loader

पूरे देश में 3 मई तक लॉकडाउन बढ़ा, बाहर निकलने पर और ज़्यादा सख़्ती

कोरोना पॉजिटिव मामले बढ़ने के बीच पूरे देश भर में अब लॉकडाउन को 3 मई तक बढ़ा दिया गया है। अब पहले से ज़्यादा सख़्ती बरती जाएगी। यानी घर से बाहर निकलने पर अब और ज़्यादा पाबंदी होगी। हालाँकि 20 अप्रैल के बाद इसमें ढील दी जा सकती है, लेकिन स्थिति सुधरी तभी। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देश के नाम संबोधन में इसकी घोषणा की। लॉकडाउन बढ़ाए जाने की संभावना पहले से ही जताई जा रही थी और इसमें कोई अप्रत्याशित बात नहीं हुई। हालाँकि, इसके साथ माना जा रहा था कि प्रधानमंत्री ग़रीबों और मज़दूरों के लिए कोई आर्थिक पैकेज की घोषणा कर सकते हैं, लेकिन ऐसा नहीं हुआ। इस बात के भी कयास लगाए जा रहे थे कि देश को कोरोना प्रभावित क्षेत्रों को रेड, ऑरेंज और ग्रीन क्षेत्र में बाँटा जाएगा और इसके अनुसार ही लॉकडाउन की योजना बनाई जाएगी, लेकिन प्रधानमंत्री ने इस पर भी कुछ नहीं कहा।
ताज़ा ख़बरें
प्रधानमंत्री ने कोरोना के ख़िलाफ़ लड़ाई को मज़बूती के साथ लड़ने की बात कही। इसके साथ ही उन्होंने कहा कि लॉकडाउन और सोशल डिस्टेंसिंग का बड़ा फ़ायदा मिला है। लोगों ने अनुशासित सिपाही की तरह कर्तव्य निभाया है। हालाँकि उन्होंने यह ज़रूर कहा कि 20 अप्रैल के बाद कुछ छूट दी जा सकती है, लेकिन 20 अप्रैल तक हर राज्य और हर कस्बे को बारीकी से परखा जाएगा।

प्रधानमंत्री की सात सलाह

  1. अपने घर के बुजुर्गों का विशेष ध्यान रखें।
  2. लॉकडाउन और सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करें।
  3. अपनी इम्यूनिटी बढ़ाने के लिए आयुष मंत्रालय की सलाह का पालन करें।
  4. संक्रमण रोकने के लिए 'आरोग्य सेतु' मोबाइल एप डाउनलोड करें।
  5. जितना हो सके उतने ग़रीब परिवार की देखरेख करें।
  6. अपने व्यवसाय में काम करने वाले लोगों को नौकरी से न निकालें।
  7. कोरोना की लड़ाई में लगे सभी लोगों का आदर और सम्मान करें।

प्रधानमंत्री ने कोरोना के ख़िलाफ़ लड़ाई में सरकार के प्रयासों की तारीफ़ की और कहा कि जब 550 केस थे तभी भारत ने 21 दिन के संपूर्ण लॉकडाउन की घोषणा कर दी थी। उन्होंने कहा कि भारत ने समस्या बढ़ने का इंतज़ार नहीं किया और समय पर लॉकडाउन किया। इसके साथ ही उन्होंने यह भी कहा कि भारत में समस्या दिखते ही तेज़ी से फ़ैसले लिए गए, जब एक भी मामला नहीं था तब भारत ने एयरपोर्ट पर फौरन स्क्रीनिंग शुरू की। 

बता दें कि 24 मार्च को घोषित किए गए 21 दिन के लॉकडाउन की मियाद आज ख़त्म हो रही है। अब तक कम से कम आठ राज्य अपने-अपने राज्यों में लॉकडाउन बढ़ाने की घोषणा कर चुके हैं।

देश से और ख़बरें

कोरोना वायरस पर स्थिति और लॉकडाउन बढ़ाने के मुद्दे पर प्रधानमंत्री मोदी ने शनिवार को ही चार घंटे तक मुख्यमंत्रियों से वीडियो कॉन्फ़्रेंसिंग के ज़रिये बातचीत की थी। तब रिपोर्टों में कहा गया था कि इस दौरान केंद्र व लगभग 13 राज्यों ने लॉकडाउन को 2 हफ़्ते और बढ़ाये जाने पर सहमति जताई थी। 

अब भी कोरोना पॉजिटिव मामले बढ़ते ही जा रहे हैं। मंगलवार को ही 24 घंटे में 1211 नये मामले आए हैं और 31 लोगों की मौत हो गई है। स्वास्थ्य मंत्रालय के मुताबिक़, देश में कोरोना पॉजिटिव मामले बढ़कर 10,363 हो गए हैं। 339 लोगों की मौत हो गई है। हालाँकि 1035 लोग पूरी तरह ठीक भी हो चुके हैं। 

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें