loader

लखनऊ शिफ़्ट कर सकती हैं प्रियंका, यूपी चुनाव 2022 पर रहेगा फ़ोकस 

कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा अब लखनऊ को अपना ठिकाना बना सकती हैं। बुधवार को केंद्र सरकार ने प्रियंका को उनका नई दिल्ली स्थित सरकारी बंगला खाली करने का नोटिस दिया था। 

मीडिया में आई ख़बरों के मुताबिक़, प्रियंका उत्तर प्रदेश में कांग्रेस की सियासी ज़मीन को मजबूत करने के लिए लखनऊ में ही रहेंगी। यहां से प्रदेश कांग्रेस के संगठन के कामकाज पर भी वह नज़र रख सकेंगी। हालिया दिनों में प्रियंका ख़ासी सक्रिय रही हैं और उनका पूरा ध्यान उत्तर प्रदेश में 2022 में होने वाले विधानसभा चुनाव पर है। 

प्रियंका कांग्रेस महासचिव होने के साथ ही उत्तर प्रदेश की प्रभारी भी हैं। उत्तर प्रदेश में संगठन के प्रदेश अध्यक्ष के चयन से लेकर जिला, शहर, ब्लॉक कांग्रेस कमेटियों के गठन पर भी प्रियंका की नज़र है।
ऐसे में कांग्रेस के सियासी आधार को मजबूत करने के मद्देनजर लखनऊ उनके लिए मुफीद जगह होगी। 

कौल हाउस में रहेंगी?

बताया गया है कि प्रियंका लखनऊ स्थित कौल हाउस में शिफ़्ट कर सकती हैं। यह घर पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी की मामी शीला कौल का है। शीला कौल भी कांग्रेस में रही थींं। यह बंगला गोखले मार्ग पर है और कई सालों से बंद पड़ा है लेकिन अब इसे साफ-सफाई कर बेहतर बनाया जा रहा है। ऐसे में कौल हाउस में आने वाले दिनों में कांग्रेस कार्यकर्ताओं का जमावड़ा देखने को मिल सकता है। 

उत्तर प्रदेश में कांग्रेस को जिंदा करने में जुटीं प्रियंका गांधी ने सोनभद्र में आदिवासियों के नरसंहार का मामला हो, नागरिकता संशोधन क़ानून के ख़िलाफ़ हो रहे प्रदर्शनों का मामला हो, लॉकडाउन के दौरान घर लौट रहे प्रवासी श्रमिकों को हुई परेशानी का मसला हो, उत्तर प्रदेश में बिजली-पानी की क़ीमतें बढ़ने से लेकर शिक्षक भर्ती मामला या जनहित से जुड़ा कोई और मुद्दा, लगातार आवाज़ उठाई है। 

प्रियंका ख़ुद को दमदार विपक्षी नेता के रूप में स्थापित करने में जुटी हैं। प्रियंका गांधी को बंगला खाली करने का नोटिस मिलने पर देखिए वरिष्ठ पत्रकार आशुतोष का वीडियो - 

इससे पहले केंद्र सरकार ने बुधवार को प्रियंका गांधी से कहा था कि वह नई दिल्ली में उन्हें मिला सरकारी बंगला 1 अगस्त को खाली कर दें। प्रियंका के बंगले का पता 35, लोदी एस्टेट है। प्रियंका 1997 से इस बंगले में रह रही हैं। प्रियंका इस बंगले का किराया भी देती हैं। 

केंद्रीय आवास और शहरी मंत्रालय की ओर से भेजे गए पत्र में कहा गया है कि उनके बंगले का आवंटन रद्द कर दिया गया है क्योंकि अब उनके पास स्पेशल प्रोटेक्शन ग्रुप (एसपीजी) की सुरक्षा नहीं है। पिछले साल सोनिया गांधी, राहुल गांधी और प्रियंका की एसपीजी सुरक्षा वापस ले ली गई थी। तब इसे लेकर ख़ासा हंगामा हुआ था। 

देश से और ख़बरें

ऐसे नोटिसों से नहीं डरते: कांग्रेस

केंद्र सरकार की ओर से कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा को उनका नई दिल्ली स्थित सरकारी बंगला खाली करने का नोटिस मिलने पर कांग्रेस ने पलटवार किया है। कांग्रेस मीडिया विभाग के प्रभारी रणदीप सिंह सुरजेवाला ने कहा है कि प्रियंका गांधी के उत्तर प्रदेश में सक्रिय होने से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी मोदी और मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ विचलित हो गए हैं। उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार इतनी गिर गयी है कि प्रियंका गांधी को मकान खाली करने का नोटिस दे दिया। 

सुरजेवाला ने कहा कि बीजेपी और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की कांग्रेस नेतृत्व से नफरत की भावना और बदले की नीति जगजाहिर है। उन्होंने कहा कि पूरे देश ने देखा कि मोदी सरकार ने पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी के परिवार और पूर्व प्रधानमंत्रियों राजीव गांधी और एचडी देवेगौड़ा से एसपीजी की सुरक्षा वापस ले ली, क्योंकि मोदी ख़ुद को बढ़ा दिखाकर सबको नीचा दिखाना चाहते थे। 

कांग्रेस नेता ने कहा कि न तो प्रियंका और न ही कांग्रेस नेतृत्व ऐसे नोटिसों से डरने वाला है। उन्होंने कहा कि कांग्रेस लगातार जनता की आवाज़ उठाती रहेगी। 

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें