loader

आर्थिक आधार पर आरक्षण के ख़िलाफ़ इंदिरा साहनी जा सकती हैं कोर्ट 

सवर्ण समेत आर्थिक रूप से पिछड़े तमाम लोगों  को सरकारी नौकरियों और शिक्षा संस्थानों में दाखि़ले के मामले में 10 फ़ीसद आरक्षण दिए जाने के मुद्दे पर वकील इंदिरा साहनी सुप्रीम कोर्ट का रुख़ कर सकती हैं। 

ये वही इंदिरा साहनी हैं, जिन्होंने मंडल आयोग की सिफ़ारिशों को लागू करने के ख़िलाफ़ अदालत में याचिका दायर की थी और नरसिम्हा राव सरकार के आरक्षण क़ानून के विरुद्ध अदालत गई थीं। सुप्रीम कोर्ट ने उनकी याचिका पर सुनवाई के बाद दिए 'इंदिरा साहनी बनाम भारतीय संघ' के नाम से मशहूर मामले के फ़ैसले में कहा था कि आरक्षण की ऊपरी सीमा 50 प्रतिशत से ज़्यादा नहीं हो सकती। वही इंदिरा साहनी जल्द ही इस पर फ़ैसला करेंगी कि उन्हें संसद में पारित किए गए संविधान संशोधन के ख़िलाफ़ अदालत जाना चाहिए या नहीं। साहनी ने कहा कि यह कानून भारतीय संविधान के मूल नियमों का उलंघन करता है। 

इतना ही नहीं, उन्होंने यह भी कहा कि इस बावत किसी ने पहले से ही अदालत में याचिका दायर कर दी है। साहनी का कहना है , 'इस बिल को कोर्ट में चुनौती दी जाएगी। मुझे इस बारे में सोचना होगा कि क्या मैं इस संविधान संशोधन को कोर्ट में चुनौती दे सकती हूं।'
इंदिरा साहनी ने कहा कि सरकार द्वारा संविधान में किया गया 124वाँ संशोधन अनुच्छेद 14 और अनुच्छेद 15 का हनन करता है जो कि संविधान का मूल आधार है।

संशोधन में आर्थिक आधार तय नहीं

साहनी का कहना है कि यह संशोधन मंडल आयोग की सिफ़ारिशों पर दिए गए फ़ैसले के भी ख़िलाफ़ है क्योंकि उसमें साफ़ तौर से कहा गया है कि आर्थिक आधार पर आरक्षण नहीं दिया जा सकता। उन्होंने आगे कहा कि इस संशोधन में यह भी तय नहीं किया गया है कि आख़िर में आर्थिक आधार पर कमजोर कौन है। सरकार ने यह यह फ़ैसला राज्यों सरकारों पर छोड़ा है कि वह अपने हिसाब से तय करें कि कौन आर्थिक रुप से कमज़ोर है। ऐसी स्थिति में सभी राज्यों की सरकारें अपने-अपने हिसाब से इसकी परिभाषा तय करेंगी।

पिछड़ा वर्ग जाति के आधार पर परिभाषित 

इंदिरा साहनी ने कहा है कि इस बिल के बाद अब आरक्षण की सीमा बढ़कर 60 फ़ीसदी तक हो जाएगी और बिना आरक्षित वाले कोटा के योग्य लोगों के लिए मुसीबतें बढ़ जाएंगी। 1992 में प्रधानमंत्री नरसिम्हा राव के कोटा बिल को चुनौती देने वाली साहनी ने कहा कि उस समय कोर्ट के फैसले की सबसे अहम बात थी संविधान में पिछड़े वर्ग की परिभाषा। साहनी के मुताबिक़, पिछड़े वर्ग को जाति और सामाजिक स्थिति के आधार पर परिभाषित किया गया है न कि आर्थिक आधार पर। उनका कहना है कि इसी आधार पर मोदी सरकार के हालिया कदम को चुनौती दी जा सकेगी। जैसे साल 1992 में नरसिम्हा राव के फैसले को दी गई थी। ग़ौरतलब है कि आर्थिक रूप से पिछड़े लोगों को 10 प्रतिशत आरक्षण देने के लिए संसद में संविधान संशोधन बिल पास किया गया है और अब इसे राष्ट्रपति ने भी मंजूरी दे दी है। इसमें सवर्ण समेत वे सभी लोग आएँगे जिन्हें अब तक किसी तरह के आरक्षण नहीं मिला है। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें