loader

नागरिकता क़ानून: केरल सरकार ने दी सुप्रीम कोर्ट में चुनौती, कहा - असंवैधानिक घोषित करें 

नागरिकता संशोधन क़ानून के ख़िलाफ़ विरोध लगातार बढ़ता ही जा रहा है। विपक्षी दलों की अधिकांश राज्य सरकारें इस क़ानून को अपने राज्यों में लागू करने से साफ़ मना कर चुकी हैं। अब केरल की सरकार ने इस क़ानून के ख़िलाफ़ सुप्रीम कोर्ट का दरवाज़ा खटखटाया है। सोमवार को ही इस क़ानून के विरोध को और तेज़ करने के लिए कांग्रेस के नेतृत्व में विपक्षी राजनीतिक दलों की बैठक हुई थी। इसमें 20 राजनीतिक दल उपस्थित रहे थे। इस बैठक में देश के आर्थिक हालात को लेकर भी चिंता जताई गई थी। 

केरल देश में पहला ऐसा राज्य है जिसकी सरकार ने इस क़ानून की वैधता को सुप्रीम कोर्ट में चुनौती दी है। राज्य के मुख्यमंत्री पिनाराई विजयन ने सुप्रीम कोर्ट में मुक़दमा दायर कर इस विधेयक को असंवैधानिक घोषित करने के लिए निर्देश देने की माँग की है। केरल की विधानसभा में दिसंबर, 2018 में इस क़ानून के ख़िलाफ़ प्रस्ताव भी पास हो चुका है। प्रस्ताव में केंद्र की सरकार से कहा गया था कि इस क़ानून के ख़िलाफ़ हो रहे प्रदर्शनों को देखते हुए इसे रद्द कर दिया जाए। 

ताज़ा ख़बरें

‘संघ के एजेंडे को लागू कर रही बीजेपी’

मुख्यमंत्री विजयन ने आरोप लगाया है कि बीजेपी सरकार राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ के एजेंडे को लागू कर रही है और इस क़ानून के द्वारा देश को सांप्रदायिक आधार पर बांटना चाहती है। अवैध रूप से देश में रह रहे लोगों को बंदीगृह में भेजे जाने को लेकर जब विवाद हुआ था तो मुख्यमंत्री ने कहा था कि वह केरल में किसी भी बंदीगृह को नहीं बनने देंगे। उन्होंने कहा था, ‘ग्रीक, रोमन, अरब सहित कई देशों के लोग केरल आए और ईसाई और मुसलमान भी बहुत पहले केरल में आए थे। हमारी परंपरा समावेशी है और हमें इसे बनाये रखने की ज़रूरत है।’ राज्यसभा में जब यह विधेयक पास हुआ था तब भी विजयन ने बीजेपी सरकार पर हमला बोला था और कहा था कि उनकी सरकार इसे अपने राज्य में लागू नहीं करेगी।

मुख्यमंत्री पी. विजयन का कहना है कि नागरिकता संशोधन क़ानून पूरी तरह समानता के बुनियादी अधिकार का उल्लंघन करता है।

‘प्रस्ताव की क़ानूनी वैधता नहीं’ 

लेकिन केरल के राज्यपाल आरिफ़ मोहम्मद ख़ान ने कहा है कि केरल विधानसभा में पास किये गये प्रस्ताव की कोई क़ानूनी या संवैधानिक वैधता नहीं है क्योंकि नागरिकता देना केंद्र का विषय है। 

देश से और ख़बरें
केरल में इस क़ानून के विरोध में सत्तारुढ़ मार्क्सवादी पार्टी के साथ ही विपक्षी कांग्रेस ने भी वोट दिया। लेकिन सवाल यह है कि अगर दूसरे राज्यों की विधानसभाएं भी इस तरह क़ानून के विरोध में प्रस्ताव पास कर दें या इस क़ानून के ख़िलाफ़ सुप्रीम कोर्ट पहुंच जाएं तो निश्चित रूप से यह संघीय ढांचे के लिये बहुत बड़ा ख़तरा होगा।

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें