loader
फ़ोटो साभार: ट्विटर/एस जयशंकर

पैगंबर विवाद- दोषियों पर भारत ऐसी कार्रवाई करेगा कि दूसरे भी सबक लेंगे: ईरान

भारत के दौरे पर आए ईरान के विदेश मंत्री डॉ. हुसैन अमीर अब्दुल्लाहियन ने बीजेपी की पूर्व प्रवक्ता नूपुर शर्मा द्वारा पैगंबर मुहम्मद के बारे में हालिया विवादास्पद टिप्पणी पर चिंता जताई है। यह विवाद शुरू होने के बाद से इस्लामिक सहयोग संगठन यानी ओआईसी के किसी सदस्य देश के किसी गणमान्य व्यक्ति की इस तरह की पहली यात्रा है।

ईरानी विदेश मंत्रालय द्वारा जारी एक बयान में कहा गया है, 'भारत के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल ने इसकी पुष्टि की कि भारत सरकार और अधिकारी पैगंबर मुहम्मद का सम्मान करते हैं और कहा कि दोषियों से सरकार और संबंधित स्तरों पर इस तरह से निपटा जाएगा कि दूसरे भी सबक लेंगे।'

अब्दुल्लाहियन 8 जून से भारत की चार दिनों की आधिकारिक यात्रा पर हैं। अगस्त 2021 में पदभार ग्रहण करने के बाद यह उनकी पहली भारत यात्रा है। उन्होंने अपने समकक्ष डॉ. जयशंकर के साथ द्विपक्षीय वार्ता की। उन्होंने एनएसए अजीत डोभाल और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मुलाकात की।

अब्दुल्लाहियन ने दैवीय विश्वासों, विशेष रूप से पैगंबर मुहम्मद, और देश में विभिन्न धर्मों के अनुयायियों के बीच धार्मिक सहिष्णुता, ऐतिहासिक सह-अस्तित्व और मित्रता के लिए सम्मान के लिए भारतीय लोगों और सरकार की सराहना की।

ताज़ा ख़बरें

ईरान के विदेश मंत्रालय ने बयान में कहा है, 'ईरानी विदेश मंत्री ने मुसलमानों की धार्मिक पवित्रता के प्रति संवेदनशीलता पर गंभीरता से ध्यान देने का आह्वान किया। अमीर अब्दुल्लाहियन ने कहा कि मुसलमान दोषियों से निपटने में भारतीय अधिकारियों के रुख से संतुष्ट हैं।'

भारत दौरे पर आए विदेश मंत्री आज मुंबई में होंगे और फिर हैदराबाद की यात्रा करेंगे। बुधवार को उन्होंने प्रधानमंत्री मोदी, विदेश मंत्री एस जयशंकर और दूसरे शीर्ष अधिकारियों से मुलाक़ात की।

भारत के विदेश मंत्री एस जयशंकर ने बातचीत के बाद एक ट्वीट में कहा, 'हमने व्यापार, संपर्क, स्वास्थ्य और लोगों से लोगों के संबंधों सहित हमारे द्विपक्षीय सहयोग की समीक्षा की।' इसके साथ ही उन्होंने कई समझौतों, अफगानिस्तान और यूक्रेन पर भी बात की।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ट्वीट किया, 'भारत और ईरान के बीच सदियों पुराने सभ्यतागत संबंधों को और आगे बढ़ाने पर उपयोगी चर्चा के लिए विदेश मंत्री होसैन अमीर अब्दुल्लाहियन का स्वागत करते हुए खुशी हुई। हमारे संबंधों ने दोनों देशों को पारस्परिक रूप से लाभ पहुंचाया है और क्षेत्रीय सुरक्षा और समृद्धि को बढ़ावा दिया है।'

बता दें कि दोनों पक्षों ने भारत-ईरान संबंधों को बढ़ाने के लिए विभिन्न प्रस्तावों पर भी चर्चा की। इसमें दक्षिण-उत्तर गलियारे के माध्यम से परिवहन के क्षेत्र में और विशेष रूप से चाबहार बंदरगाह, निवेश, व्यापार और शिक्षा के साथ-साथ अनुसंधान और विकास का उपयोग करना शामिल है।

दोनों पक्षों ने सुरक्षा, सैन्य संबंधों और द्विपक्षीय व क्षेत्रीय स्तरों पर आतंकवाद से लड़ने की संभावनाओं और अफगानिस्तान के लोगों की मदद करने पर भी चर्चा की।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें