loader

मोदी ने सोनिया, पूर्व राष्ट्रपतियों को किया फ़ोन, लॉकडाउन पर की बात

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने दो पूर्व राष्ट्रपतियों, दो पूर्व प्रधानमंत्रियों, विपक्ष के कई नेताओं और सार्वजनिक जीवन से जुड़े कई लोगों को टेलीफ़ोन कर उनसे कोरोना और लॉकडाउन के मुद्दों पर बात की है। 

देश से और खबरें
एनडीटीवी ने यह ख़बर दी है। इसने सूत्रों के हवाले से कहा है कि मोदी ने पूर्व राष्ट्रपतियों प्रतिभा पाटिल और प्रणव मुखर्जी, पूर्व प्रधानमंत्रियों मनमोहन सिंह और एच. डी. देवगौड़ा के अलावा विपक्ष की सोनिया गाँधी, मुलायम सिंह यादव और अखिलेश यादव से बात की।
इसके अलावा उन्होंने पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी और ओड़िशा के नवीन पटनायक को भी टेलीफ़ोन किया। 

क्यों किया फ़ोन?

प्रधानमंत्री ने पूरे देश में लॉकडाउन लगाने के लगभग 12 दिन बाद इन लोगों को फ़ोन किए।
लॉकडाउन की वजह से लोगों को होने वाली दिक्क़तों को लेकर सरकार की काफी आलोचना हुई है। समझा जाता है कि प्रधानमंत्री लॉकडाउन वापस लेने के तौर-तरीकों पर सबकी राय लेना चाहते हैं।
मोदी ने इसके कुछ दिन पहले वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के ज़रिए सभी मुख्यमंत्रियों से बात की थी।  

प्रधानमंत्री ने क्रिकेटरों और सार्वजनिक जीवन के दूसरे कई लोगों से भी बात की है और लॉकडाउन के मुद्दे पर चर्चा की है।  उन्होंने यह जानने की कोशिश की है कि क्या किया जाए और क्या न किया जाए।  

प्रधानमंत्री ने 8 अप्रैल को एक बैठक बुलाई है, जिसमें विपक्षी दलों को फ़्लोर मैनेजरों यानी संसद के दोनों सदनों में इन दलों के नेताओं को न्योता गया है। समझा जाता है कि मोदी उन लोगों से भी लॉकडाउन हटाने की प्रक्रिया के बारे में राय मशविरा करेंगे। 

भारत में इस रोग की चपेट में अब तक 3,374 लोग आ चुके हैं और 77 लोगों की मौत हो चुकी है।

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता प्रमाणपत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें