loader
फ़ोटो साभार: ट्विटर/प्रियंका गांधी/वीडियो ग्रैब

ऐसी क्रूरता: अब रेत में दबे शवों से कफ़न हटा रहे हैं!

पहले तो सम्मान से अंतिम संस्कार नहीं और अब रेत में दफन शवों के साथ भी क्रूरता! गंगा किनारे रेत में दबाए गए शवों से रामनामी चादर रूपी कफन को भी हटाने की तसवीरें सोशल मीडिया पर वायरल हो रही हैं। सवाल उठाए जा रहे हैं कि क्या इस हद तक संवेदनशीलता और मानवता ख़त्म हो गई है!

कांग्रेस नेता प्रियंका गांधी ने भी एक वीडियो को शेयर किया है जिसमें कुछ लोग रेत में दफन शवों से रामनामी हटा रहे हैं। प्रियंका ने लिखा है कि 'जीते जी ढंग से इलाज नहीं मिला, कई को सम्मान से अंतिम संस्कार नहीं और अब कब्रों से रामनामी छीनी जा रही है।' प्रियंका ने ट्वीट कर लिखा है कि ये अनादर है- मृतक का, धर्म का, मानवता का।

हालाँकि, प्रियंका ने ट्विटर पर जो वीडियो शेयर किया है उसमें यह नहीं लिखा है कि वह वीडियो कहाँ का है। उन्होंने यह ज़रूर लिखा है कि छवि चमकाने के लिए सरकार पाप करने पर उतारू है। उन्होंने यह सवाल भी पूछा है कि यह कौन-सा सफ़ाई अभियान है। ट्विटर पर दूसरे लोगों ने भी जो वीडियो शेयर किए हैं उसमें कहा जा रहा है कि यह गंगा किनारे रेत में दफन शवों के ऊपर के कफन हैं।

वीडियो में दिखता है कि रेत में कई जगहों पर लकड़ियाँ गाड़ी हुई हैं और जगह-जगह पर कफन जैसी चमकीली चादरें हैं। कुछ लोग उन लकड़ियों और उन कफन जैसी चादरों को हटा रहे हैं। कुछ जगहों पर लकड़ी के ढेर भी दिखते हैं।

हाल में उत्तर प्रदेश में गंगा किनारे कई जगहों से शवों के गंगा में तैरते मिलने और रेत में दफ़न शवों की तसवीरें और वीडियो सामने आए हैं। ऐसी भयावह तसवीर के लिए राज्य सरकार और मोदी सरकार पर कोरोना संकट से निपटने में विफल रहने के आरोप लगाए जा रहे हैं। 

यूपी में गंगा किनारे रेत में दफन शवों के लिए योगी सरकार निशाने पर रहे हैं। ऐसे मामले राज्य में कई जगहों से आए। प्रयागराज से भी ऐसे मामले आए।

ताज़ा ख़बरें

हाल ही प्रयागराज में गंगा किनारे रहने वाले लोगों की शिकायतें थीं कि कुत्ते कब्रों को खोद रहे थे। इंडिया टुडे की रिपोर्ट के अनुसार, इस बीच प्रयागराज नगर निगम ने अब संगम क्षेत्र में गंगा के तट पर एक टीम तैनात की है ताकि इलाक़े में बारिश के कारण रेत हटने से जो सैकड़ों कफन दिखने लगे हैं उन शवों को ढंका जा सके। 

रेत से उन कफनों को तो हटाया ही जा रहा है, रेत में दबे शवों के चारों ओर इस्तेमाल की गईं लकड़ियाँ भी निकाली जा रही हैं। सवाल है कि ऐसा क्यों किया गया?

आरोप लगाया जा रहा है कि ऐसा इसलिए ताकि कैमरे पर कब्रों का पता न चल सके। वरिष्ठ पत्रकार ब्रजेश मिश्रा ने ट्विटर पर यही लिखा है। 

हाल के दिनों में दिखा है कि देश के मीडिया के कुछ हिस्सों के अलावा न्यूयॉर्क टाइम्स, वाशिंगटन पोस्ट जैसे अंतरराष्ट्रीय मीडिया ने इन घटनाओं की रिपोर्टिंग की है और रेत में दफन शवों की तसवीरें छापी हैं। समझा जाता है कि इससे मोदी सरकार की छवि धुमिल हुई है। इसकी चिंता बीजेपी और संघ को कितनी है इसका अंदाज़ा इससे लगाया जा सकता है कि संघ ने बीजेपी पदाधिकारियों के साथ रविवार शाम को बैठक की और इसमें प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और गृह मंत्री अमित शाह भी शामिल रहे। सूत्रों के हवाले से आई ख़बर के अनुसार इस बैठक में कोरोना संकट के चलते पार्टी की छवि को हुए नुक़सान और 8 महीने बाद होने वाले उत्तर प्रदेश के चुनाव में इसका क्या असर हो सकता है, इस पर मंथन हुआ। 

देश से और ख़बरें

कोरोना संकट के बीच उत्तर प्रदेश में हाल ही में हुए पंचायत चुनाव के नतीजों ने भी बीजेपी और संघ को परेशान किया है। पंचायत चुनाव में एसपी को बीजेपी से ज़्यादा सीटें मिलीं और पश्चिमी उत्तर प्रदेश में तो एसपी और आरएलडी के गठजोड़ ने बीजेपी को ख़ासा नुक़सान पहुंचाया। बीजेपी का अपने गढ़ माने जाने वाले अयोध्या, मथुरा और वाराणसी में भी प्रदर्शन ख़राब रहा। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें