loader
मुंबई में राज ठाकरे की पार्टी के कार्यकर्ता लाउडस्पीकर का विरोध करते हुए। फोटो सोशल मीडिया

अज़ानः कर्नाटक, महाराष्ट्र में लाउडस्पीकर का विरोध शुरू, नासिक में बैन लगा

कर्नाटक और महाराष्ट्र में लाउडस्पीकर के जरिए अज़ान का विरोध शुरू हो गया है। कर्नाटक के मंत्री ने लाउडस्पीकर पर बैन लगाने की मांग की है। महाराष्ट्र के नासिक में लाउडस्पीकर और डीजे पर रोक लगा दी गई है। दोनों ही राज्यों में दक्षिणपंथी समूह लाउडस्पीकर का विरोध कर रहे हैं।

कर्नाटक में अभी तक हलाल विरोधी अभियान चलाकर समुदाय विशेष को टारगेट किया गया। हालांकि हर राज्य और शहर में हलाल मीट और झटके के मीट की अलग-अलग दुकानें होती हैं और लोग अपनी सुविधा, विश्वास और वैज्ञानिक कारणों के हिसाब से मीट खरीदते रहे हैं। लेकिन कर्नाटक में बजरंग दल, श्रीराम सेना ने हलाल मीट के खिलाफ अभियान शुरू किया। अब उन्हीं दोनों संगठनों ने लाउडस्पीकर के जरिए अज़ान का विरोध शुरू कर दिया है।

ताजा ख़बरें
बीजेपी नेता और कर्नाटक के मंत्री एस. ईश्वरप्पा ने कहा कि मुस्लिम लंबे समय से लाउडस्पीकर से नमाज के लिए नमाजियों को बुलाने की परंपरा का पालन कर रहे हैं, लेकिन इससे बच्चे, छात्र और मरीज परेशान होते हैं।

ईश्वरप्पा ने कहा कि हम जोर जोर से 'हनुमान चालीसा' पढ़कर कोई प्रतियोगिता नहीं करना चाहते। मुझे मुसलमानों के नमाज़ अदा करने में कोई आपत्ति नहीं है, लेकिन अगर मंदिरों और चर्चों से भी इसी तरह जोर से लाउडस्पीकर पर प्रार्थना की गई तो इससे दोनों समुदायों के बीच संघर्ष होगा। कर्नाटक के एक अन्य मंत्री सी. एन. अश्वथ नारायण ने कहा कि सरकार अजान के संबंध में कोई नया कानून नहीं लाई है। हम कानूनों में पहले से तय नियमों के अनुसार काम कर रहे हैं। हम किसी के पक्ष या विपक्ष में काम नहीं कर रहे हैं।

बजरंग दल के सदस्य भरत शेट्टी ने कहा कि मस्जिदों में लाउडस्पीकर के खिलाफ अभियान बेंगलुरु में शुरू होगा और बाद में पूरे राज्य में चलाया जाएगा।
श्रीराम सेना प्रमुख प्रमोद मुथालिक और उनके सहयोगियों ने सरकार को मस्जिद से माइक हटाने की चेतावनी दी। उन्होंने कहा, इससे ध्वनि प्रदूषण हो रहा है। सरकार के कार्रवाई नहीं करने पर आंदोलन तेज करने की धमकी दी। इस अभियान में हर रोज सुबह 5 बजे मंदिरों में अज़ान का "काउंटर" करने के लिए भजन बजाना शामिल होगा।
बैक-टू-बैक ऐसे नफरती अभियानों पर कर्नाटक सरकार की "चुप्पी" की विपक्षी दलों ने आलोचना की है।  इस पर प्रतिक्रिया देते हुए शहर के पुलिस आयुक्त कमल पंत ने कहा कि 2000 में बने ध्वनि प्रदूषण (विनियमन और नियंत्रण) नियमों के तहत ध्वनि प्रदूषण पर हाईकोर्ट के निर्देशों का कड़ाई से पालन करना सभी पूजा स्थलों के लिए आवश्यक है। किसी भी उल्लंघन पर कानूनी कार्रवाई होगी।

पूर्व मुख्यमंत्री एच.डी. कुमारस्वामी ने मुख्यमंत्री बसवराज बोम्मई पर इन मुद्दों पर चुप रहने का आरोप लगाया। उन्होंने कहा कि मुसलमान अज़ान के लिए लाउडस्पीकर का इस्तेमाल करते रहे हैं। हिंदुत्ववादी संगठन अब अचानक क्यों परेशान हो रहे हैं? मुख्यमंत्री कुछ भी जवाब नहीं दे रहे हैं। वह ऐसे चुप रहे जैसे कुछ हुआ ही न हो।
उन्होंने कहा, पिछले डेढ़ महीने में राज्य में शांति और सद्भाव को बिगाड़ने के लिए कई प्रयास किए गए हैं। यह उत्तर प्रदेश नहीं है। बीजेपी यहां इन मुद्दों के आधार पर 2023 का चुनाव नहीं जीत सकती।

नासिक में लाउडस्पीकर बैन

महाराष्ट्र के नासिक में लाउडस्पीकर पर बैन लगा दिया गया है। पुलिस कमिश्नर दीपक पांडे ने कहा कि हमने सभी लाउडस्पीकर और डीजे बंद करने का आदेश जारी किया था। कोई कानून अपने हाथ में नहीं ले सकता। अगर कोई शांति भंग करने की कोशिश करता है तो उसके खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी। हम महाराष्ट्र सरकार के निर्देशों का पालन करेंगे। महराष्ट्र नव निर्माण सेना (मनसे) के अध्यक्ष राज ठाकरे ने हाल ही में मांग की थी कि मस्जिदों से लाउडस्पीकर हटाए जाएं, अन्यथा हमारे कार्यकर्ता मस्जिदों के आगे हनुमान चालीसा पढ़ेंगे। मुंबई में मनसे के एक कार्यकर्ता महेंद्र भंसाली को ऐसी ही कथित कोशिश में गिरफ्तार भी किया जा चुका है। हालांकि शिवसेना के संजय राउत, एनसीपी प्रमुख शरद पवार और कांग्रेस नेताओं ने राज ठाकरे के बयान पर आपत्ति प्रकट की थी। बता दें कि महाराष्ट्र विधानसभा के पिछले चुनाव में राज ठाकरे की पार्टी को कोई सफलता नहीं मिली। बहुत दिनों से वो खामोश थे लेकिन अब रमज़ान शुरू होते ही उन्होंने समुदाय विशेष को टारगेट करते हुए लाउडस्पीकर का मुद्दा छेड़ दिया है।
सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें