loader

चीनी सेना गोगरा और हॉट स्प्रिंग्स नहीं, सिर्फ गलवान घाटी से पीछे हटी है?

क्या भारत और चीन के बीच घटता तनाव सिर्फ दिखावा है? क्या सीमा पर ऊपर से दिखने वाली शांति छलावा है? क्या दोनों देशों की सेनाओं में फिर टकराव होगा? 
ये सवाल इसलिए उठ रहे हैं कि पीपल्स लिबरेशन आर्मी ने लद्दाख के हॉट स्प्रिग्स इलाक़े से अपने सैनिकों को पीछे हटाने से इनकार कर दिया है। पहले दोनों देशों के कमांडर स्तर की बातचीत में यह तय हुआ था कि गलवान घाटी, गोगरा और हॉट स्प्रिंग्स से दोनों सेनाएं पीछ हटेंगी और पूरे इलाक़े को खाली कर देंगी।
देश से और खबरें

गोगरा में बनी हुई हैं चीनी सेना

पर ऐसा नहीं हुआ। चीनी सेना ने गलवान घाटी तो खाली कर दिया, पर हॉट स्प्रिंग्स से पीछे नहीं हट रही है। यह वह इलाक़ा जहाँ चीन ने वास्तविक नियंत्रण रेखा पर भारतीय नियंत्रण के कई किलोमीटर अंदर तक अपने सैनिकों को भेज दिया था। यानी, कई किलोमीटर का भारतीय इलाक़ा अभी भी पीपल्स लिबरेशन आर्मी के कब्जे है और वह वहां से पीछे नहीं हट रही है।
chinese army refuses to vacate gogra and hot springs - Satya Hindi
गोगरा-हॉट स्प्रिंग्स में अभी भी डटी हुई है चीनी सेना।चाइनीज़ मिलिटरी.कॉम
याद दिला दें कि 6 जून और 22 जून को चुसुल में चीनी चौकी पर उत्तरी कमान के 16वें कोर के कमांडर लेफ़्टीनेंट जनरल हरिंदर सिंह और चीन के शिनजियांग सैन्य ज़िले के कमांडर मेजर जनरल लिन लिउ के बीच कई घंटे की बातचीत हुई थी। विशेष रूप से 22 जून को 11 घंटे की बातचीत के बाद यह तय हुआ था कि गलवान, गोगरा और हॉट स्प्रिंग्स से दोनों देशों की सेनाएं पीछे हटेंगी, अपने पहले की स्थिति तक लौट आएंगी।

वादा से मुकरा चीन?

यह भी तय हुआ था कि दोनों सेनाएं 2-2 किलोमीटर पीछे हटेंगे और इस तरह खाली किए हुए 4 किलोमीटर में बफ़र ज़ोन बनेगा, जिस पर किसी का नियंत्रण नहीं होगा, कोई गश्त भी नहीं करेगा।
पर ऐसा नहीं हुआ। मशहूर रक्षा विशेषज्ञ अजय शुक्ल ने वाणिज्य अख़बार बिज़नेस स्टैंडर्ड में लिखा है कि पैट्रोलिंग प्वाइंट 17 ए पर दोनों सेनाएं बिल्कुल एक-दूसरे के सामने खड़ी हैं, आँखों में आँखे डाले हुए। यह चांग चेनमो नदी के पास का इलाक़ा है। यही स्थिति पीपी-15 की भी है।
बफ़र ज़ोन बनाने पर भी चीन राजी नहीं है, इसका मतलब यह है कि वह पूरे इलाक़े पर गश्त करना चाहता है और इस तरह भविष्य में अपनी सुविधा के अनुसार यहाँ घुसपैठ करने की संभावना खुली रखना चाहता है।

पीछे नहीं हटेगा चीन

अख़बार में अजय शुक्ला लिखते हैं 'यहां से थोड़ी ही दूर पर स्थित गोगरा में 1,500 चीनी सैनिक मोर्चा संभाले हुए हैं। यह इलाक़ा वास्तविक नियंत्रण रेखा से 2 किलोमीटर अंदर है।' इस पूरे मामले में सबसे ख़तरनाक पहलू यह है - 'पीपल्स लिबरेशन आर्मी ने साफ़ शब्दों में कह दिया है कि वह एक इंच भी पीछे नहीं हटेगी क्योंकि यह उसका इलाक़ा है।'
अजय शुक्ला का तर्क है कि भारत-चीन बातचीत और समझौते की शर्तें चीन को फ़ायदा पहुँचाने वाली है, भारत के ख़िलाफ़ हैं। इस सहमति के मुताबिक़, दोनों सेनाओं ने 1-1 किलोमीटर पीछे अपने सैनिक वापस बुलाए तो फायदा चीन को है क्योंकि वह भारतीय सीमा के  2-4 किलोमीटर अंदर तक घुसा है। 
इस तरह पीछे हट कर भी चीनी सेना भारतीय इलाक़े में ही है। इसी तरह पूरा बफ़र ज़ोन भारतीय सरज़मीन पर ही बनेगा, क्योंकि चीन इस इलाके को ही खाली कर रहा है।

चीन का तोपखाना

चीन की आक्रामकता और तैयारी में कोई  कमी नहीं है, वह पहले से अधिक तैयार लगता है। इसे इससे समझा जा सकता है कि गोगरा के पार चीनी नियंत्रण वाले इलाक़े में भारी तादाद में चीन सैनिक जमा हैं। अख़बार के मुताबिक़, 'वे पैट्रोलिंग प्लाइंट 18, 19, 20, 21, 22 और 23 के उस पार हैं। इसके अलावा चीन ने अपनी आर्टिलरी यानी तोपखाने को पीपी-19 के पास पहुँचा दिया है।' 
अख़बार आगे लिखता है, 'चीन ने डेपसांग और पैंगोग त्सो इलाक़े को खाली करने से साफ़ मना कर दिया है। वह पैंगोंग त्सो में 12-15 किलोमीटर और डेपसांग में 8 किलोमीटर भारतीय सीमा के अंदर है। इस पर तो वह बात करने को ही तैयार नहीं है।'
chinese army refuses to vacate gogra and hot springs - Satya Hindi
चीन ने अपनी तोपें भी तैनात कर रखी है। चाइनीज़ मिलिटरी.कॉम

बदली हुई एलएसी!

यदि चीन पैंगोंग त्सो और डेपसांग से पीछे नहीं ही हटता है तो पूर्वी लद्दाक के बड़े हिस्से पर उसका कब्जा हो जाएगा।
इससे वास्तविक नियंत्रण रेखा बदल जाएगी। यह डेपसांग में 12-15 किलोमीटर अंदर पीपी 10, 11,11 ए, 12,13 तक सिमट जाएगी। वास्तविक नियंत्रण रेखा गलवान घाटी में 2-4 किलोमीटर अंदर पीपी -15, 17 और 17 ए तक आ जाएगी।
इसी तरह यह पैंगोंग त्सो के उत्तरी किनारे पर 8 किलोमीटर अंदर आ जाएगी। कुल मिला कर अंतिम परिणति यह होगी इस बार चीन भारत की ज़मीन पर कब्जा करने में कामयाब हो जाएगा।
पर्यवेक्षकों का मानना है कि चीन ने इस बार यह इसलिए किया कि वह भारत को अक्साइ चिन से दूर रखना चाहता है। इस इलाके से ही उसका अहम शिनजियांग-तिब्बत हाईवे गुजरता है। इस पर पकड़ बनाए रखने के लिए ही उसने दौलत बेग ओल्डी को डेपसांग से जोड़ने वाली सड़क को काट दिया है।

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
प्रमोद मल्लिक
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें