loader
एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में बिलकीस बानो और उनका परिवार (फाइल फोटो))

बिलकीस बानो गैंगरेप: 11 दोषी जेल से आए बाहर

गैंगरेप में दोषी करार दिए गए मुजरिमों को आपने कहीं छूटते देखा है? ऐसा गुजरात की बीजेपी सरकार ने कर दिखाया है।  समाचार एजेंसी पीटीआई के मुताबिक 2002 बिलकीस बानो गैंगरेप में सभी 11 आजीवन कारावास के दोषियों को गुजरात सरकार की छूट नीति के तहत गोधरा उप जेल से बाहर आ गए हैं।

खबर के मुताबिक पंचमहल के कलेक्टर सुजल मायात्रा ने कहा, कुछ महीने पहले गठित एक समिति ने मामले के सभी 11 दोषियों को रिहा करने के पक्ष में आमराय से फैसला लिया। राज्य सरकार को सिफारिश भेजी गई थी, और 14 अगस्त रविवार को हमें उनकी रिहाई के आदेश मिले। 
ताजा ख़बरें
21 जनवरी 2008 को मुंबई की विशेष सीबीआई अदालत ने बिलकीस बानो के परिवार के सात सदस्यों से सामूहिक दुष्कर्म और हत्या के आरोप में 11 आरोपियों को उम्रकैद की सजा सुनाई थी। बॉम्बे हाईकोर्ट ने उनकी सजा सुनाने में देरी की थी। 
इन दोषियों ने 15 साल से अधिक जेल की सजा काट ली थी जिसके बाद उनमें से एक ने अपनी समय से पहले रिहाई के लिए सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा खटखटाया था।

पंचमहल की कलेक्टर सुजल मायात्रा ने कहा कि सुप्रीम कोर्ट ने गुजरात सरकार को उनकी सजा में छूट के मुद्दे पर गौर करने का निर्देश दिया था, जिसके बाद सरकार ने एक समिति बनाई थी। उसी सरकारी समिति ने इन लोगों को छोड़ने की सिफारिश की थी।

क्या है बिलकीस बानो केस?

गोधरा में साबरमती ट्रेन को जलाने और कारसेवकों के मारे जाने के बाद गुजरात में बड़े पैमाने पर साम्प्रदायिक हिंसा हुई थी। उस समय नरेंद्र मोदी गुजरात के मुख्यमंत्री थे। गोधरा कांड के बाद हिंसा के दौरान भागते समय 3 मार्च, 2002 को अहमदाबाद के पास रंधिकपुर गाँव में बिलकीस बानो 21 साल की थीं और पाँच महीने की गर्भवती थीं। उनके तीन बच्चे भी मुस्लिम विरोधी दंगों के दौरान मारे गए थे। उनके साथ गैंगरेप की यह घटना हुई थी।
बिलकीस बानो के मामले की सुनवाई शुरुआत में अहमदाबाद में शुरू हुई थी। जब बानो ने गवाहों को नुकसान पहुंचाने की आशंका व्यक्त की, तो सुप्रीम कोर्ट ने अगस्त 2004 में मामले को बॉम्बे हाईकोर्ट में ट्रांसफर कर दिया। 
देश से और खबरें

21 जनवरी, 2008 को, एक विशेष अदालत ने इस घटना के लिए 11 लोगों को दोषी ठहराया और आजीवन कारावास की सजा सुनाई। हालांकि, इसने पुलिसकर्मियों और दो डॉक्टरों सहित सात लोगों को बरी कर दिया, जिन पर सबूतों से छेड़छाड़ करने का आरोप था।

सरकार की छूट नीति का फायदा उठाकर 11 गैंगरेपी दोषी बाहर तो आ गए लेकिन उसी गुजरात में पूर्व आईपीएस संजीव भट्ट तीन वर्षों से जेल में बंद हैं। हर बार हर कोर्ट से उनकी जमानत अर्जी खारिज हो जाती है। इसी तरह सुप्रीम कोर्ट के एक फैसले के बाद एक्टिविस्ट तीस्ता सीतलवाड़ और पूर्व आईपीएस बीआर श्रीकुमार को गुजरात पुलिस ने गिरफ्तार कर जेल में डाल दिया। 
सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें