loader

कोरोना केस बढ़ने पर केंद्र ने 6 राज्यों में विशेषज्ञों की टीमें भेजीं

कोरोना की तीसरी लहर की आशंकाओं के बीच देश के छह राज्यों में कोरोना के केस बढ़ने पर केंद्र सरकार ने विशेषज्ञों की टीमें भेजी हैं। स्वास्थ्य मंत्रालय ने शुक्रवार को कहा कि उन टीमों में अलग-अलग मामलों से जुड़े अलग-अलग विशेषज्ञ शामिल हैं। ये टीमें केरल, अरुणाचल प्रदेश, त्रिपुरा, ओडिशा, छत्तीसगढ़ और मणिपुर में कोरोना को नियंत्रित करने और उसे रोकने के उपाय करने में राज्यों की सहयता करेंगी। 

केंद्र की ओर से टीमें भेजने की जल्दबाज़ी तब दिखाई गई है जब देश के कई राज्यों में अब डेल्टा प्लस वैरिएंट के मामले सामने आ रहे हैं। यह डेल्टा प्लस उस डेल्टा वैरिएंट का ही एक म्यूटेंट है जिसे दुनिया भर में अब सबसे बड़ा ख़तरा माना जा रहा है। यह वही डेल्टा वैरिएंट है जिसे भारत में कोरोना की दूसरी लहर में तबाही लाने के लिए ज़िम्मेदार माना गया। 

ताज़ा ख़बरें

भारत में जब दूसरी लहर अपने शिखर पर थी तो हर रोज़ 4 लाख से भी ज़्यादा संक्रमण के मामले रिकॉर्ड किए जा रहे थे। देश में 6 मई को सबसे ज़्यादा 4 लाख 14 हज़ार केस आए थे। यह वह समय था जब देश में अस्तपाल बेड, दवाइयाँ और ऑक्सीजन जैसी सुविधाएँ भी कम पड़ गई थीं। ऑक्सीजन समय पर नहीं मिलने से बड़ी संख्या में लोगों की मौतें हुईं। अस्पतालों में तो लाइनें लगी ही थीं, श्मशानों में भी ऐसे ही हालात थे। इस बीच गंगा नदी में तैरते सैकड़ों शव मिलने की ख़बरें आईं और रेत में दफनाए गए शवों की तसवीरें भी आईं।

इन्हीं आशंकाओं के बीच जब छह राज्यों में संक्रमण के मामले बढ़ते दिखे तो स्वास्थ्य मंत्रालय सचेत हुआ। उन राज्यों- केरल में क़रीब 13 हज़ार, अरुणाचल प्रदेश में 250, त्रिपुरा में 450, ओडिशा में 3300, छत्तीसगढ़ में 400 और मणिपुर में क़रीब 600 नये केस हर रोज़ आ रहे हैं। 

स्वास्थ्य मंत्रालय ने कहा है कि ये टीमें संबंधित राज्यों के सामने आने वाली चुनौतियों और मुद्दों को समझकर और बाधाओं को दूर करके राज्यों में चल रही गतिविधियों को मज़बूत करेंगी। दो सदस्यीय उच्च स्तरीय टीम में एक चिकित्सक और एक सार्वजनिक स्वास्थ्य विशेषज्ञ शामिल हैं।

स्वास्थ्य मंत्रालय ने कहा है, 'मणिपुर की टीम का नेतृत्व ईएमआर के अतिरिक्त डीडीजी और निदेशक डॉ. एल स्वास्तिचरण करेंगे, अरुणाचल प्रदेश की टीम का नेतृत्व एआईआईएच एंड पीएच के प्रोफेसर डॉ. संजय साधुखान, त्रिपुरा के लिए  एआईआईएच एंड पीएच के प्रोफेसर डॉ. आरएन सिन्हा, केरल के लिए पब्लिक हेल्थ स्पेशलिस्ट ग्रेड II, RoHFW की डॉ. रुचि जैन, ओडिशा के लिए AIIH&PH के पब्लिक हेल्थ स्पेशलिस्ट डॉ. ए डैन, और छत्तीसगढ़ के लिए एम्स रायपुर के असिस्टेंट प्रोफेसर डॉ. दिबाकर साहू नेतृत्व करेंगे।

देश से और ख़बरें

स्वास्थ्य मंत्रालय ने कहा है कि ये टीमें कोरोना से जुड़े हर पहलू पर ध्यान देंगी। चाहे वह जाँच हो या निगरानी और कंटेनमेंट को लेकर संचालन, कोरोना प्रोटोकॉल का पालन हो या, अस्पताल बेड, एंबुलेंस, वेंटिलेटर, ऑक्सीजन सप्लाई, टीकाकरण आदि वे सब पर नज़र रखेंगी।

स्वास्थ्य मंत्रालय के इस निर्णय से पहले आज ही यह ख़बर आई है कि देश में कोरोना से मरने वालों की आधिकारिक संख्या 4 लाख से ज़्यादा हो गई है। बता दें कि क़रीब एक हफ़्ते पहले ही स्वास्थ्य मंत्रालय ने कहा था कि डेल्टा प्लस वैरिएंट के मामले 10 से ज़्यादा राज्यों में मिले हैं। स्वास्थ्य मंत्रालय के अनुसार तब उन राज्यों में इस नये वैरिएंट के 50 मामले दर्ज किए गए। इसके बाद से ही आशंका जताई जा रही है कि अगले एक-दो महीने में कोरोना की तीसरी लहर आ सकती है। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें