loader

स्मृति ईरानी का फ्लाइट में 'बढ़ती महंगाई' से सामना

बढ़ती महंगाई और पेट्रोल-डीजल की बढ़ती कीमतों पर तमाम सवालों का सामना केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी को आज एक फ्लाइट में करना पड़ा। यह फ्लाइट दिल्ली से गुवाहाटी जा रही थी। इस फ्लाइट में महिला कांग्रेस की कार्यवाहक अध्यक्ष नेट्टा डिसूजा भी थीं। नेट्टा ने स्मृति से महंगाई को लेकर कई सवाल कर डाले। बाद में उन्होंने उस वीडियो को ट्वीट भी किया, जिसमें खुद मंत्री स्मृति ईरानी भी अपने सेल फोन से उस समय रिकॉर्डिंग करती दिखाई दे रही हैं।
नेट्टा ने ट्वीट में हिन्दी में लिखा, जिसे स्मृति को भी टैग किया गया है - गुवाहाटी की फ़्लाइट में @smritiirani जी से सामना हुआ।
रसोई गैस की लगातार बढ़ती क़ीमतों पर सुनिए उनके जवाब। महँगाई का ठीकरा,वे किन-किन चीज़ों पर फोड़ रहीं हैं ! जनता पूछे सवाल, स्मृति जी दें टाल ! वीडियो के अंशों में ज़रूर देखिये, मोदी सरकार की सच्चाई !

ताजा ख़बरें
नेट्टा के मुताबिक एलपीजी की असहनीय बढ़ती कीमतों के बारे में पूछे जाने पर स्मृति ने वैक्सीनेशन, राशन और यहां तक ​​​​कि गरीबों को भी दोषी ठहराया! वीडियो देखें। उन्होंने आम लोगों के दुखों पर कैसी प्रतिक्रिया दी! वीडियो में, कांग्रेस नेता स्मृति से उस समय सवाल करती भी दिख रही हैं जब यात्री फ्लाइट से उतर रहे थे।
स्मृति ईरानी ने कहा, कांग्रेस नेता रास्ता रोक रही हैं। रसोई गैस की कमी और बिना गैस के चूल्हे के बारे में पूछे जाने पर, मंत्री को प्लीज झूठ मत बोलिए कहते हुए सुना गया। बाद में, मंत्री को यह कहते हुए भी सुना गया कि सरकार को "बदनाम" किया जा रहा है।

नेट्टा डिसूजा ने दूसरे ट्वीट में लिखा है कि उन्हें इस बात की जरा भी परवाह नहीं है कि उन्हें फ्लाइट में अब रोक दिया जाएगा। वो मोदी सरकार को और इसके मंत्रियों को इसी तरह आइना दिखाती रहेंगी।
देश में पेट्रोल की कीमतों में 16 दिनों में 115 गुना बढ़ोतरी हुई है। अब तक कीमतों में 10 रुपये प्रति लीटर की बढ़ोतरी हुई है। दिल्ली में अब एक लीटर पेट्रोल ₹105.41 पर बिक रहा है, जबकि डीजल ₹96.67 प्रति लीटर पर बिक रहा है। मुंबई में - जहां चार महानगरों में फ्यूल की कीमतें सबसे अधिक हैं - पेट्रोल ₹ 120.51 प्रति लीटर पर बिक रहा है जबकि डीजल ₹ 104.77 प्रति लीटर पर बेचा जा रहा है। कच्चे तेल की कीमतों में उछाल के बावजूद फ्यूल की दरें पिछले चार महीने से अधिक समय में स्थिर रही थीं। उस समय पांच राज्यों में विधानसभा चुनाव हो रहे थे। विपक्ष ने दावा किया है कि यह बीजेपी की चुनावी रणनीति है। 
देश से और खबरें

केंद्रीय पेट्रोलियम मंत्री हरदीप पुरी ने रूस-यूक्रेन युद्ध को कीमतों में वृद्धि के जिम्मेदार ठहराया। पुरी ने कहा कि भारत में वृद्धि अमेरिका, ब्रिटेन, कनाडा, जर्मनी और श्रीलंका जैसे देशों की तुलना में सिर्फ पांच फीसदी है, जबकि उन देशों में कीमतें 50 फीसदी तक बढ़ गई हैं। हालांकि विपक्ष के इस सवाल का सरकार के पास जवाब नहीं है कि देश में जब पांच राज्यों में चुनाव हो रहे थे तो तेल की कीमतें क्यों नहीं बढ़ रही थीं। जबकि उस समय अंतरराष्ट्रीय बाजार में तेल की कीमतें लगातार बढ़ रही थीं।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें