loader

कांग्रेस : स्मृति ईरानी, पीयूष गोयल को तुरन्त बर्ख़ास्त करो

मुख्य विपक्षी दल कांग्रेस ने कपड़ा मंत्री स्मृति ईरानी और वाणिज्य मंत्री पीयूष गोयल को तुरन्त बर्खास्त करने की माँग प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से की है। 

कांग्रेस का कहना है कि इन दो मंत्रियों को बर्ख़ास्त कर प्रधानमंत्री को एक नज़ीर पेश करनी चाहिए कि वह डॉक्टरों, नर्सों और दूसरे स्वास्थ्यकर्मियों की सेहत के साथ खिलवाड़ करने वालों के साथ किस तरह सख़्ती से निपट सकते हैं। 

कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सिंह सुरजेवाला ने मोदी से कहा, 'स्मृति ईरानी और पीयूष गोयल को बर्ख़ास्त कर आप देश को यह दिखा दीजिए कि स्वास्थ्य कर्मियों की सेहत के साथ खिलवाड़ करने वालों के साथ आप किस तरह सख़्ती से निपट सकते हैं।' 
उन्होंने कहा कि प्रोटेक्शन वेयर मैन्युफ़ैक्चरर्स एसोसिएशन के बार-बार कहने के बावजूद  स्वास्थ्य और कपड़ा मंत्रालयों ने 1 फरवरी और 2 मार्च के बीच यह तय नहीं किया कि पर्सनल प्रोटेक्शन इक्विपमेंट किस तरह के होंगे। सुरजेवाला ने कहा :

'वाणिज्य मंत्री ने मास्क, कवरऑल और वेंटीलेटर का निर्यात 19 मार्च तक होने दिया जबकि देश में इन चीजों की किल्लत हो गई थी। ये चीजें कब तक उपलब्ध हो जाएंगी, इसका एक निश्चित समय बताएं।'


रणदीप सिंह सुरजेवाला, प्रवक्ता, कांग्रेस

'द कैरेवन' ने अपनी एक रिपोर्ट में कहा है कि विश्व स्वास्थ्य संगठन ने समय रहते ही यानी 3 हफ़्ते पहले ही भारत को आगाह कर दिया था कि कोरोना संक्रमण फैल सकता है और इसे रोकने के लिए समय रहते ही भारत पर्याप्त संख्या में पर्सनल प्रोटेक्टिव उपकरणों का इंतजाम कर ले।
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने जिस दिन पूरे देश में जनता कर्फ़्यू लगाने का एलान किया, उसके एक दिन बाद ही सरकार ने इन उपकरणों के निर्यात पर रोक लगाई। यानी सरकार ने 19 मार्च को इन उपकरणों के निर्यात पर रोक लगाई।
बता दें कि विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्लूएचओ) की चेतावनी के बावजूद केंद्र सरकार ने कोरोना वायरस संक्रमण रोकने के लिए मास्क, दस्ताने और गाऊन जैसे प्रोटेक्टिव उपकरण एकत्रित करने की कोई कोशिश नहीं की। इसके उलट सरकार ने इसके निर्यात पर कोई रोक नहीं लगाई, जिस वजह से इसकी कमी हो गई और कीमत आसमान छूने लगी।
Satya Hindi Logo Voluntary Service Fee स्वैच्छिक सेवा शुल्क
गोदी मीडिया के इस दौर में पत्रकारिता को राजनीति और कारपोरेट दबावों से मुक्त रखने और 'सत्य हिन्दी' को आर्थिक रूप से आत्मनिर्भर बनाने के लिए आप हमें स्वैच्छिक सेवा शुल्क (Voluntary Service Fee) चुका सकते हैं। नीचे दिये बटनों में से किसी एक को क्लिक करें:
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें