loader

कोरोना के मई में 'पीक' पर पहुँचने की जानकारी केंद्र को थी, क्या किया?

केंद्र सरकार भले ही यह दावा करे कि कोरोना अभूतपूर्व महामारी है और किसी को यह अनुमान नहीं था कि यह ऐसे कहर ढाएगा, सच तो यह है कि उसे उसकी ओर से ही गठित विशेषज्ञों की एक कमेटी ने पहले ही आगाह कर दिया था कि कोरोना संकट बहुत तेज़ी से बढ़ेगा और मई महीने के बीचोबीच यह चरम पर होगा, यानी उस समय तक कोरोना के मामले बढ़ते रहेंगे।

सवाल यह है कि क्या केंद्र सरकार ने इसे गंभीरता से लिया और महामारी को रोकने या उससे निबटने के लिए कुछ किए?

विशेषज्ञों ने दी थी चेतावनी

'एनडीटीवी' ने आईआईटी हैदराबाद के प्रोफेसर और कोविड-19 सुपरमॉडल कमेटी के प्रमुख डा. एम विद्यासागर के हवाले से यह दावा किया है कि केंद्र सरकार को 2 अप्रैल को ही यह आगाह कर दिया गया था कि कोरोना के नए मामले रोज़ाना बढ़ेंगे और 15 मई से 22 मई के बीच रोजाना कोरोना के मामले 1.2 लाख तक पहुँच सकते हैं।

ख़ास ख़बरें

प्रोफ़ेसर विद्यासागर ने 'एनडीटीवी' से यह भी कहा कि बाद में 'पीक' का समय मई के पहले हफ्ते में कर दिया गया। डॉ. विद्यासागर ने कहा कि कोई भी देख सकता है कि 13 मार्च तक कोरोना के केस का ग्राफ़ ऊपर चढ़ने लगा था। लेकिन उस समय इतने आँकड़े नहीं थे कि आगे की भविष्यवाणी की जाती। 

सरकार को यह जानकारी दे दी गई थी कि रोज़ाना सामने आने वाले कोरोना मामले 8 मई तक 'पीक' यानी अपने सर्वोच्च स्तर पर पहुँच सकते हैं। यह भी कहा गया था कि 14 से 18 मई तक एक्टिव केस 38 से 44 लाख के बीच हो सकते हैं। 

डॉ. विद्यासागर ने 'एनडीटीवी' से कहा कि शुरुआती अनुमान 15 से 22 मई के बीच था और क्योंकि ऐसे कुछ समाधान लागू किए जा सकते हैं, जिनका नतीजा आने में 3 से 4 महीने का समय लग सकता है। 

daily corona cases, coronavirus peak in may, govt told - Satya Hindi

क्या किया सरकार ने?

सवाल तो यह उठता है कि जब केंद्र सरकार को कोरोना विस्फोट की जानकारी थी तो उसने क्या किया। क्या सरकार ऑक्सीजन आपूर्ति के लिए क्रायोजेनिक टैंकर या ऑक्सीजन रखने के लिए बड़े कैनिस्टर का इंतजाम नहीं कर सकती थी? 

यदि इसे बनाना मुमकिन नहीं था तो क्या सिंगापुर, वियतनाम या इंडोनेशिया जैसे देशों से इसे मंगाया नहीं जा सकता था? सवाल यह उठता है कि कुछ अस्पतालों में ऑक्सीजन संयंत्र लगाए नहीं जा सकते थे?

सवाल यह भी है कि क्या चीन से कुछ मदद नहीं ली जा सकती थी क्योंकि चीन कोरोना महामारी की दूसरी लहर से गुजर चुका था और उसने उसे बखूबी संभाला था, जिसकी तारीफ विश्व स्वास्थ्य संगठन और अमेरिका जैसे प्रतिद्वंद्वी तक ने की थी? 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें