loader

मोदी : चुनाव की तरह राष्ट्रव्यापी हो कोरोना टीकाकरण अभियान

कोरोना का टीका अभी बन कर तैयार नहीं हुआ है, पर इसके वितरण का ब्लू प्रिंट बनाया जा रहा है। इसे इससे समझा जा सकता है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा है कि कोरोना टीका के वितरण में राज्य, केंद्र और सिविल सोसाइटी की भूमिका होगी। इसके साथ ही इसके पास मजबूत सूचना प्रौद्योगिकी और स्वास्थ्य सेवाओं का आधार होना चाहिए। 

प्रधानमंत्री ने ज़ोर देकर कहा कि राष्ट्रीय स्तर पर कोरोना टीका का वितरण वैसा ही होना चाहिए जैसा चुनाव होता है।

टीकाकरण अभियान

बता दें कि नैशनल एक्सपर्ट ग्रुप ऑन वैक्सीन एडमिनिस्ट्रेशन फॉर कोविड-19 पहले से ही काम कर रहा है। यह कोरोना टीका के स्टोरेज, वितरण, क्लिनिक में इसकी निगरानी और इससे जुड़ी दूसरी चीजें मसलन सिरिंज वगैरह के भंडारण वगैरह पर काम कर रहा है। 
ख़ास ख़बरें
नरेंद्र मोदी ने कहा है कि टीकाकरण अभियान में पंचायत से लेकर केंद्र सरकार और सभी नागरिक समूहों को शामिल किया जाएगा। इसे चुनाव की तरह ही राष्ट्र-व्यापी अभियान बनाया जाना चाहिए।

बैठक में मोदी

उन्होंने इसके साथ ही यह भी जोड़ा कि पिछले तीन हफ्तों से लगातार नए मरीजों और मौतों की संख्या लगातार घट रही है और संक्रमण की दर में भी कमी आई है। प्रधानमंत्री ने लोगों से त्योहारी मौसम में भी लोगों से सोशल डिस्टैंसिंग, साफ-सफाई और संयम का पालन करते रहने की अपील की है।
प्रधानमंत्री के साथ हुई इस बैठक में केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन, प्रधानमंत्री के प्रधान सचिव, नीति आयोग के सदस्य (स्वास्थ्य), प्रधान वैज्ञानिक सलाहकार, वरिष्ठ वैज्ञानिक, पीएमओ और अन्य विभागों के अधिकारी भी मौजूद थे।  

टीका का परीक्षण रुका

दूसरी ओर, कोरोना टीका में सबसे आगे रहने वालों में से एक ऑक्सफोर्ड कोरोना वैक्सीन के ट्रायल को झटका लगा है। ट्रायल में भाग लेने वाले के गंभीर रूप से बीमार पड़ने पर ट्रायल को रोकना पड़ा है। एस्ट्राजेनेका कंपनी यह टीका बना रही है। ऑक्सफ़ोर्ड के कोरोना टीका के परीक्षण को रोकने की नौबत आने से निराशा तो हुई है, लेकिन ऑक्सफ़ॉर्ड के इसी टीके और दुनिया भर में कई अन्य जगहों पर तैयार किए जा रहे कोरोना टीके से उम्मीद अभी भी बंधी हुई है।
ऑक्सफ़ोर्ड यूनिवर्सिटी और एस्ट्राजेनेका के इस कोरोना टीका का परीक्षण दुनिया भर के देशों में किया जा रहा है और इसमें भारत भी शामिल है। सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ़ इंडिया इसके उत्पादन के लिए वैश्विक साझेदारों में से एक है।
यानी कोरोना का टीका उत्पादन के लिए तैयार होने पर भारत में इसका उत्पादन किया जा सकेगा। 

ऐसे में यह सवाल उठना लाज़िमी है कि क्या दिसंबर तक टीका बन कर तैयार हो जाएगा। इस पर देखें सत्य हिन्दी का 

संवाद वरिष्ठ पत्रकार मुकेश कुमार के साथ। 

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें