loader

विवादास्पद सुरेश चव्हाणके पर कोर्ट ने कार्रवाई रिपोर्ट माँगी 

दिल्ली की एक अदालत ने गुरुवार को दक्षिण-पूर्वी दिल्ली के गोविंदपुरी इलाके में एक कार्यक्रम में सांप्रदायिक और विभाजनकारी भाषण देने के लिए सुदर्शन टीवी के प्रधान संपादक सुरेश चव्हाणके के खिलाफ दायर एक याचिका पर पुलिस से कार्रवाई रिपोर्ट (एटीआर) मांगी है।

वेलफेयर पार्टी ऑफ इंडिया के अध्यक्ष डॉ एसक्यूआर इलियास ने यह केस दायर किया था। उनका बेटा, जेएनयू का पूर्व छात्र उमर खालिद, वर्तमान में दिल्ली दंगों से संबंधित यूएपीए मामले में न्यायिक हिरासत में है, जिसमें एक सत्र अदालत उसकी जमानत याचिका पर सुनवाई कर रही है।

ताज़ा ख़बरें

साकेत कोर्ट के मेट्रोपोलिटन मजिस्ट्रेट जितेंद्र प्रताप सिंह ने सुदर्शन टीवी और सुरेश चव्हाणके मामले की अगली सुनवाई के लिए 15 मार्च की तारीख तय की है।

कोर्ट में दायर अर्ज़ी  में कहा गया है कि 19 दिसंबर, 2021 को गोविंदपुरी मेट्रो स्टेशन पर हिंदू युवा वाहिनी द्वारा आयोजित एक कार्यक्रम हुआ। उसमें कहा गया कि आरोपी (सुरेश चव्हाणके) को भारत को "हिंदू राष्ट्र" बनाने के लिए लोगों के एक समूह को "मरने और मारने" के लिए "शपथ लेते हुए" देखा गया था। 

कोर्ट से माँग की गई थी कि चव्हाणके के खिलाफ "भाषण देने और सांप्रदायिक, विभाजनकारी, आग लगाने वाले और घृणास्पद भाषण देने वाले बयान देने के लिए एफआईआर दर्ज की जाए। कहा गया कि इस तरह की आग लगाने वाली टिप्पणियों में कुछ समुदायों से संबंधित लोगों के बीच तनाव पैदा करने की प्रवृत्ति बढ़ेगी और सीधे हिंसा को भी भड़काएँगी।”

देश से और ख़बरें

इसमें यह भी कहा गया है कि घटना के तुरंत बाद चव्हाणके अपने ट्विटर हैंडल से "एक ही सपना हिंदू राष्ट्र" नामक एक हिंदी हैशटैग को बढ़ावा देते दिखे।

कोर्ट से यह भी कहा गया है कि "मौजूदा मामले में किसी प्रारंभिक जांच की आवश्यकता नहीं है क्योंकि सार्वजनिक कार्यक्रमों के दौरान आरोपी व्यक्तियों द्वारा भड़काऊ, सांप्रदायिक और घृणास्पद भाषण दिए गए थे और उसी के वीडियो सार्वजनिक डोमेन में हैं"।

इसमें कहा गया है कि यह जरूरी है कि चव्हाणके को भड़काऊ बयानों के लिए जिम्मेदार ठहराते हुए और हिंसा की किसी भी घटना को रोकने के लिए उनके खिलाफ कार्रवाई की जाए।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें