loader

'जब तक माँगें पूरी नहीं होतीं, सरकार को चैन से नहीं रहने देंगे'

ऐसे समय जब केंद्र सरकार अपनी ज़िद पर अड़ी है कि कृषि क़ानून 2020 किसी सूरत में रद्द नहीं होंगे, किसानों ने इस आन्दोलन को देश के कोने-कोने में ले जाने का फ़ैसला किया है। भारतीय किसान यूनियन के नेता राकेश टिकैत ने करनाल के इंद्रा में हुई किसान महापंचायत में कहा कि जब तक माँगें नहीं मानी जाएंगी, सरकार को शांत होकर बैठने नहीं दिया जाएगा। 

उन्होंने कहा कि कृषि क़ानूनों के ख़िलाफ़ चल रहे किसान आन्दोलन के 40 नेता देश के कोने-कोने में जाएंगे और लोगों के सामने अपनी बातें रखेंगे। 

ख़ास ख़बरें

सरकार की नीयत पर सवाल

राकेश टिकैत ने कहा कि ये कृषि क़ानून जन वितरण प्रणाली को चौपट कर देंगे। इससे किसान ही नहीं, छोटे व्यापारियों, मज़दूरों और समाज के दूसरे तबकों के लोगों को भी आर्थिक नुक़सान होगा। 

भारतीय किसान यूनियन के इस नेता ने सरकार की मंशा पर सवालिया निशान लगाते हुए कहा,

“पहले गोदाम बन गए, उसके बाद क़ानून बनाए गए। क्या किसान यह नहीं जानते कि ये क़ानून बड़े कॉरपोरेट घरानों के हित में हैं? इस देश में भूख पर व्यापार नहीं खड़ा होने दिया जाएगा।”


राकेश टिकैत, अध्यक्ष, भारतीय किसान यूनियन

'किसान हैं एकजुट'

उन्होंने कहा कि आन्दोलन के ‘पंच’ और ‘मंच’ यही रहेंगे, जो भी निर्णय लिया जाएगा, उसे सारे किसान मानेंगे। 

इस महापंचायत में बलबीर सिंह राजेवाल, दर्शन पाल और हरियाणा बीकेयू प्रमुख गुरनाम सिंह चढ़ूनी भी मौजूद थे। 

बता दें कि सितंबर, 2020, में पारित तीन कृषि क़ानूनों को वापस लेने की माँग पर अड़े हज़ारों किसान लगभग ढाई महीने से दिल्ली उत्तर प्रदेश व हरियाणा स्थित दिल्ली की सीमा पर बैठे हुए हैं। उनकी माँग इन तीनों कृषि क़ानूनों को रद्द करने की है, सरकार का कहना है कि वह ज़रूरत पड़ने पर उन नियमों में संशोधन कर सकती है, पर वापस तो किसी कीमत पर नहीं लेगी। किसानों का कहना है कि उन्हें क़ानून वापस लेने से कम कुछ स्वीकार नहीं है।

farmers panchayat : BKU leader rakesh tikait warns government over farm laws - Satya Hindi

किसान महापंचायतों की धूम

किसान महापंचायतें जारी हैं और आने वाले कुछ दिनों में किसान देश के कई और राज्यों में भी महापंचायतें करेंगे।

किसान एकता मोर्चा ने कहा है कि 18 फरवरी को राजस्थान के गंगानगर, 19 फरवरी को हनुमानगढ़ और 23 फरवरी को सीकर में किसान महापंचायत का आयोजन किया जाएगा।

शुक्रवार को बहादुरगढ़ में हुई महापंचायत में आंदोलन की अगुवाई कर रहे किसान एकता मोर्चा ने एक बार फिर साफ किया कि जब तक कृषि क़ानून वापस नहीं होंगे और सरकार एमएसपी को लेकर गारंटी क़ानून नहीं बनाती, तब तक वे अपना आंदोलन समाप्त नहीं करेंगे।

गुजरात में होगी किसान पंचायत

मुरादाबाद के बिलारी में भी किसान महापंचायत हुई। बहादुरगढ़ की किसान महापंचायत में भारतीय किसान यूनियन के राष्ट्रीय प्रवक्ता राकेश टिकैत ने कहा कि किसान प्रधानमंत्री के गृह राज्य गुजरात में बैठकें करने की योजना बना रहे हैं। टिकैत ने कहा कि सरकार को किसानों से बातचीत करनी चाहिए। इस आंदोलन का विस्तार कई राज्यों में हो चुका है और आने वाले दिनों में कई राज्यों में महापंचायतें होंगी। 

इसके पहले मुरादाबाद के बिलारी में हुई किसान महापंचायत में पहुंचे किसान नेता नरेश टिकैत ने कहा था कि किसानों को इस आंदोलन को मजबूत करना चाहिए। उन्होंने कहा था कि यह सरकार किसानों के लिए कुछ नहीं कर रही है। उन्होंने कृषि कानूनों को काला क़ानून बताया और कहा कि सरकार को ये क़ानून वापस लेने ही होंगे।

farmers panchayat : BKU leader rakesh tikait warns government over farm laws - Satya Hindi

यूपी में हलचल

किसान महापंचायतों को लेकर पश्चिमी उत्तर प्रदेश में ज़बरदस्त हलचल है। मुज़फ्फरनगर से लेकर बाग़पत और मथुरा से लेकर बिजनौर और शामली में तक हुई महापंचायतों में बड़ी संख्या में किसान उमड़े हैं। आरएलडी भारतीय किसान यूनियन के साथ मिलकर भी किसान महापंचायतों का आयोजन कर रही है और अब कांग्रेस भी मैदान में उतर आई है। 

 

पश्चिमी उत्तर प्रदेश से लेकर हरियाणा, राजस्थान और उत्तरांखड में हुई महापंचायतों के बाद गुरुवार को लुधियाना के जगराओं में महापंचायत बुलाई गई। इसमें बड़ी संख्या में किसानों के साथ ही आम लोग जुटे और कृषि क़ानूनों के ख़िलाफ़ लड़ाई जारी रखने का एलान किया।

पश्चिमी उत्तर प्रदेश के अमरोहा के अलावा हरियाणा के चरखी दादरी और मेवात में किसान महापंचायतें हुईं और इनमें जितनी बड़ी संख्या में लोग उमड़े हैं, वह यह बताने के लिए काफी है कि इन राज्यों में किसान कृषि क़ानूनों के ख़िलाफ़ लंबी लड़ाई के लिए तैयार हो चुके हैं। 

चरखी दादरी में हुई किसान महापंचायत में 50 हज़ार से ज़्यादा लोग जुटे। संयुक्त किसान मोर्चा के बैनर तले हुई महापंचायत में किसान नेता दर्शन पाल, बलबीर सिंह राजेवाल और राकेश टिकैत पहुंचे। 

farmers panchayat : BKU leader rakesh tikait warns government over farm laws - Satya Hindi

पंजाब

संयुक्त किसान मोर्चे की ओर से बुलाई गई यह महापंचायत जगराओं की अनाज मंडी में हुई। इसमें बड़ी संख्या में महिलाएं, किसान और मजदूर भी शामिल हुए। लुधियाना जिले की कई जगहों के अलावा मोगा और बरनाला से भी लोग महापंचायत में पहुंचे। किसानों के अलावा आढ़तियों की संस्थाओं, व्यापारी संगठनों से जुड़े लोगों ने भी इसमें भाग लिया। 

मेवात के सुनहेड़ा बॉर्डर पर हुई किसान महापंचायत में हरियाणा के साथ ही राजस्थान के किसानों और आम लोगों ने भी भाग लिया। किसान नेता गुरनाम सिंह चढ़ूनी भी महापंचायत में पहुंचे। इसमें किसान नेताओं ने पूरी ताक़त से कृषि क़ानूनों के ख़िलाफ़ लड़ाई लड़ने का आह्वान किया। हरियाणा-राजस्थान के खेड़ा और शाहजहांपुर बॉर्डर पर लंबे वक़्त से किसानों का धरना चल रहा है।
सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें