loader

मोदी के संबोधन पर राहुल का तंज - ‘तू इधर-उधर की न बात कर, ये बता कि काफ़िला कैसे लुटा’

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के देश के नाम संबोधन पर कांग्रेस ने तेज़ और तीख़ा हमला बोला है। कांग्रेस ने कहा है कि मोदी अपने भाषण में चीन की निंदा करनी तक भूल गए। पार्टी ने कहा कि मोदी इतने डरे हुए हैं कि देश के नाम संबोधन में उन्होंने चीन का जिक्र तक नहीं किया। 

कांग्रेस ने मोदी के भाषण के बाद ट्विटर पर हैशटैग #StopBhaashanTakeAction चलाते हुए कहा है कि यह प्रधानमंत्री का एक और संबोधन था, जो एक सरकारी नोटिफ़िकेशन के जरिये भी हो सकता था। 

कांग्रेस ने पूछा है, ‘प्रधानमंत्री को अनियोजित लॉकडाउन से देशवासियों को हुए फायदे बताने चाहिए। कोरोना नियंत्रण के लक्ष्य में तो लॉकडाउन पूरी तरह फेल साबित हुआ है। देश जानना चाहता है कि अनियोजित लॉकडाउन के तय लक्ष्यों को देश पा सका है या नहीं?’

ताज़ा ख़बरें
कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने प्रधानमंत्री के संबोधन पर शेर मारते हुए ट्वीट किया, ‘तू इधर-उधर की न बात कर, ये बता कि काफ़िला कैसे लुटा, मुझे रहज़नों से गिला तो है, पर तेरी रहबरी का सवाल है।’ गलवान में भारतीय जवानों की शहादत और भारत की सीमा में चीनी घुसपैठ को लेकर भी राहुल गांधी इन दिनों मोदी सरकार पर ख़ासे हमलावर हैं। राहुल के आक्रामक अंदाज पर देखिए पवन का विश्लेषण। 

राहुल गांधी ने मंगलवार सुबह एक ग्राफ़ ट्वीट कर यूपीए सरकार के दौरान और बीजेपी के नेतृत्व वाली एनडीए सरकार के दौरान चीन से हुए आयात की तुलना की थी। ट्वीट में उन्होंने लिखा था, ‘आंकड़े झूठ नहीं बोलते, बीजेपी कहती है - मेक इन इंडिया (भारत में बनाओ), बीजेपी करती है - बाय फ़्रॉम चाइना (चीन से ख़रीदो)। 

ग्राफ़ में दिखाया गया है कि 2014 में केंद्र में एनडीए की सरकार बनने के बाद चीन से आयात तेजी से बढ़ा है और 2018 में यह ऊंचाई तक पहुंच गया। 

देश से और ख़बरें
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के इस बयान पर कि भारत की सीमाओं में कोई घुसपैठ नहीं हुई है, राहुल गांधी ने हाल ही में उन पर तीख़ा हमला बोला था और दो सवाल पूछे थे। राहुल ने गलवान पर ट्वीट करते हुए कहा था कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भारतीय क्षेत्र को चीनी आक्रमण के सामने आत्मसमर्पण कर दिया है। राहुल ने पहला सवाल पूछा था कि अगर धरती चीन की थी तो हमारे सैनिक क्यों मारे गए और दूसरा सवाल यह कि वे कहां मारे गए। 
राहुल गांधी ने मोदी सरकार से सवाल पूछा था, 'क्या भारतीय ज़मीन पर चीन ने क़ब्ज़ा किया है?’ राहुल ने इससे पहले पूछा था, ‘चीन ने हमारे जवानों को मारा है, चीन ने हमारी ज़मीन ली है, तब इस तनाव के वक्त चीन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की तारीफ क्यों कर रहा है।’ 

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता प्रमाणपत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें