loader
दलेर मेंहदी

पंजाबी गायक दलेर मेंहदी को 2 साल की जेल, 15 साल पुराना केस

पंजाब में पटियाला की एक अदालत ने गुरुवार को 15 साल पुराने मानव तस्करी मामले में पंजाबी गायक दलेर मेंहदी को दो साल जेल की सजा सुनाई। अदालत ने इससे पहले दलेर की याचिका खारिज कर दी और गायक को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया।

कोर्ट ने दलेर मेंहदी को दोषी करार दिया और फैसला सुनाया। मामला 2003 का है और दलेर और उनके भाई शमशेर सिंह के खिलाफ कुल 31 मामले दर्ज किए गए हैं।

ताजा ख़बरें

19 साल पहले की एफआईआर में दलेर मेंहदी और उनके भाई शमशेर सिंह पर आरोप लगाया गया था कि उन्होंने "ट्रूप" के जरिए लोगों को अवैध रूप से विदेश भेजने के लिए पैसे लिए। उन पर भारतीय पासपोर्ट अधिनियम के अलावा मानव तस्करी और साजिश के लिए भारतीय दंड संहिता की धाराओं के तहत आरोप लगाए गए थे। दोनों को 2018 में न्यायिक मजिस्ट्रेट की अदालत से दो साल की जेल की सजा मिली थी, लेकिन उन्हें जमानत पर रिहा कर दिया गया और अपील दायर की गई। 

अतिरिक्त जिला एवं सत्र न्यायाधीश एचएस ग्रेवाल की अदालत ने गुरुवार को दलेर मेहंदी की अपील खारिज कर दी। कोर्ट ने जमानत पर रिहा करने का अनुरोध भी खारिज कर दिया था, इसलिए उन्हें पटियाला जेल ले जाया गया। उनके पास अब पंजाब और हरियाणा हाईकोर्ट जाने का विकल्प है। पंजाब के गायकों पर कबूतरबाजी के आरोप आमतौर पर लगते रहे हैं। कबूतरबाजी का मतलब विदेश भेजाना।
देश से और खबरें

पटियाला सदर पुलिस स्टेशन में मामला दर्ज किया गया था, जिसमें आरोप लगाया गया था कि मेंहदी बंधु 1998 और 1999 में दो मंडलियों को अमेरिका ले गए थे, इस दौरान 10 लोगों को समूह के सदस्यों के रूप में उन्हें प्रवास में मदद करने के लिए दिखाया गया था। रिपोर्ट्स के मुताबिक, बख्शीश सिंह नाम के शख्स की इस एफआईआर के बाद भाइयों के खिलाफ 35 और शिकायतें आईं।

तीन साल बाद स्थानीय पुलिस ने दलेर मेंहदी को निर्दोष बताते हुए स्थानीय अदालत में आरोपमुक्त करने की याचिका दायर की. लेकिन अदालत ने आरोपमुक्त करने से इनकार कर दिया, यह कहते हुए कि आगे की जांच के लिए "पर्याप्त सबूत" हैं। सजा देने में 12 साल और लग गए, और अब अपील पर निर्णय के लिए चार और साल लग गए।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें