loader

रंगे हाथों पकड़े जाने के बाद रक्षा मंत्रालय ने वेबसाइट से हटाई चीनी घुसपैठ की बात

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भले ही चीनी घुसपैठ से इनकार करते हुए कहा हो कि 'न कोई घुसा, न कोई घुसा हुआ है', रक्षा मंत्रालय ने आधिकारिक तौर पर घुसपैठ की बात मानी है। रक्षा मंत्रालय ने अपने आधिकारिक ट्विटर अकाउंट @DefenceMinIndia पर दी गई जानकारी में गलवान घाटी में चीनी सैनिकों के घुसपैठ करने की बात कही। लेकिन इस पर विवाद होने के बाद उसने वेबसाइट से यह जानकारी हटा ली है। 
देश से और खबरें

मंत्रालय का आधिकारिक बयान

रक्षा मंत्रालय ने अपनी वेबसाइट पर पहले लिखा था,  'वास्तविक नियंत्रण रेखा और ख़ास कर गलवान घाटी में 5 मई, 2020 से ही चीन की आक्रामकता बढ़ती जा रही है। चीनी सेना ने 17-18 मई, 2020 को कुगरांग नाला, गोगरा और पैंगोंग त्सो के उत्तरी किनारे पर सीमा का उल्लंघन किया।' 
ministry of defence admits chinese transgression along LAC in galwan valley, deletes it - Satya Hindi
इसके आगे इस वेबसाइट पर यह भी कहा गया था, 'इसके फलस्वरूप तनाव कम करने के लिए दोनों सेनाओं के बीच ज़मीनी स्तर पर बातचीत हुई। कोर कमांडरों की बैठक 6 जून, 2020 को हुई। लेकिन 15 जून की रात को हिंसक झड़प हुई, जिसमें दोनों पक्षों के लोग हताहत हुए।'
रक्षा मामलों के विशेषज्ञ अजय शुक्ला ने एक ट्वीट कर यह बात कही है। उन्होंने ट्वीट किया, 'रक्षा मंत्रालय की वेबसाइट @DefenceMinIndia ने चीनी सेना द्वारा गलवान घाटी, हॉट स्प्रिंग्स और पैंगोंग में वास्तविक नियंत्रण रेखा के उल्लंघन की बात मानी है। यह पीएम @narendramodi के 19 जून के इस बयान को झुठलाता है कि न कोई घुसा, न कोई घुसा हुआ है।'

मंत्रालय ने हटाई जानकारी

इस पर विवाद खड़ा होने के बाद मंत्रालय ने अपनी वेबसाइट से इस जानकारी को हटा ली है। अब न तो वह दस्तावेज उस पर दिख रहा है और न ही वह लिंक काम कर रहा है। एनडीटीवी को यह जानकारी देते हुए एक आला अफसर ने कहा कि उन्होंने वह दस्तावेज़ नहीं देखा है। 

मोदी पर राहुल का हमला

कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने इस मुद्दे पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर एक बार फिर तीखा हमला किया है। 

उन्होंने ट्वीट कर कहा कि 'चीन का डट कर विरोध करना तो दूर की बात है, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी चीन का नाम तक नहीं ले रहे हैं।' 

राहुल गांधी ने यह भी कहा है कि 'पहले भारतीय सरज़मीं पर चीनी सैनिकों के होने की बात इनकार करने और उसके बाद उससे जुड़े क़ाग़जात के वेबसाइट से हटा देने से तथ्य नहीं बदलेंगे।'

प्रधानमंत्री का दावा

याद दिला दें कि 19 जून को सर्वदलीय बैठक में प्रधानमंत्री ने कहा था चीनी सैनिकों के भारतीय सीमा में घुसपैठ करने की बात से साफ़ इनकार कर दिया था।
प्रधानमंत्री के इस इनकार के बाद सत्तारूढ़ बीजेपी की यह आधिकारिक लाइन बन गई। उसके तमाम प्रवक्ता यही बात दुहराने लगे कि चीन ने घुसपैठ नहीं की है और भारतीय सरज़मीन पर चीनी सैनिक नहीं हैं। प्रधानमंत्री ने कहा था,

'किसी ने भी हमारी सीमा में न तो प्रवेश किया है और न ही हमारी कोई पोस्ट किसी के कब्जे में है। लद्दाख में हमारे 20 जवान शहीद हुए हैं लेकिन भारत मां की ओर आंख उठाने वालों को उन्होंने सबक सिखाया है। उनका ये बलिदान हमेशा हर भारतीय के मन में अमिट रहेगा।'


नरेद्र मोदी, प्रधानमंत्री

प्रधानमंत्री ने कहा, 'उनकी वीरता, उनके कौशल पर देश अटूट विश्वास रखता है। इस सर्वदलीय बैठक के माध्यम से भी मैं शहीदों के परिवारों को विश्वास दिलाता हूं कि पूरा देश उनके साथ है, उन्हें नमन करता हूं।' मोदी ने कहा कि चीन ने जो किया, उससे पूरा देश गुस्से में है।
मोदी ने कहा था, 'हमारी सेना देश की रक्षा में कोई कसर नहीं छोड़ रही है। चाहे डिप्लायमेंट हो, एक्शन हो, काउंटर एक्शन हो, जल-थल-नभ में, हमारी सेनाओं को देश की रक्षा के लिए जो करना है, वो कर रही है।'
लेकिन प्रधानमंत्री की इस बात पर लोगों ने भरोसा नहीं किया था और लोग इस पर सवाल उठा रहे थे। अब तो आधिकारिक तौर पर साफ़ हो गया है कि प्रधानमंत्री ने गलत बयानी की थी। 

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें