loader

भारत खरीदेगा 33 मिग-29 लड़ाकू जहाज़, मिसाइलें, हो रही है चीन से युद्ध की तैयारी?

चीन से तनाव और वास्तविक नियंत्रण रेखा पर साजो-सामान के जमावड़े के बीच सरकार ने 33 लड़ाकू जेट विमान समेत कई तरह के रक्षा उपकरण खरीदने की योजना बनाई है। इस पर कुल मिला कर  38,900 करोड़ रुपए का खर्च बैठेगा। 
गुरुवार को रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह की अध्यक्षता में हुई डिफ़ेन्स अक्विज़िशन कमिटी की बैठक में इस पर मुहर लग गई। 
देश से और खबरें
रूस से 21 मिग-29 लड़ाकू जहाज़ खरीदे जाएंगे जबकि 12 एसयू-30 एमकेआई हवाई जहाज़ हिंदुस्तान एअरोनॉटिक्स लिमिटेड में ही बनाए जाएंगे। इसके अलावा 59 मिग-29 लड़ाकू जहाज़ों को अपग्रेड किया जाएगा।

एअर टू एअर मिसाइल

सरकार कई तरह की मिसाइलें भी खरीदेगी। उसने 248 एस्ट्रा बीवीआर (बियोंड विज़ुअल रेंज) हवा से हवा में मारने वाली मिसाइल खरीदने की योजना भी बनाई है। यह दिन-रात और हर मौसम में काम करने वाली मिसाइल प्रणाली है, जिससे सुपरसोनिक हवाई जहाज़ों को निशाना बनाया जा सकता है। 
India to buy 33 MIG 29 missiles and sukhoi fighter jets - Satya Hindi
मिग-29

पिणाक मिसाइल

इस बैठक में पिणाक मिसाइल खरीदने के फ़ैसले पर मुहर लगी। इसके अलावा ज़मीन से ज़मीन पर 1,000 किलोमीटर दूर तक मार करने लायक मिसाइल लेने का भी निर्णय किया गया। 
रक्षा मंत्रालय ने कहा है कि ये फ़ैसले सीमाओं की सुरक्षा के लिए और मौजूदा स्थिति को ध्यान में रख कर किए गए हैं। 
रक्षा मंत्रालय ने बयान में कहा है कि 21 मिग-29 खरीदने और मौजूदा मिग-29 को अपग्रेड करने पर सरकार को 7,418 करोड़ रुपए खर्च करने होंगे।
इसके अलावा हिन्दुस्तान एअरोनॉटिक्स में 12 एसयू-30 एमकेआई हवाई जहाज़ बनाने पर 10,730 करोड़ रुपए खर्च होंगे। 

एमएसएमई को मिलेगा काम

बयान में यह भी कहा गया है कि इन उपकरणों की खरीद में घरेलू डिज़ायन और विकास पर ध्यान रखा गया है। बड़े पैमाने पर ये रक्षा उपकरण देश में बनाए जाएंगे, जिससे सूक्ष्म-लघु-मझोले उद्यमों को काम मिलेगा। 
रक्षा मंत्रालय ने यह भी कहा है कि कुछ मामलों में तो 80 प्रतिश घरेलू उपकरण लगाए जाएंगे। इसकी वजह यह है कि डिफ़ेन्स रिसर्च एंड डेवलपमेंट ऑर्गनाइजेशन ने उपकरणों को देश में बनाने और प्रौद्योगिकी हस्तांतरण के क़रार पहले से ही कर रखे हैं। 
रक्षा उपकरणों के घरेलूकरण की प्रक्रिया में शोध, डिज़ायन और विकास पर लगभग 20,400 करोड़ रुपए खर्च होंगे।
रक्षा मंत्रालय ने यह भी कहा है कि पिणाक मिसाइल प्रणाली के अधिग्रहण करने से नए रेजिमेंट बनाए जा सकते हैं। इस मिसाइल की रेंज 1000 किलोमीटर होने के कारण सेना की मारक क्षमता बढ़ जाएगी। इसी तरह एस्ट्रा मिसाइल प्रणाली से नौसेना और वायु सेना की क्षमता बहुत बढ़ जाएगी।
India to buy 33 MIG 29 missiles and sukhoi fighter jets - Satya Hindi
पिणाक मिसाइल प्रणाली
दूसरी ओर, फ्रांस अगले महीने रफ़ाल लड़ाकू विमान की आपूर्ति कर देगा। रूस अपने गोला-बारूद और दूसरे हथियारों की सप्लाइ समय से पहले कर देगा। बीते दिनों विक्ट्री डे परेड देखने मास्को गए रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह से रूसी अधिकारियों की इस मुद्दे पर बात हुई थी। इसी तरह इज़रायल ने वायु सुरक्षा प्रणाली देने की पेशकश की है, वह भी जल्द ही भारत पहुँचने वाला है।
इसके अलावा रूस को 1 अरब डॉलर का अलग से ऑर्डर टैंक और गोला-बारूद की आपूर्ति के लिए दिया गया है। रूस से थल सेना को टैंक-रोधी मिसाइल, कंधे पर रख कर चलाया जाने लायक वायु सुरक्षा हथियार और वायु सेना को हवा से गिराने लायक बम मिलेंगे।

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें