loader

कमर्शल एलपीजी सिलेंडर फिर महंगा, मार्च से बढ़ रहीं कीमतें


बढ़ती महंगाई के बीच 19 किलो वाले कमर्शल एलपीजी सिलेंडर के रेट 1 मई से 102.50 रुपये बढ़ गए हैं। इस सिलेंडर की कीमत दिल्ली में  2355.50 रुपये होगी। अभी तक यह 2253 रुपये का मिल रहा था। इसी तरह 5 किलो रसोई गैस वाले सिलेंडर का रेट अब 655 रुपये हो गया है। पेट्रोल-डीजल महंगा होने की वजह से महंगाई वैसे ही आसमान छू रही है। लेकिन कमर्शल एलपीजी सिलेंडर की बढ़ोतरी का असर भी आखिरकार उपभोक्ता के जेब पर ही पड़ना है। सरकार ने 1 अप्रैल 2022 को 19 किलो वाले कमर्शल एलपीजी के रेट में 250 रुपये की बढ़ोतरी की थी। इससे पहले 1 मार्च को भी 105 रुपये की बढ़ोतरी कमर्शल सिलेंडर में की गई थी।

ताजा ख़बरें
5 किलो एलपीजी सिलेंडर का इस्तेमाल गरीब तबका करता है। ऐसे तबके के पास न तो राशन कार्ड होता है और न ही बड़ा सिलेंडर लेने के लिए उनके पास जरूरी दस्तावेज होते हैं। वो लोग 5 किलो वाले एलपीजी सिलेंडर खरीदते हैं। बाजार में ये आसानी से मिलता है और इसमें भरने वाली एलपीजी कमर्शल रेट पर ही दुकानदार भरते हैं। यूपी, बिहार, उड़ीसा, बंगाल का कामकाजी वर्ग जहां भी रहता है, उनमें 5 किलो वाला एलपीजी सिलेंडर बहुत पॉपुलर है। कमर्शल एलपीजी सिलेंडर का इस्तेमाल आमतौर पर होटलों, रेस्तरां, वाहनों और कारोबारी संस्थानों में होता है। इससे होटल और रेस्टोरेंट में खाने-पानी की चीजें और महंगी हो जाएंगी।
देश से और खबरें
खाने-पीने की चीजें पहले से ही महंगी और उसने आम लोगों की जिन्दगी मुहाल कर दी है। ख़ुदरा महंगाई मार्च में 16 माह के रिकॉर्ड 6.95 फ़ीसदी पर और थोक महंगाई 4 माह के रिकॉर्ड पर 14.55 फ़ीसदी हो चुकी है। सरकार ने भी जो महंगाई का आँकड़ा जारी किया है उसमें खाने वाली चीजों की महंगाई काफी ज़्यादा नज़र आती है। मार्च महीने में आलू के थोक आधारित महंगाई दर में जबरदस्त उछाल आया। आलू की महंगाई दर 14.78 फ़ीसदी से बढ़कर 24.62 फ़ीसदी पर जा पहुंची है। कुल मिलाकर मार्च महीने में खाद्य महंगाई दर 8.47 फ़ीसदी से बढ़कर  8.71 फ़ीसदी पर जा पहुंची है।मार्च महीने में कुल खुदरा महंगाई दर 6.95 फ़ीसदी रही है। यह लगातार तीसरा महीना है जब महंगाई दर रिजर्व बैंक द्वारा तय सीमा से ऊपर है। आरबीआई ने इस महंगाई को 6 प्रतिशत की सीमा के अंदर रखने का लक्ष्य रखा है। यानी मौजूदा महंगाई दर ख़तरे के निशान के पार है।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें