहिए। 
कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने भी सेंट्रल विस्टा परियोजना का विरोध किया और ट्वीट कर बताया कि जितने पैसे एस पर खर्च हो रहे हैं, उतने में कोरोना से जुड़े कई काम हो सकते थे। 

विरोध क्यों?

बता दें कि सेंट्रल विस्टा परियोजना के लिए वहाँ पहले से मौजूद 14 से 16 इमारतें ढहाई जाएँगी।  यह पूरा इलाक़ा अपने वास्तुशिल्प और पर्यावरणीय महत्व की वजह से हेरिटेज ज़ोन की प्रथम श्रेणी में रखा गया है जहाँ किसी क़िस्म के निर्माण की क़तई इजाज़त नहीं है। ढहाना तो बहुत दूर की बात है।

इन संरक्षित विरासत को गिराने के बाद इस ज़मीन पर सड़क के एकदम क़रीब, बगैर अहाते की जगह छोड़े, एक-दूसरे से सटे हुए, सरकारी दफ्तरों के बारह बड़े-बड़े खंड तैयार किए जाएँगे। हर इमारत आठ मंजिल की होगी। इनमें सरकारी कर्मचारियों के लिए आज के मुक़ाबले 3-गुना ज़्यादा दफ्तर बनेंगे।

एक विशेष भूमिगत रेलवे इन दफ़्तरों के बीच चला करेगी, जिसमें केवल पासधारियों को ही सवारी की इजाज़त होगी। इसका अर्थ यही हुआ कि राजपथ के आसपास की ज़मीन जनता की पकड़ से निकल के बन गई वीआईपी जॉन बन जायेगी। इंडिया गेट के बगीचों को छोड़, यह इलाक़ा उच्च सुरक्षा ज़ोन के रूप में बनाया जाएगा जहाँ जनता को जाने की इजाज़त नहीं होगी।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें