loader

एफसीआरए लाइसेंस के मामले में 6 हजार एनजीओ को नहीं मिली राहत

सुप्रीम कोर्ट ने मंगलवार को 6000 से अधिक एनजीओ को राहत देने से इंकार कर दिया। इन एनजीओ के एफसीआरए लाइसेंस को रिन्यू करने से केंद्र सरकार ने इनकार कर दिया था और इसी को अदालत में चुनौती दी गई थी। इस मामले में अमेरिका की एनजीओ ग्लोबल पीस इनीशिएटिव ने अदालत में याचिका दायर की थी और कहा था कि एफसीआरए लाइसेंस को रद्द करने से कोरोना महामारी के दौरान चलाए जा रहे राहत कार्यक्रमों पर खराब असर पड़ेगा। 

इस संस्था ने कहा था कि कोरोना महामारी की तीसरी लहर के दौरान कई एनजीओ बेसहारा और गरीब भारतीयों की सेवा कर रहे हैं।

जस्टिस एएम खानविलकर, जस्टिस दिनेश माहेश्वरी और जस्टिस सीटी रवि कुमार की बेंच ने केंद्र सरकार के उस तर्क पर गौर किया जिसमें सरकार की ओर से कहा गया था कि 11,594 ऐसे एनजीओ जिन्होंने डेडलाइन खत्म होने से पहले लाइसेंस रिन्यू कराने के लिए आवेदन दिया था उन्हें पहले ही विस्तार दिया जा चुका है। 

ताज़ा ख़बरें
इस पर अदालत ने कहा कि एनजीओ अपना पक्ष सक्षम प्राधिकरण के सामने रख सकते हैं। केंद्र सरकार की ओर से पेश हुए सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता ने इस याचिका पर सवाल उठाया और कहा कि हजारों एनजीओ जिन्होंने लाइसेंस रिन्यू करने के लिए आवेदन दिया था उनका मामला हल हो चुका है लेकिन जिस एनजीओ ने यह याचिका दायर की है, समझ पाना मुश्किल है इसके पीछे उसका क्या उद्देश्य है। 
देश से और खबरें

बता दें कि इस साल की शुरुआत में 6000 से ज्यादा एनजीओ ऐसे थे जिनका एफसीआरए लाइसेंस खत्म हो गया था। इनमें से अधिकतर एनजीओ की ओर से लाइसेंस को रिन्यू करने के लिए आवेदन नहीं किया गया था। 

एफसीआरए लाइसेंस के जरिए ही विदेशों से चंदा हासिल किया जा सकता है। बीते साल दिसंबर में गृह मंत्रालय ने मदर टेरेसा मिशन ऑफ चैरिटी का एफसीआरए लाइसेंस रिन्यू करने से इंकार कर दिया था लेकिन कुछ दिनों बाद इसे बहाल कर दिया गया था। 

भारत में अभी 16819 एनजीओ ऐसे हैं जिनके पास एफसीआरए लाइसेंस है।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें