loader

जया बच्चन : असली मुद्दों से ध्यान बँटाने के लिए बॉलीवुड में ड्रग्स की बात कह रही है सरकार

सुशांत सिंह राजपूत की मौत के बाद फिल्म उद्योग में ड्रग्स के इस्तेमाल के मुद्दे की गूंज संसद में भी सुनाई पड़ी है। सत्तारूढ़ बीजेपी के एक सदस्य ने सोमवार को लोकसभा में फिल्म उद्योग में ड्रग्स लेने की बात मानी और ऐसे लोगों के ख़िलाफ क़डी कार्रवाई की मांग की तो विपक्ष के एक सदस्य ने मंगलवार को राज्यसभा में फिल्म उद्योग का ज़बरदस्त बचाव करते हुए सरकार पर आरोप लगाया कि वह असली मुद्दों से लोगों का ध्यान हटाना चाहती है।

जया बच्चन ने किया फिल्म उद्योग का बचाव

अपने समय शीर्ष की नाायिका रह चुकी और लंबे समय से राजनीति में अपनी भूमिका निभा रही समाजवादी पार्टी की सांसद जया बच्चन ने राज्यसभा में फिल्म उद्योग का जम कर बचाव किया। उन्होंने कहा कि नशाखोरी के मामले में फिल्म जगत को बदनाम किया जा रहा है और कुछ लोगों के कारण पूरे बॉलीवुड को बदनाम नहीं किया जाना चाहिए।
देश से और खबरें
उन्होंने नशाखोरी के मामले में बीजेपी सांसद रवि किशन का लोकसभा में दिए बयान का जवाब देते हुए कहा, 'कुछ लोग जिस थाली में खाते हैं, उसी में छेद करते हैं।'

बॉलीवुड में ड्रग्स!

एक दिन पहले ही यानी सोमवार को रवि किशन ने लोकसभा में सुशांत सिंह राजपूत मामले में फ़िल्म उद्योग में ड्रग्स के प्रचलन की बातें कही थीं। उन्होंने कहा था, 'फिल्म उद्योग में नशाखोरी है। कुछ लोगों को इस मामले में गिरफ़्तार किया गया है। नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो इस मामले में अच्छा काम कर रहा है।'
जया बच्चन ने राज्यसभा में इसका जवाब दिया। उन्होंने कहा, 

'कुछ लोगों की वजह से पूरे फिल्म उद्योग को बदनाम नहीं किया जा सकता है। यह शर्म की बात है कि फिल्म उद्योग से आए एक सदस्य ने फ़िल्म उद्योग के ख़िलाफ़ बातें कहीं।'


जया बच्चन, सांसद

उन्होंने रवि किशन का नाम लिए बग़ैर कहा, 'कुछ लोगों ने फिल्म उद्योग में नाम कमाया है और अब इसे नाला बता रहे हैं। मैं पूरी तरह असहमत हूं।'
जया बच्चन ने इस पर विशेष रूप से ज़ोर दिया कि बेरोज़गारी और आर्थिक बदहाली से ध्यान बंटाने के लिए इस तरह की कोशिशें की जाती हैं। उन्होंने कहा कि 5 लाख लोग सीधे तौर पर फ़िल्म उद्योग से जुड़े हुए हैं। इसके अलावा परोक्ष रूप से लगभग 50 लाख लोगों की रोजीरोटी फिल्मों के जरिए चलती है। 
जया बच्चन ने मूल समस्याओं से लोगों का ध्यान हटाने की कोशिश सरकार पर करने का आरोप लगाया। उन्होंने कहा,

'ऐसे समय जब वित्तीय स्थिति बदहाली में है और बेरोज़गारी सबसे बुरे दौर में है, लोगों का ध्यान बंटाने के लिए सोशल मीडिया से हम पर हमला करवाया जा रहा है।'


जया बच्चन, सांसद

रवि किशन की सफाई

रवि किशन ने इस पर अपनी सफाई भी बाद में दी। उन्होंने कहा, 'फिल्म उद्योग में सारे लोग ड्रग्स नहीं लेते हैं, पर जो लोग ऐसा करते हैं वे दुनिया के सबसे बड़े फिल्म उद्योग को चौपट कर देना चाहते हैं। जब जया जी और मैं इस उद्योग से जुड़े, स्थिति ऐसी नहीं थी, पर अब इसे बचाने की ज़रूरत है।'  

कंगना ने किया जया पर हमला

इस विवाद में अभिनेत्री कंगना रनौत भी कूद पड़ीं। उन्होंने जया बच्चन पर ज़ोरदार हमला किया और संसद में दिए उनके बयान पर सवाल उठाए। उन्होंने पूछा कि 'यदि जया बच्चन का अपना बेटा या बेटी ड्रग्स की चपेट में आई होती तो क्या उनकी प्रतिक्रिया ऐसी ही होती?'

जया को समर्थन

बॉलीवु़ड में ड्रग्स का मुद्दा संसद में उठने पर फिल्म जगत में प्रतिक्रिया हुई है और लोगों ने समाजवादी पार्टी की सांसद जया बच्चन का समर्थन किया है। फिल्म निर्देशक अनुभव सिन्हा ने कहा कि 'लोग देख लें, रीढ़ की हड्डी ऐसी दिखती है।' इसके बाद कई दूसरे इससे जुड़ गए और इसके साथ अपनी प्रतिक्रिया डाली और इसे रिट्वीट किया। अभिनेत्री तापसी पन्नू ने कहा कि 'फिल्म उद्योग ने हमेशा ही जागरुकता अभियान और नई पहल लेने का स्वागत किया है। फिल्म उद्योग की एक महिला ने इस तरह उसका बचाव किया है!'

फ़िल्म अभिनेत्री सोनम आहूजा ने कहा कि 'वे बड़ी होकर जया बच्चन की तरह ही बनना चाहती हैं।'
याद दिला दें कि अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत की संदिग्ध स्थितियों में मौत के मामले की जाँच शुरू हुई तो उसमें ड्रग्स का मामला सामने आया। उनकी गर्ल फ्रेंड रह चुकी रिया चक्रवर्ती पर ड्रग्स खरीदने, स्वयं इस्तेमाल करने और उन्हें देने के आरोप लगे। इसके बाद नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो ने मामले की जांच की, कई लोगों को गिरफ्तार किया गया है। गिरफ्तार लोगों में रिया चक्रवर्ती और उनका भाई शौभिक भी है। एनसीबी ड्रग कार्टेल के बंबई में सक्रिय होने की बात कह रहा है।
सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें