loader
फ़ाइल फ़ोटो।

संयुक्त किसान मोर्चा की अपील- यूपी के चुनाव में बीजेपी को सजा दें

उत्तर प्रदेश के विधानसभा चुनाव में मतदान शुरू होने से पहले बीजेपी की मुश्किलों में इजाफा हो गया है। कृषि कानूनों के खिलाफ दिल्ली के बॉर्डर्स पर चले आंदोलन की अगुवाई करने वाले संयुक्त किसान मोर्चा ने किसानों से अपील की है कि उत्तर प्रदेश के चुनाव में किसान विरोधी बीजेपी को सजा दी जाए। 

संयुक्त किसान मोर्चा ने गुरुवार को एक अपील जारी की है और कहा है कि बीजेपी की सरकार ने हमें आश्वासन देकर धरना खत्म करवा दिया और अब अपने लिखित वादे से मुकर गई है।

किसान आंदोलन का एक सिपाही के नाम से जारी की गई इस अपील में लखीमपुर खीरी कांड का भी जिक्र है और कहा गया है कि इस कांड का असली षड्यंत्रकारी मंत्री अभी भी छुट्टा घूम रहा है। अपील में आगे कहा गया है कि बीजेपी सरकार सच-झूठ की भाषा नहीं समझती, यह पार्टी एक ही भाषा समझती है, वह है, वोट, सीट और सत्ता। 

ताज़ा ख़बरें

अपील में लिखा है कि उत्तर प्रदेश में भी बीजेपी 2017 के विधानसभा चुनाव में किसानों से किए गए अपने वादों से पलट गई और उसने कोई वादा नहीं निभाया। 

अपील के अंत में कहा गया है कि इस किसान विरोधी बीजेपी सरकार के कान खोलने के लिए इसे चुनाव में सजा देने की जरूरत है। अपील की गई है कि बीजेपी का जो नेता आपसे वोट मांगने आए उससे इन मुद्दों पर सवाल जरूर पूछें और एक किसान का दर्द एक किसान ही समझ सकता है, इसलिए वोट डालते वक्त सभी किसान इस अपील को याद रखें। 

इस अपील को उत्तर प्रदेश के हर किसान तक भेजने का निवेदन भी किया गया है। 

अपील में किसान नेता डॉ. दर्शन पाल, हन्नान मोल्ला, जगजीत सिंह दल्लेवाल, जोगिंदर सिंह उगराहां, शिवकुमार शर्मा उर्फ कक्का जी, राकेश टिकैत, युद्धवीर सिंह, योगेंद्र यादव सहित किसान आंदोलन में भाग लेने वाले तमाम किसान और मजदूर संगठनों के भी नाम हैं।

देश से और खबरें

पश्चिमी यूपी में होगा नुकसान?

पश्चिमी उत्तर प्रदेश में किसान मतदाताओं की अच्छी-खासी संख्या है और किसान आंदोलन के दौरान इस इलाके में बीजेपी के नेताओं का पुरजोर विरोध हुआ था। संयुक्त किसान मोर्चा की इस अपील से बीजेपी को पश्चिमी उत्तर प्रदेश में बड़ा सियासी नुकसान हो सकता है। देखना होगा कि बीजेपी किसानों के इस विरोध से कैसे निपटती है। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें