loader

दिल्ली-मेरठ रेल कॉरिडोर का ठेका चीनी कंपनी को सौंपना घुटने टेकने जैसा: प्रियंका

दिल्ली-मेरठ सेमी हाई स्पीड रेल कॉरिडोर का ठेका एक चीनी कंपनी को देने पर कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने मोदी सरकार पर जोरदार हमला बोला है। प्रियंका ने गुरुवार को ट्वीट कर कहा, ‘हमारे 20 जवान शहीद हुए हैं। ऐसे में केंद्र सरकार को मजबूत संदेश देना चाहिए लेकिन सरकार ने दिल्ली-मेरठ सेमी हाईस्पीड रेल कॉरिडोर का ठेका एक चीनी कंपनी को सौंप कर घुटने टेकने जैसी रणनीति अपनाई है।’

प्रियंका ने कहा है कि तमाम भारतीय कंपनियां भी इस कॉरिडोर को बनाने के काबिल हैं।

लद्दाख में भारतीय जवानों के शहीद होने के बाद प्रियंका ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से पूछा था, ‘हमारी ज़मीन, हमारी संप्रभुता के लिए ख़तरा पैदा किया जा रहा है, हमारे सैनिक और अफ़सर शहीद हो रहे हैं और क्या हम सिर्फ़ शांत रहने वाले हैं।’ प्रियंका ने कहा था कि देश के लोगों को सच बताया जाना चाहिए। उन्होंने कहा था कि मोदी जी, यह चीन के ख़िलाफ़ खड़े होने का वक्त है। 
ताज़ा ख़बरें

लद्दाख में शहीद हुए भारतीय जवानों को लेकर गुरुवार को ही राहुल गांधी ने मोदी सरकार से सवाल पूछा है कि हमारे निहत्थे जवानों को वहां शहीद होने क्यों भेजा गया। कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष ने यह भी पूछा है कि चीन ने हमारे निहत्थे जवानों को मारने की जुर्रत कैसे की? 

इससे पहले बुधवार शाम को राहुल गांधी ने रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह को ट्विटर पर घेरते हुए कई सवाल पूछे थे। राहुल ने राजनाथ सिंह के लद्दाख में जवानों की शहादत पर दुख जताने वाले ट्वीट के जवाब में पूछा था, ‘अगर भारतीय जवानों का शहीद होना पीड़ादायक है तो आपने अपने ट्वीट में चीन का नाम क्यों नहीं लिया है। आपको सांत्वना व्यक्त करने में 2 दिन क्यों लगे? जब जवान शहीद हो रहे हैं तो आप चुनावी रैलियां क्यों कर रहे हैं।’
देश से और ख़बरें

केरल के वायनाड से सांसद राहुल गांधी ने राजनाथ सिंह से पूछा था कि वे क्रोनी मीडिया का सहारा लेकर सेना पर क्यों दोष मढ़ रहे हैं और क्यों छिप रहे हैं। उन्होंने मीडिया के एक वर्ग पर जोरदार हमला बोलते हुए कहा था कि पेड मीडिया भारत सरकार के बजाय सेना को क्यों दोष दे रहा है?

इससे पहले भी भारत-चीन के बीच चल रहे सीमा विवाद को लेकर राहुल गांधी ने ट्वीट कर राजनाथ सिंह से पूछा था कि क्या चीन ने लद्दाख में भारतीय इलाक़े पर कब्जा कर लिया है? राहुल ने केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह के उस बयान पर भी तंज कसा था, जिसमें उन्होंने भारत की सीमाओं की रक्षा करने का दावा किया था। 
सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें