loader

कोरोना मृतकों का मुआवजा देने में देरी क्यों? राज्यों पर बरसा सुप्रीम कोर्ट!

कोरोना महामारी से मारे गए लोगों के परिजनों को मुआवजा देने में राज्य सरकारें देरी क्यों कर रही हैं? राज्य इसके लिए कुछ भी कारण बताएँ, लेकिन सुप्रीम कोर्ट ने समय पर मुआवजा देने में विफल रहने के लिए राज्य सरकारों की खिंचाई की है। अदालत ने राज्यों से मुआवजा देने के लिए अपने प्रयास तेज करने को कहा है।

कोर्ट ने यह तब कहा जब वह कोरोना पीड़ित परिवारों की ओर से दायर की गई कई याचिकाओं पर सुनवाई कर रहा था। याचिकाकर्ताओं की शिकायत पर जस्टिस एमआर शाह और संजीव खन्ना की सुप्रीम कोर्ट की बेंच ने सुनवाई की। मामले में अब 4 फ़रवरी को सुनवाई होगी। इस तारीख़ से पहले राज्यों द्वारा नए हलफनामे दाखिल किए जाने की उम्मीद है। 

ताज़ा ख़बरें

सुप्रीम कोर्ट ने पिछले साल कहा था कि जिला प्रशासन के पास आवेदन प्राप्त होने के 30 दिनों के भीतर 50,000 रुपये की अनुग्रह राशि उन परिवारों को वितरित की जानी चाहिए जिन्होंने महामारी में सदस्यों को खो दिया। लेकिन इतने लंबे समय बीत जाने के बाद भी पीड़ित परिवारों को सहायता राशि नहीं मिल पाई है। माना जा रहा है कि राज्यों ने इसमें तेजी नहीं दिखाई है।

पंजाब, हिमाचल प्रदेश और झारखंड जैसे राज्यों में कोविड मौतों को लेकर मुआवजे के कम दावों को देखते हुए सुप्रीम कोर्ट ने चिंता जताई। उसने राज्यों से उन गरीब और ज़रूरतमंद परिवारों तक पहुंचने के लिए आधार कार्ड और एसएमएस का उपयोग करने के लिए कहा, जो मुआवजे की योजना के बारे में भी नहीं जानते होंगे। 

पीटीआई की रिपोर्ट के अनुसार, जस्टिस खन्ना ने कहा, 'आधार कार्ड मोबाइल फोन नंबर और डेथ सर्टिफिकेट से जुड़ा होता है। जब आपके पास फोन नंबर है, तो एसएमएस के ज़रिए परिवारों को योजना के बारे में क्यों नहीं बताते?'

सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि प्राप्त आवेदन पंजीकृत मौतों से कम नहीं हो सकते। इसने पूछा,

क्या लोगों को इस योजना के बारे में जानकारी नहीं है? क्या लोग ऑनलाइन आवेदन पत्र नहीं भर पा रहे हैं? क्या हमें एक पैरालीगल स्वयंसेवी प्रणाली की आवश्यकता है?


सुप्रीम कोर्ट

सुप्रीम कोर्ट ने बुधवार को आंध्र प्रदेश और बिहार के मुख्य सचिवों को तलब किया और उनसे यह बताने को कहा कि उनके राज्यों में वितरण कम क्यों है।

अदालत ने आंध्र प्रदेश के मुख्य सचिव को कारण बताओ नोटिस जारी किया और पूछा कि उनके खिलाफ अवमानना ​​की कार्रवाई क्यों नहीं शुरू की जानी चाहिए। इंडिया टुडे की रिपोर्ट के अनुसार, मुख्य सचिव ने वितरण में देरी के लिए अदालत से माफी मांगी और कहा कि यह आंशिक रूप से गलत पते और नाम दर्ज किए जाने के कारण आवेदनों को जल्दबाजी में दायर किए जाने के कारण हुआ। उन्होंने इसे ठीक करने के लिए कोर्ट से दो हफ्ते का समय मांगा।

देश से और ख़बरें

सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि वह बिहार द्वारा दिए गए कोविड -19 की मौत को खारिज करती है और कहा कि ये वास्तविक आंकड़े नहीं बल्कि सरकारी आंकड़े हैं। पीठ ने बिहार सरकार की ओर से पेश वकील से कहा, 'हम यह नहीं मानने वाले हैं कि बिहार राज्य में केवल 12,000 लोगों की मौत कोविड के कारण हुई है।'

अदालत ने गुजरात में 'गड़बड़ी' की ओर भी इशारा किया, जहाँ 10,000 दर्ज की गई मौतें हैं, लेकिन 91,000 मुआवजे के दावे हैं।

इस बीच राजस्थान सरकार ने कहा कि उसने ई-कियोस्क की व्यवस्था की है जिसके माध्यम से लोगों को उनके मुआवजे के आवेदन दाखिल करने में मदद की जा रही है। 

ख़ास ख़बरें

बेंच ने राज्य के क़ानूनी सेवा अधिकारियों को उन परिवारों से संपर्क करने के लिए कहा जिन्होंने कोरोना से अपने प्रियजनों को खो दिया था। सुप्रीम कोर्ट ने अनाथ बच्चों के मामले का भी संज्ञान लिया। इसने कहा कि यह देखते हुए कि कोरोना से अनाथ हुए बच्चों के लिए मुआवजे के लिए आवेदन जमा करना बहुत मुश्किल होगा, सुप्रीम कोर्ट ने राज्यों से बच्चों से संपर्क करने के लिए कदम उठाने को कहा। इंडिया टुडे की रिपोर्ट के अनुसार, अदालत ने कहा कि बच्चों के मामले में सरकारें यह सुनिश्चित करने में अधिक जिम्मेदारी लें कि उन्हें मुआवजा मिले और यह किसी और द्वारा दावा नहीं किया जाए या दावा खारिज नहीं किया जाए।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें