loader

सिद्धू मूसेवालाः दिल्ली पुलिस ने कहा- लॉरेंस बिश्नोई ही मास्टरमाइंड

दिल्ली पुलिस ने बुधवार शाम को कहा कि गायक और कांग्रेस नेता सिद्धू मूसेवाला की हत्या का मास्टरमाइंड गैंगस्टर लॉरेंस बिश्नोई ही है। लॉरेस इस वक्त तिहाड़ जेल में बंद है। हालांकि पहले यह खबर आई थी कि लॉरेंस बिश्नोई से जब दिल्ली पुलिस ने तिहाड़ जेल में पूछताछ की थी तो उसने यही कहा था कि उसका इस मर्डर में हाथ नहीं है। उसी दौरान गोल्डी बराड़ नामक गैंगस्टर ने इस हत्या की जिम्मेदारी ले ली थी। गोल्डी बराड़ दरअसल लॉरेंस बिश्नोई के गैंग का सदस्य था। 

Sidhu Musewala: Delhi Police said Lawrence Bishnoi is the mastermind - Satya Hindi
लॉरेंस बिश्नोई
इससे पहले पंजाब पुलिस ने बुधवार को कनाडा के गैंगस्टर गोल्डी बराड़ के खिलाफ रेड कॉर्नर नोटिस (आरसीएन) जारी करने का अनुरोध किया। गोल्डी बराड़ ने गायक और कांग्रेस नेता सिद्धू मूसेवाला की नृशंस हत्या की जिम्मेदारी ली है।

पंजाब के सूचना और जनसंपर्क विभाग के अनुसार, पंजाब पुलिस ने मूसेवाला की हत्या से दस दिन पहले ही बराड़ के लिए आरसीएन के लिए एक प्रस्ताव सीबीआई को भेजा था। पंजाब पुलिस ने 5 मई को तरनतारन गांव रत्तोक के हरविंदर सिंह संधू उर्फ ​​रिंडा के लिए भी सीबीआई से आरसीएन जारी करने की भी मांग की थी। 
ताजा ख़बरें
बराड़ के दावों के बाद पंजाब पुलिस ने लॉरेंस बिश्नोई गिरोह की संलिप्तता का हवाला दिया था, जिसका बराड़ हिस्सा है। पुलिस ने यह भी बताया था कि शूटिंग गैंगवॉर का नतीजा हो सकती है। इस बीच, लॉरेंस बिश्नोई ने दिल्ली पुलिस के सामने दावा किया है कि मूसेवाला की हत्या में उसकी कोई भूमिका नहीं थी।

आरसीएन इंटरपोल के महासचिव द्वारा किसी भी सदस्य देश द्वारा अनुरोध किए जाने पर उस व्यक्ति की गिरफ्तारी और प्रत्यर्पण की मांग पर जारी किया जाता है, जिस पर आरसीएन तामील किया जाता है। हालाँकि, इंटरपोल किसी सदस्य देश को आरसीएम के आधार पर किसी व्यक्ति को गिरफ्तार करने के लिए बाध्य नहीं कर सकता।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें