loader

रुबैया सईद ने कहा- यासीन मलिक ने किया था अपहरण 

जम्मू-कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री मुफ्ती मोहम्मद सईद की बेटी रुबैया सईद ने अपने अपहरणकर्ताओं में से एक शख्स की पहचान अलगाववादी नेता यासीन मलिक के रूप में की है। रुबैया सईद ने यह पहचान टाडा की अदालत में शुक्रवार को की। यासीन मलिक वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए अदालत में पेश हुए। रुबैया सईद ने तस्वीरों के जरिए भी यासीन मलिक की पहचान की। रुबैया सईद की बहन महबूबा मुफ्ती जम्मू-कश्मीर की मुख्यमंत्री रही हैं और पीडीपी की प्रमुख हैं। 

8 दिसंबर, 1989 को रुबैया सईद का उस वक्त अपहरण किया गया था जब वह लाल डेड मेमोरियल हॉस्पिटल से अपने घर लौट रही थीं। उस दौरान वह बस में थीं। उस वक्त मुफ्ती मोहम्मद सईद भारत के गृह मंत्री थे।

रुबैया सईद ने यासीन मलिक के अलावा मोहम्मद जमन मीर, मेहराजुद्दीन शेख और मंजूर अहमद सोफी की पहचान भी की है। अदालत ने इस मामले में सुनवाई के लिए 23 अगस्त की तारीख तय की है।

ताज़ा ख़बरें

13 दिसंबर को रुबैया सईद को रिहा किया गया था। उन्हें रिहा करने के लिए भारत सरकार को पांच खूंखार आतंकियों को छोड़ना पड़ा था। इनमें जम्मू-कश्मीर लिबरेशन फोर्स के हामिद शेख, अल्ताफ अहमद भट, नूर मोहम्मद कलवाल, जावेद अहमद जरगर और शेर खान शामिल थे। 

रुबैया ने अदालत में कहा कि अपहरण के दौरान यासीन मलिक ने उनसे कहा था कि वह बस से नीचे उतर जाएं वरना उन्हें घसीट कर उतारा जाएगा। 

लगभग तीन दशक तक ठंडे बस्ते में रहने के बाद यह मामला जनवरी 2021 में फिर से खुला था जब टाडा अदालत ने यासीन मलिक और नौ अन्य के खिलाफ इस मामले में आरोप तय करने का आदेश दिया था। 

यासीन मलिक ने अदालत से कहा है कि वह इस इस मामले में खुद पेश होकर सवाल जवाब करना चाहते हैं। यासीन मालिक ने कहा कि अगर उन्हें इसका मौका नहीं दिया जाता है तो वह जेल में भूख हड़ताल पर बैठ जाएंगे।
यह पहला मौका था जब रुबैया इस मामले में अदालत के सामने हाजिर हुईं। सीबीआई ने उनसे अदालत के सामने पेश होने के लिए कहा था। सीबीआई ने उन्हें इस मामले में गवाह बनाया था। रुबैया सईद तमिलनाडु में रहती हैं। 

बीते साल जनवरी में सीबीआई ने यासीन मलिक के अलावा 10 लोगों को रुबैया सईद के अपहरण के मामले में अभियुक्त बनाया था। इनके नाम अली मोहम्मद मीर, मोहम्मद जमान मीर, इकबाल अहमद गांदरू, जावेद अहमद मीर, मोहम्मद रफीक पहलू, मंजूर अहमद सोफी, वजाहत बशीर, मेहराज-उद-दीन शेख और शौकत अहमद बख्शी हैं। 

जांच के दौरान अली मोहम्मद मीर, जमन मीर और इकबाल ने स्वीकार किया था कि वे रुबैया सईद के अपहरण में शामिल थे। इसके अलावा चार अन्य अभियुक्तों ने भी सीबीआई के सामने अपना गुनाह कुबूल किया था।

देश से और खबरें

कौन हैं यासीन मलिक 

यासीन मलिक जम्मू-कश्मीर लिबरेशन फोर्स के प्रमुख हैं और इन दिनों तिहाड़ जेल में हैं। मलिक कश्मीर के अलगाववादी नेता हैं। यासीन मलिक को टेरर फंडिंग के एक मामले में साल 2019 में एनआईए ने गिरफ्तार किया था और इस साल मई में उन्हें उम्र कैद की सजा सुनाई गई थी।

यासीन मलिक के खिलाफ भारतीय एयरफोर्स के चार अफसरों की हत्या के मामले में भी जांच चल रही है। यह मामला श्रीनगर में जनवरी 1990 का है। सीबीआई ने एयरफोर्स के अफसरों की हत्या के मामले में मार्च 2020 में जबकि रुबैया सईद के अपहरण के मामले में जनवरी 2021 में चार्जशीट तैयार की थी।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें