loader

जी-20: प्रधानमंत्री बोले- अफ़ग़ानिस्तान को आतंकवाद का स्रोत बनने से रोकें

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने जी-20 शिखर सम्मेलन में अफ़ग़ान क्षेत्र को कट्टरता और आतंकवाद का स्रोत बनने से रोकने पर जोर दिया है। उन्होंने कहा कि अफ़ग़ानिस्तान में स्थिति में सुधार के लिए अंतरराष्ट्रीय प्रयास की ज़रूरत है। 

वह मंगलवार को वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से अफ़ग़ानिस्तान पर जी-20 एक्स्ट्राऑर्डिनरी शिखर सम्मेलन को संबोधित कर रहे थे। इटली के प्रधानमंत्री मारियो ड्रैगी ने यह सम्मेलन आयोजित किया था। सम्मेलन में प्रधानमंत्री मोदी के बयान को विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता अरिंदम बागची ने ट्विटर पर भी पोस्ट किया है। 

बयान में कहा गया है कि प्रधानमंत्री ने यह सुनिश्चित करने की ज़रूरत बताई कि अफ़ग़ान क्षेत्र क्षेत्रीय या वैश्विक स्तर पर कट्टरपंथ और आतंकवाद का स्रोत नहीं बने। उन्होंने इस क्षेत्र में कट्टरपंथ, आतंकवाद, नशीले पदार्थों और हथियारों की तस्करी के गठजोड़ के ख़िलाफ़ साझा लड़ाई को आगे बढ़ाने की ज़रूरत बताई।

बयान में कहा गया है कि 'प्रधानमंत्री मोदी ने भारत और अफ़ग़ानिस्तान के बीच सदियों पुराने लोगों के बीच आपसी संबंधों पर जोर दिया। प्रधानमंत्री ने उल्लेख किया कि पिछले दो दशकों में भारत ने अफ़ग़ानिस्तान में युवाओं और महिलाओं के सामाजिक-आर्थिक विकास और उनकी क्षमता को बढ़ावा देने में योगदान दिया है।' प्रधानमंत्री ने इसका ज़िक्र कि भारत द्वारा अफ़ग़ानिस्तान में 500 से अधिक विकास परियोजनाओं को लागू किया गया है। 

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि अफ़ग़ान लोगों के मन में भारत के प्रति मैत्री की भावना है। उन्होंने संदेश दिया कि हर भारतीय भूख और कुपोषण का सामना कर रहे अफ़ग़ान लोगों का दर्द महसूस करता है। 

ट्विटर पर प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि उन्होंने अफ़ग़ान नागरिकों को तत्काल और निर्बाध मानवीय सहायता देने का आह्वान किया है।

उन्होंने यह भी कहा कि 'अफ़ग़ानिस्तान में स्थिति में सुधार के लिए यूएनएससी प्रस्ताव 2593 पर आधारित एकीकृत अंतरराष्ट्रीय प्रतिक्रिया ज़रूरी है।'

भारत की महीने भर की अध्यक्षता के तहत 30 अगस्त को संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद का प्रस्ताव 2593 जारी किया गया था। यह इस बात पर जोर देता है कि अफ़ग़ानिस्तान को आतंकवाद से जुड़ी गतिविधियों के लिए अपनी धरती का इस्तेमाल नहीं करने देना चाहिए। 

देश से और ख़बरें

प्रधानमंत्री मोदी के साथ अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडन और जर्मन चांसलर एंजेला मर्केल ने भी सम्मेलन में भाग लिया। चांसलर मर्केल ने कहा कि जर्मनी अभी तक तालिबान को अफ़ग़ानिस्तान की सरकार के रूप में मान्यता देने के लिए तैयार नहीं है। बता दें कि अफ़ग़ानिस्तान से हाल ही में अमेरिकी फौजें लौटी हैं और अब वहाँ तालिबान ने फिर से कब्जा जमा लिया है। समझा जाता है कि तालिबान एक तरफ़ तो अपनी सरकार को अंतरराष्ट्रीय स्तर पर मान्यता दिलाने की कोशिश में है, लेकिन दूसरी तरफ़ वह अपने पुराने ढर्रे पर ही चलता हुआ दिखाई दे रहा है।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें