loader
फ़ोटो क्रेडिट- @BJP4India

मोदी कैबिनेट का हुआ विस्तार, 43 मंत्रियों ने ली शपथ

बुधवार को मोदी कैबिनेट 2.0 का पहला विस्तार हुआ। इस विस्तार में 43 मंत्रियों को शपथ दिलाई गई। इनमें 15 कैबिनेट और 28 राज्यमंत्री शामिल हैं। कैबिनेट विस्तार के लिए शपथ ग्रहण का कार्यक्रम राष्ट्रपति भवन के दरबार हाल में हुआ। 

दलित-ओबीसी, महिलाओं को जगह

मोदी मंत्रिमंडल में समाज के सभी वर्गों को जगह देने की कोशिश की गई है। नए मंत्रिमंडल में महिलाओं, ओबीसी, युवा चेहरों के साथ ही प्रोफ़ेशनल्स को भी जगह मिली है। मंत्रिमंडल में अब ओबीसी और दलित समुदाय की हिस्सेदारी बढ़ी है। 

मंत्रिमंडल में ओबीसी समुदाय के 27 मंत्री हैं और इनमें से 5 कैबिनेट मंत्री हैं। इसके अलावा दलित समुदाय से 12 मंत्री हैं जबकि आदिवासी समुदाय से 8 लोगों को मंत्री बनाया गया है। धार्मिक अल्पसंख्यकों को भी भागीदारी मिली है और तीन लोगों को कैबिनेट मंत्री बनाया गया है।  

जबकि 29 मंत्री ऐसे हैं जो ब्राह्मण, क्षत्रिय, बनिया, भूमिहार, कायस्थ, लिंगायत, खत्री, कडुवा व लेउआ पटेल आदि समुदायों से संबंध रखते हैं। मंत्रिमंडल में 9 राज्यों से कुल 11 महिलाओं को जगह दी गई है और इनमें से दो को कैबिनेट मंत्री का दर्ज़ा दिया गया है। 

युवा हुई कैबिनेट 

इसके अलावा छह युवा नेताओं को भी जगह मिली है। पिछली कैबिनेट की औसत उम्र 61 थी जो अब 58 रह गई है। 14 मंत्री ऐसे हैं, जिनकी उम्र 50 साल से कम है। मंत्रिमंडल में 13 वकील, पांच इंजीनियर, छह डॉक्टर शामिल हैं। नए मंत्री बने लोगों में से सात पीएचडी और 3 एमबीए डिग्रीधारक हैं। 

ताज़ा ख़बरें

उत्तर प्रदेश को खास तरजीह

कैबिनेट विस्तार में चुनावी राज्य उत्तर प्रदेश को काफ़ी अहमियत मिली है और राज्य से 7 नए मंत्री बनाए गए हैं। इनमें कौशल किशोर, एसपी बघेल, पंकज चौधरी, बीएल वर्मा, अजय कुमार, भानु प्रताप वर्मा और अनुप्रिया पटेल शामिल हैं। राज्य में 7 महीने बाद विधानसभा के चुनाव होने हैं और बीजेपी की पूरी कोशिश सत्ता में वापसी करने की है। 

इन्होंने ली कैबिनेट मंत्री पद की शपथ 

  1. नारायण राणे 
  2. सर्बानंद सोनोवाल
  3. डॉ. वीरेंद्र कुमार
  4. ज्योतिरादित्य सिंधिया
  5. आरसीपी सिंह
  6. अश्विनी वैष्णव
  7. पशुपति पारस
  8. किरण रिजिजू 
  9. आरके सिंह
  10. हरदीप पुरी
  11. मनसुख मंडाविया
  12. भूपेंद्र यादव
  13. पुरूषोत्तम रूपाला
  14. जी. किशन रेड्डी
  15. अनुराग ठाकुर

इन्होंने ली राज्य मंत्री पद की शपथ

  1. पंकज चौधरी
  2. अनुप्रिया पटेल
  3. एसपी सिंह बघेल
  4. राजीव चंद्रशेखर
  5. शोभा करंदलाजे
  6. भानुप्रताप सिंह वर्मा
  7. दर्शना जरदोश
  8. मीनाक्षी लेखी
  9. अन्नपूर्णा देवी
  10. ए. नारायण स्वामी
  11. कौशल किशोर 
  12. अजय भट्ट
  13. बीएल वर्मा
  14. अजय कुमार
  15. देवु सिंह चौहान
  16. भगवंत खुबा
  17. कपिल मोरेश्वर पाटिल
  18. प्रतिमा भौमिक
  19. डॉ. सुभाष सरकार 
  20. भागवत किशन राव कराड
  21. डॉ. राजकुमार रंजन सिंह
  22. डॉ. भारती प्रवीन पवार
  23. बिश्वेश्वर टूडु
  24. शांतनु ठाकुर
  25. डॉ. मुंजापारा महेंद्रभाई
  26. जॉन बारला
  27. डॉ. एल. मुरूगन
  28. निसिथ प्रमाणिक

इस विस्तार के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पिछले डेढ़ महीने में काफ़ी कसरत की है। मोदी ने बीते दिनों कई केंद्रीय मंत्रियों से अलग-अलग मुलाक़ात की थी और उनके विभागों के काम की समीक्षा भी की थी। उन्होंने गृह मंत्री अमित शाह और बीजेपी अध्यक्ष जेपी नड्डा के साथ भी नए मंत्रियों को लेकर काफी विचार-विमर्श किया था। 

कई मंत्रियों का इस्तीफ़ा

कैबिनेट के विस्तार से पहले कई मंत्रियों ने इस्तीफ़ा दे दिया था। रविशंकर प्रसाद, प्रकाश जावड़ेकर, रमेश पोखरियाल निशंक, डॉ. हर्षवर्धन, संतोष गंगवार, सदानंद गौड़ा, बाबुल सुप्रियो जैसे चिर-परिचित चेहरों की भी कैबिनेट से विदाई हो गई है।  

इसके अलावा देबाश्री चौधरी, संजय धोत्रे, रतन लाल कटारिया, राव साहब दानवे पाटिल और प्रताप चंद्र सारंगी की भी कैबिनेट से विदाई हुई है जबकि थावरचंद गहलोत को कर्नाटक का राज्यपाल नियुक्त किया गया है। 

देश से और ख़बरें

इधर, विस्तार से पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने वरिष्ठ मंत्रियों, बीजेपी सांसदों और सहयोगी दलों के सांसदों के साथ बैठक की थी और इसमें बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा भी मौजूद रहे। 

‘मिनिस्ट्री ऑफ़ को-ऑपरेशन’ का गठन

कैबिनेट विस्तार से ठीक एक दिन पहले मोदी सरकार ने एक नये मंत्रालय का गठन किया है। इस मंत्रालय का नाम ‘मिनिस्ट्री ऑफ़ को-ऑपरेशन’ रखा गया है। मंत्रालय का गठन ‘सहकार से समृद्धि’ के दृष्टिकोण को ध्यान में रखते हुए किया गया है। माना जा रहा है कि यह मंत्रालय देश में सहकारिता के आंदोलन को मज़बूत करने के लिए प्रशासनिक, कानूनी और नीतिगत ढांचा उपलब्ध कराएगा। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें