loader

बैठक कर रहे किसान संगठन, आगे की रणनीति पर मंथन

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के कृषि क़ानूनों को वापस लिए जाने के एलान के बाद देश भर के किसानों में ख़ुशी की लहर है। कई जगहों पर जश्न के साथ ही नारेबाज़ी की जा रही है। इस बीच, शनिवार को पंजाब के 32 किसान संगठन बैठक कर आगे की रणनीति पर विचार कर रहे हैं। इसमें सरकार के एलान के बाद आगे क्या क़दम उठाया जाए, इस पर चर्चा की जा रही है।  

हालांकि किसान नेता राकेश टिकैत ने कहा है कि आंदोलन तत्काल वापस नहीं होगा और किसान उस दिन का इंतजार करेंगे जब कृषि कानूनों को संसद में रद्द किया जाएगा। उन्होंने कहा कि सरकार एमएसपी के साथ-साथ किसानों के दूसरे मुद्दों पर भी बातचीत करे। इन मुद्दों में किसानों पर दर्ज किए गए मुक़दमों सहित खेती-किसानी से जुड़े और बिल भी शामिल हैं। 

ताज़ा ख़बरें

झुकना पड़ा सरकार को 

लंबे वक़्त तक सरकार भी अड़ी रही लेकिन जिस तरह पंजाब, हरियाणा, पश्चिमी उत्तर प्रदेश, राजस्थान और उत्तराखंड के किसानों ने दिल्ली के बॉर्डर्स पर मज़बूती से खूंटा गाड़ दिया था उससे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को भी लगने लगा था कि उन्हें किसानों की मांग माननी ही पड़ेगी।

Farm laws repealed Farmer Unions Will meet today - Satya Hindi
राजनीतिक दलों ने बनाया था दबाव।

किसानों ने बार-बार कहा था कि वे उनकी मांग माने बिना बॉर्डर्स से नहीं हिलेंगे। कई राज्यों के किसानों का समर्थन इस आंदोलन को मिलने और विपक्षी दलों के नेताओं के साथ आने के बाद दिल्ली की हुक़ूमत की मुश्किलें बढ़ गई थीं। 

लेकिन मुंह सामने खड़े पांच राज्यों के चुनाव और इसमें संभावित राजनीतिक नुक़सान को देखते हुए बीजेपी और मोदी सरकार को ये फ़ैसला लेना पड़ा। इस दौरान विपक्ष और किसानों ने सरकार पर जबरदस्त दबाव बना दिया था। 

देश से और ख़बरें

बीजेपी को इस बात का डर था कि किसान आंदोलन के कारण उसे उत्तर प्रदेश, उत्तराखंड और पंजाब के चुनाव में बड़ा सियासी घाटा हो सकता है। शायद इसीलिए संगठन की सलाह पर मोदी सरकार ने यह क़दम उठा लिया। 

प्रधानमंत्री ने कहा है कि किसानों का एक वर्ग लगातार कृषि क़ानूनों का विरोध कर रहा था, इसे देखते हुए ही सरकार इस महीने के अंत में शुरू होने जा रहे संसद सत्र में इन कृषि क़ानूनों को रद्द करने की संवैधानिक प्रक्रिया को पूरा कर देगी। बता दें कि 29 नवंबर से संसद का शीतकालीन सत्र भी शुरू हो रहा है। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें