loader

डेल्टा वैरिएंट ने तबाही मचाई थी, क्या सबक़ लेकर ओमिक्रॉन से बचेंगे?

दक्षिण अफ्रीका में मिले नये वैरिएंट ओमिक्रॉन से पूरी दुनिया में हलचल तेज है, तो भारत में इससे बचने के लिए कैसी तैयारी है? इसका अंदाज़ा आप ख़ुद ही लगा लीजिए। 

याद कीजिए, कोरोना की दूसरी लहर से पहले का वक़्त। तब लोगों ने मास्क उतार फेंके थे। लोग सोशल डिस्टेंसिंग के नियमों को धता बता रहे थे। कोरोना लॉकडाउन के नियमों के उल्लंघन के मामले आ रहे थे। पाबंदियों में ढील दी गई थी। स्कूल-कॉलेज खुल गए थे। और सबसे बड़ी बात जो हुई थी वह यह कि उसी दौरान चुनाव कराए गए थे। रैलियों में भीड़ जुटाने की होड़ लगी थी। नेता 'अप्रत्याशित भीड़' का बखान कर रहे थे। क्या मौजूदा हालात कुछ वैसे ही नहीं लगते?

ताज़ा ख़बरें

कोरोना के नये ख़तरे के बीच मौजूदा समय में बाज़ारों में किसी के चेहरे पर मास्क शायद ही दिखता है! सोशल डिस्टेंसिंग की तो बात ही दूर है। चुनाव आयोग कई राज्यों में चुनाव कराने वाला है। चुनावी रैलियाँ शुरू भी हो गई हैं। उन रैलियों में कोरोना संक्रमित व्यक्ति यदि पहुँच जाएँ तो पिछले साल के महाकुंभ जैसे हालात न हो जाएं। 

उस तरह का डर इस वजह से है कि दक्षिण अफ्रीका में मिले ओमिक्रॉन वैरिएंट के बारे में कहा जा रहा है कि इसमें बड़ी संख्या में म्यूटेंट हैं। भारत में दूसरी लहर के लिए ज़िम्मेदार डेल्टा वैरिएंट में दो या तीन म्यूटेंट थे। दक्षिण अफ़्रीका में आये नये वैरिएंट के बारे में जो शुरुआती आकलन आया है वह चिंतित करने वाला है।

विश्व स्वास्थ्य संगठन यानी डब्ल्यूएचओ के अनुसार, शुरुआती साक्ष्य से पता चलता है कि जिन लोगों को पहले कोरोना संक्रमण हो चुका है उनको 'ओमिक्रॉन' के फिर से संक्रमण का ख़तरा बढ़ सकता है। ऐसे लोग अधिक आसानी से दोबारा संक्रमित हो सकते हैं।

इस नये संक्रमण की शुरुआती जो रिपोर्टें आ रही हैं उससे दुनिया भर में चिंताएँ फैली हैं। ये चिंताएँ इस रूप में भी देखी जा सकती हैं कि जिन देशों में ओमिक्रॉन वैरिएंट के मामले आए हैं उन देशों की अंतरराष्ट्रीय उड़ानें कई देशों ने बंद कर दी हैं।

ब्रिटेन, इटली, जर्मनी जैसे देशों ने दक्षिण अफ्रीका की अपनी उड़ानें रद्द कर दी हैं। दूसरे कई देश कई तरह की पाबंदियाँ लगा रहे हैं। 

भारत में भी इसके लिए तैयारी की जा रही है। रविवार को ही केंद्रीय स्वास्थ्य सचिव राजेश भूषण ने सभी राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों को निर्देश दिया है कि वे ओमिक्रॉन को लेकर सख्ती से क्वारेंटीन और आइसोलेशन की व्यवस्था लागू करें। साथ ही सभी को तत्काल आरटी-पीसीआर टेस्टिंग बढ़ाने और एक्टिव सर्विलांस शुरू कराने का आदेश दिया गया है।

india prepares as covid omicorn variant concern prevails - Satya Hindi

लेकिन क्या यह निर्देश ही काफ़ी है? क्या राजनैतिक नेतृत्व इसको लेकर सक्रिय है जिससे किसी अप्रत्याशित स्थिति से निपटा जाए? प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज ही यानी सोमवार को कहा है कि नए कोविड वैरिएंट को लेकर हम सभी को सतर्क रहना चाहिए।

प्रधानमंत्री मोदी ने संसद के शीतकालीन सत्र की शुरुआत से पहले अपने संबोधन में कहा, 'हमने महामारी के चुनौतीपूर्ण समय के दौरान कोविड के टीकों की 100 करोड़ से अधिक खुराक दी है। अब हम 150 करोड़ खुराक की ओर बढ़ रहे हैं। एक नए कोरोना वैरिएंट के उभरने की ख़बर से हमें और अधिक सतर्क रहने की ज़रूरत है।'

ख़ास ख़बरें

लेकिन सवाल है कि क्या यह सतर्कता बनी रहेगी? ख़बर है कि ख़ुद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी उत्तर प्रदेश में बीजेपी के चुनाव प्रचार में व्यस्त रहने वाले हैं। वह राज्य में बड़ी संख्या में रैलियाँ करेंगे। समाजवादी पार्टी, कांग्रेस, बसपा जैसी दूसरी पार्टियों के नेता भी ऐसी ही रैलियाँ करेंगे। अब चुनावी रैलियों में कोरोना से बचाव के कितने उपाय किए जा सकते हैं, यह इसी साल की शुरुआत में पश्चिम बंगाल सहित कई राज्यों के चुनावों में दिख चुका है। यही वह वक़्त था जब भारत में दूसरी लहर आई थी और हर रोज़ 4 लाख से ज़्यादा संक्रमण के मामले आने लगे थे। गंगा में शव तैरते मिले थे और रेतों में शव दफनाए जाने वाली तसवीरें सामने आई थीं। भारत ने ऐसी तबाही शायद ही कभी देखी हो। 

देश से और ख़बरें

कोरोना की दूसरी लहर के दौरान चुनाव आयोग की भी तीखी आलोचना हुई थी। यह आलोचना इसलिए हुई थी कि कोरोना नियमों की धज्जियाँ उड़ाई गई थीं। मद्रास हाईकोर्ट ने तो उतने बड़े पैमाने पर संक्रमण के लिए चुनाव आयोग को ज़िम्मेदार ठहराते हुए जमकर फटकार लगाई थी। कोर्ट ने कहा था कि कोरोना की दूसरी लहर के लिए किसी एक को ज़िम्मेदार ठहराना हो, तो अकेले चुनाव आयोग ज़िम्मेदार है। कोर्ट ने कहा था कि 'यह जानते हुए भी कि कोरोना का ख़तरा टला नहीं है, इसके बावजूद चुनावी रैलियों पर रोक नहीं लगाई। इसके लिए चुनाव आयोग के अधिकारियों पर हत्या का मामला चलाया जाना चाहिए।'

अब जब ओमिक्रॉन का ख़तरा सिर पर है तो क्या सरकार और दूसरी एजेंसियाँ डेल्टा वैरिएंट और कोरोना की दूसरी लहर से सबक़ सिखेंगी?

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें