loader
मोदी शनिवार शाम को हैदराबाद स्थित रामानुजम आश्रम में

मोदी ने हैदराबाद में स्टैच्यू ऑफ इक्वेलिटी का किया उद्घाटन, केसीआर फिर गायब

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शनिवार को 11वीं सदी के हिंदू संत रामानुजाचार्य के सम्मान में 216 फुट ऊंची 'स्टैच्यू ऑफ इक्वलिटी' का उद्घाटन किया। उन्होंने कहा, "रामानुजाचार्य जी की यह प्रतिमा उनके ज्ञान, वैराग्य और आदर्शों की प्रतीक है।" तेलंगाना के मुख्यमंत्री के. चंद्रशेखर राव ने इस कार्यक्रम का भी बहिष्कार किया। स्टैच्यू ऑफ इक्वलिटी इस बात का प्रतीक है कि रामानुजाचार्य ने जीवन के सभी पहलुओं में समानता के विचार को बढ़ावा दिया।
ताजा ख़बरें
प्रधानमंत्री ने कहा, "आज रामानुजाचार्य जी एक विशाल समानता की मूर्ति के रूप में हमें समानता का संदेश दे रहे हैं।" मूर्ति 'पंचलौह' धातु से बनी है, जो पांच धातुओं: सोना, चांदी, तांबा, पीतल और जस्ता का एक संयोजन है। यह दुनिया की सबसे ऊंची धातु की मूर्तियों में से एक है। इसे 'भद्र वेदी' नामक 54 फीट ऊंचे आधार भवन पर लगाया गया है, जिसमें वैदिक डिजिटल पुस्तकालय और अनुसंधान केंद्र, प्राचीन भारतीय ग्रंथों, एक थिएटर, एक शैक्षिक गैलरी के लिए समर्पित फर्श हैं, जिसमें रामानुजाचार्य के कई कार्यों का विवरण है। 
Modi inaugurates Statue of Equality, KCR disappears again - Satya Hindi
हैदराबाद में शनिवार को स्थापित रामानुचार्य की एक विशाल मूर्ति। इसे स्टैच्यू ऑफ इक्वेलिटी नाम दिया गया है।

रामानुजाचार्य आश्रम के श्री चिन्ना जीयर स्वामी ने इस मूर्ति को स्थापित कराया है।

कार्यक्रम के हिस्से के रूप में, प्रधान मंत्री ने 108 दिव्य देशम (सजावटी रूप से नक्काशीदार मंदिर) का दौरा किया, जो कि स्टैच्यू ऑफ इक्वलिटी के चारों ओर है। रामानुजाचार्य की जीवन यात्रा और शिक्षा पर एक 3डी प्रक्षेपण प्रदर्शन भी प्रदर्शित किया गया। एक आधिकारिक बयान में कहा गया है कि स्टैच्यू ऑफ इक्वैलिटी का उद्घाटन 12 दिवसीय रामानुज सहस्रब्दी समारोह का हिस्सा है, जो रामानुजाचार्य की 1000वीं जयंती है।
देश से और खबरें
इससे पहले अपनी हैदराबाद यात्रा के दौरान, प्रधानमंत्री ने अर्ध-शुष्क उष्णकटिबंधीय के लिए अंतर्राष्ट्रीय फसल अनुसंधान संस्थान (ICRISAT) की 50वीं वर्षगांठ समारोह की शुरुआत की।फिर नहीं आए केसीआर
राजनीतिक विवाद को जन्म देते हुए, तेलंगाना के मुख्यमंत्री के चंद्रशेखर राव, जिन्हें केसीआर के नाम से जाना जाता है, दोनों कार्यक्रमों में नहीं पहुंचे। उन्होंने प्रधानमंत्री का हैदराबाद एयरपोर्ट पर स्वागत भी नहीं किया। हालांकि तेलंगाना के मुख्यमंत्री कार्यालय ने प्रधानमंत्री कार्यालय को बताया कि मुख्यमंत्री बुखार से पीड़ित होने के कारण प्रधानमंत्री के कार्यक्रमों से दूर रहेंगे, लेकिन केसीआर ने जिस तरह दो दिन पहले केंद्र की बीजेपी सरकार और प्रधानमंत्री मोदी पर हमला बोला, आज उनके आने को एक तरह का बहिष्कार माना जा रहा है।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें