loader

ज्ञानवापी मस्जिद विवाद: सुप्रीम कोर्ट में आज होगी सुनवाई

ज्ञानवापी मस्जिद विवाद के मामले में शुक्रवार को फिर से सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई होगी। गुरुवार को सुनवाई नहीं हो सकी थी। हालांकि अदालत में मामला आने पर सुप्रीम कोर्ट ने वाराणसी की निचली अदालत को आदेश दिया था कि वह गुरूवार को इस मामले में कोई भी आदेश पास नहीं करे।

एडवोकेट विष्णु शंकर जैन ने अदालत से कहा था कि इस मामले में एडवोकेट हरि शंकर जैन जो निचली अदालत में वादी का पक्ष रख रहे हैं, वह बुधवार को ही हॉस्पिटल से डिस्चार्ज हुए हैं और ऐसे में अनुरोध है कि सुनवाई को शुक्रवार तक के लिए टाल दिया जाए। 

मस्जिद कमेटी की ओर से पेश हुए सीनियर एडवोकेट हुज़ेफा अहमदी ने कहा था कि अगर सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई टाली जाती है तो निचली अदालत में सुनवाई को रोक दिया जाए। 

ताज़ा ख़बरें
इसके बाद सुप्रीम कोर्ट ने निचली अदालत को निर्देश दिया था कि वह इस मामले में कोई आदेश पास ना करे। जस्टिस डीवाई चंद्रचूड़ जस्टिस सूर्यकांत और जस्टिस पीएस नरसिम्हा की बेंच इस मामले में सुनवाई कर रही है।सुप्रीम कोर्ट में ज्ञानवापी मस्जिद की अंजुमन इंतजामिया कमेटी की ओर से याचिका दायर की गई है। उधर, ऑल इंडिया मुसलिम पर्सनल लॉ बोर्ड ने ज्ञानवापी मस्जिद प्रबंधन कमेटी की पूरी मदद करने की बात कही है।
मंगलवार को हुई सुनवाई के दौरान सुप्रीम कोर्ट ने वाराणसी के जिला अधिकारी को आदेश दिया था कि वह इस बात को सुनिश्चित करें कि जहां पर शिवलिंग मिलने का दावा किया गया है, उस इलाके को सुरक्षित कर दिया जाए और मुसलिम समुदाय को भी नमाज पढ़ने से न रोका जाए। 
देश से और खबरें

फव्वारे और शिवलिंग पर विवाद

ज्ञानवापी मस्जिद में सर्वे के बाद से हिंदू और मुस्लिम पक्ष एक नई लड़ाई में उलझ गए हैं। हिंदू पक्ष का कहना है कि मस्जिद के अंदर से जो आकृति मिली है वह शिवलिंग की है जबकि मुस्लिम पक्ष ने साफ कहा है कि यह फव्वारा है।

मुस्लिम पक्ष के वकील रईस अहमद अंसारी ने आज तक से बातचीत में कहा कि शिवलिंग का दावा करने वाला जो वीडियो वायरल हो रहा है वही दृश्य मस्जिद के अंदर दिखा है लेकिन शिवलिंग का दावा गलत है। अंसारी ने कहा कि वह 100 फीसद दावे के साथ कह रहे हैं कि वह फव्वारा है।

सर्वे पूरा होने के बाद भी ज्ञानवापी मस्जिद और इससे सटे काशी विश्वनाथ मंदिर के आसपास सुरक्षा व्यवस्था बेहद कड़ी रखी गई है। प्रशासन ने पूरे इलाके को सील कर दिया है।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें