loader

पाक के नये पीएम बोले 'भारत से अच्छे संबंध चाहता हूँ', पर कश्मीर राग भी छेड़ा

पाकिस्तान के नये प्रधानमंत्री शहबाज शरीफ ने पीएम चुने जाने के बाद कहा है कि वह भारत के साथ अच्छे संबंध चाहते हैं, लेकिन इसके साथ ही उन्होंने कश्मीर का राग भी छेड़ दिया। शहबाज ने संसद में अपने संबोधन में सोमवार को कहा, 'हम भारत के साथ अच्छे संबंध चाहते हैं लेकिन कश्मीर के समाधान के बिना स्थायी शांति संभव नहीं है।'

वैसे, भारत और पाकिस्तान के बीच संबंध बेहद ख़राब रहे हैं और बेहद नाजुक भी। पाकिस्तान अक्सर कश्मीर मुद्दे को उठाता रहा है और यह मुद्दा वहाँ की राजनीति को भी प्रभावित करता रहा है। 

ताज़ा ख़बरें

हालाँकि दोनों देशों के बीच आज़ादी के बाद से ही रिश्ते ख़राब रहे हैं और युद्ध भी हो चुके हैं, लेकिन हाल में दोनों देशों के बीच 2019 से फिर से तनाव बढ़ गया है, जब एक आत्मघाती हमलावर ने भारतीय कश्मीर में 40 भारतीय अर्धसैनिक बलों को मार डाला था। तब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सरकार ने 1971 के बाद से पाकिस्तानी धरती पर भारत के पहले हवाई हमलों को अंजाम दिया था। इसके कारण हवाई हवाई लड़ाई भी हुई। भारत पाकिस्तान पर आतंकवाद को बढ़ावा देने और वहाँ की जमीन का इस्तेमाल आतंकवादी गतिविधियों के लिए करने देने पर नाराज़गी जताता रहा है।

भारत के इन आरोपों के जवाब में जब तब पाकिस्तान कश्मीर मुद्दे को उठाता रहा है और उसके समाधान की बात कहता है। हालाँकि भारत का साफ़ तौर पर कहता रहा है कि जम्मू कश्मीर भारत का अभिन्न अंग है और इस पर कोई विवाद नहीं है। 

इसी बीच अब जब इमरान ख़ान की सरकार गिरी है और नई सरकार बनी है तो नये प्रधानमंत्री शहबाज शरीफ का बयान आया है। उन्होंने कहा, 'हम भारत के साथ अच्छे संबंध चाहते हैं लेकिन कश्मीर मुद्दे के शांतिपूर्ण समाधान के बिना ऐसा नहीं हो सकता। हम हर अंतरराष्ट्रीय मंच पर कश्मीर का मुद्दा उठाएंगे।' 

इसके साथ ही अपने पूर्ववर्ती इमरान ख़ान के 'सरकार को हटाने की विदेशी साजिश' के दावों को ड्रामा करार देते हुए शहबाज ने इमरान के आरोपों के साबित होने पर इस्तीफा देने की पेशकश की।

कथित विदेशी साजिश से संबंधित पत्र और इमरान ख़ान सरकार के पतन का ज़िक्र करते हुए शहबाज शरीफ ने कहा, 'पाकिस्तान की राष्ट्रीय सुरक्षा समिति को तथाकथित विदेशी साजिश से संबंधित विवादास्पद पत्र पर जानकारी दी जाएगी। अगर साजिश साबित हुई तो मैं इस्तीफा दूंगा और घर जाऊंगा।'

देश से और ख़बरें

बता दें कि इमरान खान ने दावा किया था कि अमेरिका पिछली पाकिस्तान तहरीक-ए-इंसाफ यानी पीटीआई सरकार को गिराने की साजिश में शामिल था।

रायटर्स की रिपोर्ट के अनुसार शहबाज शरीफ ने यह भी दावा किया कि पाकिस्तान देश के इतिहास में सबसे बड़े बजट घाटे के साथ-साथ ऐतिहासिक व्यापार और चालू खाता घाटे दर्ज करने के रास्ते पर है। उन्होंने निवर्तमान इमरान खान सरकार पर अर्थव्यवस्था के कुप्रबंधन का आरोप लगाया और कहा कि शरीफ की नई सरकार इसे पटरी पर लाने के लिए एक बड़ी चुनौती का सामना करने का इंतजार कर रही है।

ख़ास ख़बरें
बता दें कि शहबाज शरीफ सोमवार को ही पाकिस्तान के नये प्रधानमंत्री चुन लिए गये। वह पाकिस्तान के 23वें पीएम बने हैं। वह तीन बार के पूर्व प्रधानमंत्री नवाज शरीफ के छोटे भाई हैं। शहबाज पाकिस्तान मुसलिम लीग-नवाज यानी पीएमएल-एन के प्रमुख हैं और तीन बार प्रधानमंत्री चुने गए नवाज शरीफ के छोटे भाई हैं। वह तीन बार पंजाब के मुख्यमंत्री रह चुके हैं। 155 सदस्यों वाली पाकिस्तान तहरीक-ए-इंसाफ के बहिष्कार के बाद 342 सीटों वाली नेशनल असेंबली में शहबाज को 174 वोट मिले। पाकिस्तान तहरीक-ए-इंसाफ यानी पीटीआई के नेता शाह महमूद कुरैशी भी रविवार को अपने नामांकन पत्रों को मंजूरी मिलने के साथ प्रधानमंत्री पद के लिए मैदान में थे। लेकिन सत्र शुरू होने से पहले पाकिस्तान तहरीक-इंसाफ यानी पीटीआई ने चुनाव का बहिष्कार करने और निचले सदन से सामूहिक रूप से इस्तीफा देने का फैसला किया।
सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें