loader

धर्म संसद: नफ़रती बयानबाज़ी के ख़िलाफ़ 76 वकीलों की सीजेआई को चिट्ठी

हरिद्वार में आयोजित हुई धर्म संसद में मुसलमानों के ख़िलाफ़ की गई नफ़रती बयानबाज़ी के ख़िलाफ़ सुप्रीम कोर्ट के वरिष्ठ वकील आगे आए हैं। 76 ऐसे वकीलों ने सीजेआई एनवी रमना को चिट्ठी लिखी है और उनसे धर्म संसद और दिल्ली में भी आयोजित हुए ऐसे ही कार्यक्रम का संज्ञान लेने को कहा है। सेना और नेवी के पूर्व प्रमुख भी नफ़रती बयानबाज़ी पर ग़ुस्से का इजहार कर चुके हैं। 

हरिद्वार में धर्म संसद 17 से 19 दिसंबर तक आयोजित हुई थी जबकि दूसरा कार्यक्रम दिल्ली में 19 दिसंबर को हुआ था। 

वकीलों ने इस चिट्ठी में उन लोगों के नाम भी लिखे हैं, जिन्होंने मुसलमानों के नरसंहार की बात कही। उन्होंने इस मामले में तुरंत न्यायिक दख़ल देने की मांग सीजेआई से की है। 

ताज़ा ख़बरें
यह चिट्ठी दुष्यंत दवे, प्रशांत भूषण, वृंदा ग्रोवर, सलमान खुर्शीद, पटना उच्च न्यायालय के पूर्व न्यायाधीश अंजना प्रकाश सहित कई नामी वकीलों ने लिखी है। चिट्ठी में कहा गया है कि इन दोनों कार्यक्रमों में केवल नफ़रती भाषण ही नहीं दिए गए बल्कि पूरे समुदाय की हत्या का खुला आह्वान किया गया। 

चिट्ठी में कहा गया है कि इन कार्यक्रमों में दिए गए भाषण न केवल भारत की एकता और अखंडता को गंभीर ख़तरा हैं बल्कि यह लाखों मुसलमानों की जिंदगियों को भी ख़तरे में डालते हैं। 

इस मामले में पुलिस के कामकाज पर भी तमाम सवाल उठ रहे हैं। धर्म संसद के आयोजन के चार दिन बाद इस मामले में सिर्फ़ एक शख़्स के ख़िलाफ़ एफ़आईआर दर्ज की गई जबकि सोशल मीडिया पर हंगामा होने के बाद इसमें दो और लोगों के नाम जोड़े गए। कुल तीन लोगों- वसीम रिज़वी, धर्म दास और साध्वी अन्नपूर्णा के ख़िलाफ़ नामजद केस दर्ज किया गया है। 

देश से और ख़बरें

दुनिया भर में तीख़ी प्रतिक्रिया

धर्म संसद को लेकर दुनिया भर में तीख़ी प्रतिक्रिया हुई है। अमेरिका की टेनिस स्टार रहीं मार्टिना नवरातोलिया, बाइलाइन टाइम्स के पत्रकार सी जे वार्ल्मन, पाकिस्तान के पत्रकार हामिद मीर सहित कई नामचीन लोगों ने इसकी निंदा की है। विदेशी अख़बारों न्यूयॉर्क टाइम्स, अल-ज़जीरा, ब्लूमबर्ग के साथ ही पाकिस्तानी अंग्रेजी अख़बारों ने भी इसे रिपोर्ट किया है। 

धर्म संसद में हिंदू रक्षा सेना के अध्यक्ष स्वामी प्रबोधानंद गिरी, महामडंलेश्वर साध्वी अन्नपूर्णा उर्फ पूजा शकुन पांडे, यति नरसिंहानंद सरस्वती सहित कई लोगों ने ज़हरीली भाषणबाज़ी की और मुसलमानों के नरसंहार तक की बात की। धर्म संसद के कुछ वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हैं। 

निश्चित रूप से इस धर्म संसद की वजह से भारत की दुनिया भर में बदनामी हुई है। लेकिन धर्म संसद में फैलाई गई नफ़रत के वीडियो उपलब्ध होने के बावजूद अभी तक किसी की गिरफ़्तारी नहीं हुई है। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें