loader
फ़ाइल फ़ोटोफ़ोटो साभार: ट्विटर/नरेंद्र मोदी

कोरोना संकट में आलोचनाओं को दबाने का मोदी का प्रयास अक्षम्य है: लांसेट

मेडिकल जर्नल लांसेट ने कोरोना से निपटने के प्रधानमंत्री मोदी के प्रयासों को लेकर तीखा आलोचनात्मक संपादकीय छापा है। पत्रिका ने लिखा है कि प्रधानमंत्री मोदी की सरकार कोरोना महामारी से निपटने से ज़्यादा आलोचनाओं को दबाने में लगी हुई दिखी। पत्रिका ने साफ़ तौर पर उस मामले का ज़िक्र किया है जिसमें कोरोना की स्थिति से निपटने के लिए कई लोगों ने ट्विटर पर प्रधानमंत्री मोदी की आलोचना की थी जिसे सरकार ने ट्विटर से हटवा दिया था।

पत्रिका ने लिखा है, 'कई बार, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी सरकार महामारी को नियंत्रित करने की कोशिश करने की तुलना में ट्विटर पर आलोचना को हटाने के लिए अधिक इरादे प्रकट करती दिखी है।'

ताज़ा ख़बरें

संपादकीय में देश में कोरोना के हालात पर भी टिप्पणी की गई है। पत्रिका ने लिखा है कि 4 मई तक कोरोना के 2 करोड़ से अधिक मामले दर्ज किए गए थे। इसमें 2 लाख 22 हज़ार से अधिक मौतें हुई हैं। संपादकीय में द इंस्टीट्यूट फ़ॉर हेल्थ मेट्रिक्स एंड इवैल्यूएशन के अनुमान का ज़िक्र किया गया है जिसमें गया है कि भारत में 1 अगस्त तक कोरोना से 10 लाख लोगों की मौत होगी।

इसने देश की स्वास्थ्य व्यवस्था के मौजूदा हालात का भी ज़िक्र किया है। इसने लिखा है कि 'अस्पताल भरे हुए हैं, और स्वास्थ्य कार्यकर्ता थक गए हैं और वे संक्रमित हो रहे हैं। सोशल मीडिया पर हताशा दिख रही है (डॉक्टरों और जनता), जो मेडिकल ऑक्सीजन, अस्पताल के बिस्तर और अन्य ज़रूरतों की मांग कर रहे हैं।'

कुंभ मेले और पाँच राज्यों में चुनाव के दौरान प्रचार रैलियों में कोरोना प्रोटोकॉल की धज्जियाँ उड़ाए जाने का ज़िक्र किया है। पत्रिका ने लिखा है, 'सुपरस्प्रेडर घटनाओं के जोखिमों के बारे में चेतावनी के बावजूद सरकार ने धार्मिक उत्सवों को आगे बढ़ने की अनुमति दी, जिसमें देश भर के लाखों लोग शामिल हुए। इसके साथ-साथ विशाल राजनीतिक रैलियाँ हुईं जिसमें कोरोना को नियंत्रित करने के उपायों की पालना नहीं हुई।'

पत्रिका ने यह भी कहा है कि जब कोरोना की पहली लहर धीमी पड़ गई और कोरोना के मामले कम आने लगे तो ढिलाई बरती गई। ऐसा तब हुआ जब कोरोना की दूसरी लहर की चेतावनी दी गई और नये स्ट्रेन के मामले सामने आने लगे थे।
संपादकीय में यह भी लिखा गया है कि अपनाए गए मॉडल से लगता है कि ग़लती से यह मान बैठा गया कि भारत हर्ड इम्युनिटी के स्तर पर पहुँच गया है और इसलिए कोरोना के ख़िलाफ़ तैयारी नहीं की गई। जबकि हालात ये थे कि इंडियन काउंसिल ऑफ़ मेडिकल रिसर्च ने सीरो सर्वे से जनवरी में बताया था कि सिर्फ़ 21 फ़ीसदी जनसंख्या कोरोना के ख़िलाफ़ एंटी बॉडी विकसित कर पाई थी। 
lancet editorial says modi government seemed removing criticism than controlling covid - Satya Hindi

दूसरी लहर से पहले केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री हर्ष वर्धन के बयान का भी ज़िक्र किया गया है और यह बताया गया है कि कैसे उन्होंने कोरोना संक्रमण की स्थिति का ग़लत आकलन किया। लांसेट ने संपादकीय में लिखा है, 'मार्च के शुरू में ही कोविड-19 के मामलों की दूसरी लहर शुरू होने से पहले भारत के स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन ने घोषणा की थी कि भारत महामारी के एंडगेम में था।'

देश से और ख़बरें
भारत के टीकाकरण कार्यक्रम की भी तीखी आलोचना की जा रही है। लांसेट ने लिखा है कि यह विश्वास कि कोरोना कम हो रहा है, इसने भारत के कोरोना टीकाकरण अभियान की शुरुआत को धीमा कर दिया है। इसने कहा है कि 2% से भी कम आबादी का टीकाकरण किया गया है। संपादकीय में कहा गया है कि सरकार ने राज्यों के साथ चर्चा किए बिना नीति में अचानक बदलाव किया, जिससे बड़े पैमाने पर भ्रम पैदा हुआ। पत्रिका ने संपादकीय में सुझाव दिया है कि सरकार को स्थानीय और प्राथमिक स्वास्थ्य देखभाल केंद्रों के साथ काम करना चाहिए जो अपने समुदायों को बेहतर जानते हैं और टीका के लिए एक समान वितरण प्रणाली बनाई जानी चाहिए। 
सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें