loader

सरकार का दावा- इस साल के आख़िर तक 216 करोड़ वैक्सीन उपलब्ध होगी

देश में कोरोना वैक्सीन की भारी कमी की शिकायतों के बीच केंद्र सरकार ने दावा किया है कि इस साल के आख़िर तक यानी दिसंबर महीने तक भारत में 200 करोड़ से ज़्यादा वैक्सीन उपलब्ध होगी। इस घोषणा से देश के लिए एक बड़ी उम्मीद जागी है। यह घोषणा सरकार के एक बड़े सलाहकार ने की है। 

नीति आयोग के सदस्य और सरकार के सलाहकार वी के पॉल ने पत्रकारों से कहा, 'भारत के लिए और भारत के लोगों के लिए पाँच महीनों में दो बिलियन खुराक (216 करोड़) देश में बनाई जाएगी। जैसे-जैसे हम आगे बढ़ेंगे, वैक्सीन सभी के लिए उपलब्ध होगी।' इसके साथ ही उन्होंने यह भी कहा कि अगले साल की पहली तिमाही तक कोरोना टीके की यह संख्या 300 करोड़ होने की उम्मीद है।

ताज़ा ख़बरें

अभी इस साल के आख़िर तक जो क़रीब दो सौ करोड़ टीके तैयार होने की उम्मीद जताई गई है उसमें कोविशील्ड की 75 करोड़ खुराक और कोवैक्सीन की क़रीब 55 करोड़ खुराक शामिल है। 

इसके अलावा इसमें भारत के बायोलॉजिकल ई द्वारा विकसित वैक्सीन की 30 करोड़ खुराक, सीरम इंस्टीट्यूट से नोवावैक्स की 20 करोड़ खुराक, स्पुतनिक वी की 15.6 करोड़ खुराक, भारत बायोटेक की नेजल वैक्सीन की 10 करोड़ खुराक, ज़ायडस कैडिला से 5 करोड़ टीके और गेनोवा की 6 करोड़ खुराक शामिल हैं। 

स्पुतनिक वी वैक्सीन के बारे में डॉ. वी के पॉल ने पत्रकारों को कहा है कि रूस की इस वैक्सीन की पहली खेप भारत में आ चुकी है और उम्मीद है कि अगले हफ़्ते से बाज़ार में उपलब्ध हो जाएगी। 

भारत वैक्सीन निर्माण का वैश्विक केंद्र होने के बावजूद यहाँ अब तक पूरी जनसंख्या का 3 प्रतिशत से भी कम पूरी तरह से टीकाकरण हो पाई है। ऐसा इसलिए है कि टीके की कमी के कारण देश में टीकाकरण अभियान धीमा पड़ गया है।

वैक्सीन की कमी के कारण कई राज्यों में टीकाकरण केंद्र बंद किए जाने की शिकायतें आ रही हैं। लोग टीका लेने के लिए उत्सुक हैं लेकिन उन्हें टीके नहीं मिल पा रहे हैं। इसके लिए केंद्र सरकार और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को कई आरोपों का सामना करना पड़ रहा है।

इसी बीच सरकार के सलाहकार ने एक सफ़ाई जारी की है। नीति आयोग के सदस्य वी के पॉल ने कहा, 'टीकाकरण पर राष्ट्रीय तकनीकी सलाहकार समूह ने इस पर चर्चा की और वैज्ञानिकों ने कहा कि यदि कोई व्यक्ति संक्रमित है तो वह एंटीबॉडी विकसित करता है और इससे उसकी सुरक्षा होती है। इसके लिए आँकड़ा है, वैज्ञानिकों का कहना है कि एक व्यक्ति को ठीक होने के 6 महीने बाद टीका लगवाना चाहिए।'

govt says 216 crore coronavirus vaccine will be available by year end - Satya Hindi

दूसरी कंपनियाँ भी बनाएँगी कोवैक्सीन?

अब इंडियन काउंसिल फ़ॉर मेडिकल रिसर्च यानी आईसीएमआर और भारत बायोटेक द्वारा विकसित कोवैक्सीन के फ़ॉर्मूले को दूसरी सक्षम कंपनियों के साथ शेयर करने की बात कही गई है। वीके पॉल ने कहा, 'लोगों का कहना है कि कोवैक्सीन को अन्य कंपनियों को निर्माण के लिए दिया जाए। मुझे यह कहते हुए खुशी हो रही है कि कोवैक्सीन को निर्माण करने वाली कंपनी (भारत बायोटेक) ने इसका स्वागत किया है जब हमने उनके साथ इस पर चर्चा की थी। इस टीके के तहत जीवित वायरस निष्क्रिय हो जाता है और यह केवल बीएसएल 3 प्रयोगशालाओं में किया गया है।'

उन्होंने आगे कहा कि यह हर कंपनी के पास सुविधा नहीं है। उन्होंने कहा, 'हम उन कंपनियों को खुला निमंत्रण देते हैं जो ऐसा करना चाहती हैं। जो कंपनियाँ कोवैक्सीन का निर्माण करना चाहती हैं, उन्हें मिलकर करना चाहिए। सरकार सहायता करेगी ताकि क्षमता बढ़े।' 

देश से और ख़बरें

बता दें कि ऐसे फ़ैसले तब लिए जा रहे हैं जब कोरोना संक्रमण के आंकड़े एक बार फिर बढ़ रहे हैं। बीते 24 घंटों में संक्रमण के 3,62,727 मामले सामने आए हैं। जबकि बीते दिन यह आंकड़ा 3,48,421 था। बीते 24 घंटों में 4,120 लोगों की मौत हुई है और एक बार फिर मौतों का आंकड़ा 4 हज़ार से ज़्यादा होने का मतलब है कि इस महामारी का कहर बहुत ज़्यादा है। बीते 24 घंटों में 3,62,727 लोगों ने इस बीमारी को मात दी है। 

कर्नाटक, महाराष्ट्र, केरल और तमिलनाडु में देश के कुल एक्टिव मामलों के 82.51 फ़ीसदी मामले हैं। इन चारों राज्यों में संक्रमण के साथ ही मौतों के मामले भी ज़्यादा हैं। भारत में कुल एक्टिव मामले 37.10 लाख से ज़्यादा हो गए हैं। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें