loader

विवादः पीएम केसीआर के परिवारवाद पर बोले तो TRS अमित शाह और राजनाथ पर

प्रधानमंत्री मोदी ने गुरुवार को हैदराबाद में मुख्यमंत्री के. चंद्रशेखर राव की परिवारवाद राजनीति पर हमला किया तो जवाब में राव की पार्टी ने अमित शाह से लेकर राजनाथ सिंह के नाम गिनाकर बीजेपी के परिवारवाद पर पलटवार किया। पीएम मोदी ने हाल ही में पूर्व पीएम एच.डी. देवगौड़ा को उनके जन्मदिन पर बधाई दी। संयोग से पीएम ने गुरुवार को जब केसीआर पर अटैक किया तो केसीआर उन्हीं देवगौड़ा से मिलने बेंगलुरु में मौजूद थे।
पीएम मोदी ने कहा कि तेलंगाना के लिए संघर्ष केवल एक परिवार के शासन करने के लिए नहीं था। हालांकि पीएम ने तेलंगाना के सीएम के. चंद्रशेखर राव का नाम नहीं लिया। उन्होंने कहा कि वंशवादी पार्टियों के कारण देश के युवाओं को राजनीति में मौका नहीं मिल रहा है।

ताजा ख़बरें
इस पर मुख्यमंत्री की पार्टी तेलंगाना राष्ट्र समिति (टीआरएस) ने पलटवार करते हुए कहा कि पीएम मोदी ने देश के पीएम की तरह नहीं, सिर्फ बीजेपी के नेता की तरह बात की। पार्टी प्रवक्ता कृष्ण मन्ने ने कहा, पीएम ने केवल परिवारवाद के बारे में बात की। अगर ऐसा है, तो भारतीय क्रिकेट का नेतृत्व करने के लिए जय शाह (केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह के बेटे) कौन हैं? अगर पीएम मोदी परिवारवाद में यकीन नहीं करते तो उन्हें राजनाथ सिंह और उनके बेटे (विधायक पंकज सिंह) को भी पार्टी से निकाल देना चाहिए। तेलंगाना के बारे में बाद में बात करें? जय शाह भारत के बोर्ड ऑफ कंट्रोल फॉर क्रिकेट इन इंडिया (BCCI) के सचिव हैं और गृह मंत्री अमित शाह के बेटे भी हैं।

केसीआर ने भी पीएम की टिप्पणी का तीखा जवाब दिया। बेंगलुरु में पत्रकारों से बात करते हुए, उन्होंने पीएम के हमले को भाषणबाजी बताकर खारिज कर दिया और कहा कि मोदी जी, भारत की अर्थव्यवस्था को संभालें। हालात दिन-ब-दिन बिगड़ते जा रहे हैं। ...बहरहाल, देश बदलना चाहिए, और देश बदलेगा। केसीआर इन दोनों विपक्षी दलों के नेताओं से मिलने और बीजेपी विरोधी विकल्प को मजबूत करने के लिए राष्ट्रव्यापी दौरे पर हैं।

उनके (पीएम मोदी) पास भाषणबाजी के अलावा क्या है। भाषण रोजाना दिए जा रहे हैं। जीडीपी गिर रही है, महंगाई बढ़ रही।


- के. चंद्रशेखर राव, सीएम तेलंगाना, पीएम के भाषण पर प्रतिक्रिया में

हैदराबाद में पीएम मोदी ने कहा कि अलग राज्य के आंदोलन के दौरान तेलंगाना के उज्ज्वल भविष्य के लिए हजारों लोगों ने अपने जीवन का बलिदान किया। यह आंदोलन तेलंगाना के विकास के सपनों को कुचलने के लिए एक परिवार के लिए नहीं था। बता दें कि तेलंगाना को 2014 में तत्कालीन एकीकृत आंध्र प्रदेश से अलग कर बनाया गया था।

पीएम ने कहा कि परिवारवादी दल केवल अपने विकास के बारे में सोचते हैं। इन दलों को गरीब लोगों की परवाह नहीं है, उनकी राजनीति इस बात पर केंद्रित है कि कैसे एक परिवार सत्ता में रह सकता है और जितना हो सके लूटता है। उनकी कोई दिलचस्पी नहीं है लोगों के विकास में।

परिवारवादी राजनीति सिर्फ एक समस्या नहीं है बल्कि लोकतंत्र का सबसे बड़ा शत्रु है। हमारे देश ने देखा है कि एक परिवार को समर्पित राजनीतिक दलों का भ्रष्टाचार कैसे चेहरा बन जाता है।


-पीएम मोदी, गुरुवार को हैदराबाद में

पीएम मोदी कहा कि पूरा देश देख रहा है कि तेलंगाना के लोग करप्शन से कैसे पीड़ित हैं। राज्य में बीजेपी कार्यकर्ताओं को राजनीतिक रूप से निशाना बनाया जा रहा है। उन्होंने कहा कि ये परिवारवादी दल तुष्टिकरण की राजनीति और अपने बैंक खाते भरने में व्यस्त हैं।

पीएम मोदी ने तेलंगाना के मुख्यमंत्री के 'अंधविश्वास' पर भी कटाक्ष किया। उन्होंने कहा कि अंधविश्वासी लोग राज्य के विकास के लिए काम नहीं कर सकते। मैं विज्ञान और प्रौद्योगिकी में विश्वास करता हूं। मैं योगी आदित्यनाथ को भी बधाई देता हूं, जो एक संत हैं, लेकिन अंधविश्वास में विश्वास नहीं करते। हमें ऐसे अंधविश्वासी लोगों से तेलंगाना को बचाना है।  
देश से और खबरें

केसीआर का परिवारवाद

तेलंगाना के मुख्यमंत्री के बेटे केटी रामा राव सिरसिला से विधायक हैं और आईटी, नगर प्रशासन और शहरी विकास के कैबिनेट मंत्री हैं। केसीआर की बेटी कल्वकुंतला कविता ने निजामाबाद से सांसद के रूप में कार्य किया और वर्तमान में 2020 से विधान परिषद, निजामाबाद के सदस्य के रूप में कार्य किया। केसीआर के भतीजे हरीश राव, सिद्दीपेट के विधायक और तेलंगाना के वित्त मंत्री हैं। केसीआर पिछले चार महीनों में दूसरी बार पीएम से नहीं मिले। यह पूछे जाने पर कि हैदराबाद में पीएम मोदी के स्वागत के लिए केसीआर क्यों मौजूद नहीं थे, टीआरएस प्रवक्ता ने कहा, मुख्यमंत्री को वहां रहने की जरूरत नहीं थी।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें