loader

प्रधानमंत्री जी, हर रोज़ कोरोना संक्रमण ही नहीं, मौतों में भी नंबर वन हो गया भारत!

भारत में सबसे तेज़ी से कोरोना संक्रमण फैलने के बाद अब हर रोज़ सबसे ज़्यादा केस भी आने लगे हैं। मंगलवार को लगातार दूसरा दिन है जब भारत में कोरोना संक्रमण के मामले दुनिया के किसी भी देश से ज़्यादा आए हैं। उस अमेरिका और ब्राज़ील से भी ज़्यादा जहाँ अब तक भारत से ज़्यादा संक्रमण के मामले आ चुके हैं। हर रोज़ कोरोना मरीज़ों की मौत के मामले में भी भारत पहले स्थान पर आ गया है।

स्वास्थ्य मंत्रालय द्वारा मंगलवार सुबह ही जारी आँकड़ों के अनुसार देश में 24 घंटे में 52 हज़ार 50 पॉजिटिव केस आए हैं। जबकि अमेरिका और ब्राज़ील में यह संख्या कम है। वर्ल्ड मीटर इन्फ़ो के अनुसार अमेरिका में 24 घंटों में क़रीब 48 हज़ार और ब्राज़ील में क़रीब 18 हज़ार नये मामले आए। एक दिन पहले भारत में क़रीब 53 हज़ार नये केस आए थे जबकि अमेरिका में क़रीब 49 हज़ार और ब्राज़ील में क़रीब 24 हज़ार नये केस दर्ज किए गए थे। 

india daily coronavirus cases highest in the world - Satya Hindi

बता दें कि कुल संक्रमण के मामले में भारत तीसरे स्थान पर है। भारत में अब तक 18 लाख 55 हज़ार 746 पॉजिटिव केस आए हैं और 38 हज़ार 938 मौतें हुई हैं। जबकि अमेरिका में क़रीब 47 लाख 12 हज़ार संक्रमण के मामले आए हैं और 1 लाख 55 हज़ार 398 मौतें हुई हैं। ब्राज़ील में क़रीब 27 लाख 33 हज़ार संक्रमण के मामले आए हैं और 94 हज़ार 104 मौतें हुई हैं।

हर रोज़ मौत के मामले में नंबर वन

कोरोना से हर रोज़ मौत के मामलों में भी भारत पहले स्थान पर पहुँच गया है। स्वास्थ्य विभाग के मंगलवार सुबह जारी आँकड़ों के अनुसार भारत में 24 घंटों में 803 लोगों की मौत हुई जबकि इसी दौरान अमेरिका और ब्राज़ील में इससे कम मौतें हुईं। वर्ल्ड मीटर इन्फ़ो के अनुसार अमेरिका में 568 और ब्राज़ील में 572 लोगों की मौत हुई। इससे एक दिन पहले भी भारत में अमेरिका और ब्राज़ील से ज़्यादा मौतें हुई थीं। भारत में जहाँ 758 मौतें हुई थीं वहीं अमेरिका में 467 और ब्राज़ील में 514 मौतें। हालाँकि उस दिन मेक्सिको में भारत से कुछ ज़्यादा मौतें हुई थीं। 

ताज़ा ख़बरें

एक हफ़्ते पहले ही यह रिपोर्ट आई थी कि भारत में सबसे तेज़ गति से संक्रमण बढ़ रहा है। उस रिपोर्ट के अनुसार, एक हफ़्ते में भारत में औसत रूप से 3.6 फ़ीसदी की दर से मामले बढ़े हैं जबकि अमेरिका में यह दर 1.7 और ब्राज़ील में 2.4 रही है। यदि ऐसी ही दर बनी रही तो सबसे ज़्यादा संक्रमण के मामले में भी भारत जल्द ही अमेरिका से भी आगे निकल सकता है। 

भारत में संक्रमण के इन मामलों में तेज़ी आने की वजह है कुछ राज्यों में संक्रमण के मामले ज़्यादा बढ़ना। इन राज्यों में तमिलनाडु, आँध्र प्रदेश, कर्नाटक, महाराष्ट्र जैसे राज्य शामिल हैं। इसके अलावा पश्चिम बंगाल, उत्तर प्रदेश, बिहार, तेलंगाना जैसे राज्यों में भी मामले ज़्यादा आने लगे हैं। 

देश में कोरोना संक्रमण की ऐसी स्थिति होने के बावजूद सरकार की ओर से दावे किए जा रहे हैं कि दूसरे देशों की अपेक्षा भारत अच्छी स्थिति में है। कोरोना संक्रमण की स्थिति को लेकर प्रधानमंत्री ने हाल में यह दावा किया कि 'सही समय पर सही फ़ैसले लेने के कारण भारत दूसरे देशों की अपेक्षा बेहतर स्थिति में है।' 

प्रधानमंत्री के इस दावे पर राहुल गाँधी ने सोमवार को ट्वीट कर तंज कसा। राहुल ने सोमवार को 24 घंटे में देश में आए दुनिया में सबसे ज़्यादा कोरोना संक्रमण के मामले की एक रिपोर्ट को शेयर करते हुए उन्होंने प्रधानमंत्री के उस बयान को साझा किया जिसमें उन्होंने भारत में स्थिति बेहतर होने की बात कही थी। 

देश से और ख़बरें

बहरहाल, अब जिस गति से संक्रमण के मामले बढ़ने लगे हैं उससे लगता है कि अमेरिकी संस्था मैसाचुसेट्स इंस्टीट्यूट ऑफ़ टेक्नोलॉजी की चेतावनी कहीं सच न साबित हो जाए। संस्था ने हाल ही में चेताया है कि यदि समय रहते टीका या दवा इजाद नहीं की गई तो भारत की स्थिति सबसे बुरी होगी और यहाँ संक्रमितों की तादाद 2.87 लाख प्रतिदिन हो सकती है।

यदि किसी देश में हर रोज़ कोरोना संक्रमण के मामले क़रीब 3 लाख आने लगें तो स्थिति को संभालना कितना मुश्किल होगा, इसका अंदाज़ा अभी ही लगाया जा सकता है। 

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें