loader

नवरीत के परिवार को एक्स-रे, जाँच रिपोर्ट दे यूपी पुलिस: दिल्ली HC 

दिल्ली में गणतंत्र दिवस पर ट्रैक्टर रैली के दौरान मारे गए किसान नवरीत सिंह की मौत के मामले में दिल्ली हाई कोर्ट से यूपी पुलिस को झटका लगा है। अदालत ने यूपी पुलिस को निर्देश दिया है कि वह मूल एक्स-रे, पोस्टमार्टम वीडियो और जाँच रिपोर्ट सहित महत्वपूर्ण केस सामग्री मृतक के परिवार को सौंपे। अदालत का यह फ़ैसला नवरीत के दादा की ओर से दायर की गयी याचिका पर आई है। नवरीत के दादा शुरू से आरोप लगाते रहे हैं कि पुलिस द्वारा दागी गई गोली नवरीत के सिर में लगी थी और इसके बाद ही ट्रैक्टर पलटा था।

26 जनवरी को किसान संगठनों ने ट्रैक्टर परेड का आयोजन किया था। इसमें नवरीत भी ट्रैक्टर लेकर पहुँचे थे। प्रदर्शन के दौरान आईटीओ के पास ही उनकी मौत हो गई थी। जब आरोप लगे कि पुलिस की गोली लगने से नवरीत की मौत हुई है तो वारदात के बाद दिल्ली पुलिस ने एक वीडियो फुटेज जारी किया था, जिसमें यह देखा जा सकता है कि पुलिस बैरिकेड के पास एक ट्रैक्टर पलट जाता है। तब पुलिस ने दावा किया था कि पुलिस बैरिकेड तोड़ने के प्रयास में ट्रैक्टर पलट गया था और इस दुर्घटना में नवरीत की मौत हो गई। 

लेकिन नवरीत के घर के लोगों ने प्रत्यक्षदर्शियों के हवाले से कहा था कि ट्रैक्टर पलटने से पहले उसे गोली मारी गई थी। 

ताज़ा ख़बरें

नवरीत के दादा हरदीप सिंह डिबडिबा ने घटना के कुछ दिन बाद ही 'द वायर' से कहा था, 'डॉक्टरों ने हमसे कहा कि उन्होंने गोली से हुआ घाव देखा था, हमने शांतिपूर्वक अंतिम संस्कार कर दिया। पर हमारे साथ धोखा हुआ है, पोस्टमार्टम रिपोर्ट में यह लिखा हुआ नहीं है। डॉक्टर ने तो हमसे यह भी कहा कि वे कुछ कर नहीं सकते, उनके हाथ बंधे हुए थे।'

इसी मामले में न्याय के लिए नवरीत के दादा ने हाई कोर्ट का दरवाजा खटखटाया। उन्होंने याचिका में आरोप लगाया कि पुलिस की गोली लगने के बाद ट्रैक्टर पलटा था। याचिका में उन्होंने अदालत की निगरानी में जाँच की माँग की थी जिससे घटना में सचाई सामने आए। 

पिछली सुनवाई में अदालत ने मामले में नोटिस जारी किया था और दिल्ली सरकार को घटना पर एक विस्तृत स्टेटस रिपोर्ट दाखिल करने की अनुमति दी थी। वकील राहुल मेहरा ने आज अदालत को बताया कि मामले में स्थिति रिपोर्ट दायर की गई है। मेहरा ने पहले कहा था कि संबंधित दस्तावेज मृतक के परिवार को देने में उन्हें कोई हिचकिचाहट नहीं है।

मृतक के परिवार की ओर से कहा गया है कि उन्होंने अदालत के पिछले आदेश के बाद इस संबंध में यूपी पुलिस से कई बार अनुरोध किए थे, लेकिन उन्हें संबंधित रिपोर्ट नहीं सौंपी गई थी। उन्होंने यूपी के एक पुलिस अधीक्षक से इस प्रक्रिया में असहयोग करने का दावा किया।

यूपी पुलिस और मुख्य चिकित्सा अधिकारी के सामने वकील गरिमा प्रसाद ने हालाँकि इस दावे का खंडन करते हुए कहा, 'हम जांच रिपोर्ट और पोस्टमार्टम रिपोर्ट पहले ही उपलब्ध करा चुके हैं और कुछ भी उपलब्ध कराने के लिए तैयार हैं।'

उन्होंने कहा, 'केवल एक्स-रे प्लेट नहीं दी गई हैं, यह एक रिपोर्ट नहीं है, यह एक प्लेट है, जो अस्पताल में पड़ी है और पोस्टमार्टम की मूल रिकॉर्डिंग है। हम कभी भी इसे मुहैया करने के लिए तैयार हैं।' 

देश से और ख़बरें

बता दें कि इस मामले में लंदन के मशहूर अख़बार 'द गार्डियन' ने भी एक रिपोर्ट छापी थी जिसमें विशेषज्ञों के हवाले से कहा गया था कि लगता है कि गोली लगने के संकेत हैं। अख़बार ने साक्ष्यों की समीक्षा एक बड़े डॉक्टर से करवायी और एक रिपोर्ट छापी थी। इस रिपोर्ट में लिखा था कि नवरीत के शरीर की फ़ोटोग्राफ़िक व वीडियो फुटेज और पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट में संकेत मिलता है कि सिर में कम से कम एक गोली का घाव घातक था।

अख़बार की रिपोर्ट के अनुसार इंग्लैंड में सरकारी डॉक्टर डॉ. बेसिल पर्ड्यू ने वीडियो फुटेज और पोस्टमॉर्टम की जाँच कर कहा था, 'मैं कहूँगा कि यह एक बंदूक की गोली का घाव है, संभवतः दो, जब तक अन्यथा साबित न हो।' उन्होंने कहा कि यह बहुत ही अविश्वसीनय है कि नवरीत ट्रैक्टर पलटने से मरे। उन्होंने कहा, 'गिरने से आपको ऐसे घाव नहीं हो सकते।'

ख़ास ख़बरें

घटनास्थल के वीडियो में दावा

घटनास्थल पर किसानों ने सबसे पहले आरोप लगाया था कि नवरीत को एक गोली लगी थी। ‘द गार्डियन’ की रिपोर्ट में कहा गया है कि एक स्थानीय पंजाबी टीवी स्टेशन के वीडियो में हंगामा होता दिख रहा है। उसमें लोग वह कह रहे हैं जो उन्होंने देखा। एक महिला ने कहा, 'उन पुलिसकर्मियों ने उसे गोली मार दी, चेहरे पर गोली मार दी, वह तुरंत मर गया'। एक शख्स ने कहा, 'पहले उसे गोली मार दी गई, फिर ट्रैक्टर पलट गया।' एक युवा सिख मृतक की पहचान करता है: 'नवरीत इस लड़के का नाम है। उसे सिर में गोली मारी गई है।'

जैसे ही गोली मारे जाने के आरोप लगने शुरू हुए पुलिस ने घटनास्थल का एक वीडियो फुटेज जारी किया था जिसमें ट्रैक्टर पलटते हुए दिखता है। पुलिस ने दावा किया कि बैरिकेड्स को पार करने के प्रयास में ट्रैक्टर पलट गया और इस हादसे में ही नवरीत की मौत हो गई। पुलिस ने गोली लगने के दावे को खारिज कर दिया। पुलिस ने मीडिया को कहा कि पोस्टमार्टम में गोली लगने का ज़िक्र नहीं है और उसमें मौत का कारण सिर में चोट लगने को बताया गया है। 
सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए


गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें