loader
फ़ोटो क्रेडिट- @sachingupta787

नूपुर विवाद: दिल्ली की जामा मस्जिद, सहारनपुर में जोरदार प्रदर्शन

पैगंबर मोहम्मद साहब के खिलाफ विवादित टिप्पणी करने के मामले में शुक्रवार को दिल्ली की जामा मस्जिद में जोरदार प्रदर्शन हुआ है। बड़ी संख्या में जुटे मुसलिम समुदाय के लोगों ने बीजेपी नेता नूपुर शर्मा और नवीन जिंदल के खिलाफ नारेबाजी की। ऐसा ही जोरदार प्रदर्शन उत्तर प्रदेश के सहारनपुर में भी हुआ है।

दिल्ली की जामा मस्जिद में जुटे लोगों ने इन दोनों नेताओं को जल्द से जल्द गिरफ्तार किए जाने की मांग की। जामा मस्जिद के शाही इमाम ने कहा है कि मस्जिद की ओर से प्रदर्शन के लिए किसी तरह की कॉल नहीं दी गई थी। 

न्यूज़ एजेंसी एएनआई के मुताबिक शाही इमाम ने कहा कि उन्हें इस बात का नहीं पता कि प्रदर्शन करने वाले कौन लोग हैं। उन्होंने कहा कि शायद वे एआईएमआईएम के कार्यकर्ता हैं। उन्होंने कहा कि वे लोग प्रदर्शन कर सकते हैं लेकिन हम उन्हें समर्थन नहीं देंगे। 

ताज़ा ख़बरें

दिल्ली पुलिस ने कहा है कि लोगों को वहां से हटा दिया गया है और अब हालात नियंत्रण में हैं।

यूपी में कई जगहों पर प्रदर्शन

सहारनपुर में जुमे की नमाज के बाद बड़ी संख्या में मुसलिम समुदाय के लोग जुटे और उन्होंने नूपुर शर्मा और नवीन जिंदल के खिलाफ प्रदर्शन किया। इस मौके पर बड़ी संख्या में पुलिस कर्मी तैनात रहे और हालात पर नजर बनाए रहे। मुसलिम समुदाय के लोगों ने मस्जिद से लेकर घंटाघर तक जुलूस भी निकाला।

Protests In Delhi Saharanpur Over Prophet Remarks - Satya Hindi

इसके अलावा लखनऊ की टीले वाली मस्जिद, कोलकाता, हैदराबाद, देवबंद, कानपुर, फिरोज़ाबाद और मुरादाबाद में बड़ी संख्या में मुसलिम समुदाय के लोगों ने प्रदर्शन किया है। 

प्रयागराज में बवाल

प्रयागराज के अटाला इलाके में जुमे की नमाज के बाद नारेबाजी और हंगामा शुरू हो गया। पुलिस ने इसे शांत कराने की कोशिश की तो पथराव हुआ और इसके बाद पुलिस ने लाठीचार्ज कर उपद्रव कर रहे लोगों को वहां से खदेड़ा। पथराव के दौरान पुलिस विभाग के कई कर्मचारियों के घायल होने की खबर है। काफी देर तक पत्थरबाजी होती रही।

बता दें कि नूपुर शर्मा और नवीन जिंदल के द्वारा की गई टिप्पणियों को लेकर इस्लामिक मुल्कों ने भी जोरदार विरोध दर्ज कराया है। साथ ही भारत में भी कई राजनीतिक दलों ने नूपुर शर्मा को गिरफ्तार किए जाने की मांग की है।

एएमयू में प्रदर्शन 

उधर, अलीगढ़ में भी अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय के छात्रों ने नूपुर शर्मा के खिलाफ जोरदार प्रदर्शन किया था। छात्रों ने नूपुर शर्मा की गिरफ्तारी की मांग की। उन्होंने कहा कि नूपुर शर्मा की 48 घंटे के अंदर गिरफ्तारी की जानी चाहिए वरना इसके बाद वे बड़े स्तर पर प्रदर्शन करेंगे। नूपुर शर्मा की गिरफ्तारी की मांग को लेकर कानपुर में सांप्रदायिक झड़प हो चुकी है और इस मामले में पुलिस के द्वारा लगातार गिरफ्तारियां की जा रही हैं। 

देश से और खबरें
दूसरी ओर दिल्ली पुलिस ने दो एफआईआर दर्ज की हैं। इन एफआईआर में विवादित टिप्पणी करने वालीं नूपुर शर्मा, नवीन कुमार जिंदल से लेकर हैदराबाद के सांसद असदुद्दीन ओवैसी, पत्रकार सबा नक़वी और कुछ सोशल मीडिया यूजर्स का नाम शामिल किया गया है।
सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें