loader

पेट्रोल-डीजल: सोनिया हमलावर, बोलीं - जनता के पैसे से खजाना भर रही मोदी सरकार

पेट्रोल-डीजल की लगातार बढ़ती क़ीमतों को लेकर कांग्रेस ने मोदी सरकार के ख़िलाफ़ मोर्चा खोल दिया है। बीते तीन हफ़्ते से पेट्रोल-डीजल की क़ीमतें लगातार बढ़ रही हैं और इस मुद्दे पर जनाक्रोश को देखते हुए कांग्रेस सोमवार को देश भर में साइकिल रैली निकालकर प्रदर्शन कर रही है। ट्विटर पर पार्टी ने हैशटैग #SpeakUpAgainstFuelHike के तहत अभियान चलाया हुआ है। पार्टी आम लोगों के वीडियो संदेश भी जारी कर रही है। 

कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने एक वीडियो संदेश जारी कर कहा है कि महंगे पेट्रोल-डीजल की मार ने लोगों का जीना मुश्किल कर दिया है। उन्होंने कहा कि राजधानी दिल्ली और अन्य बड़े-शहरों में पेट्रोल-डीजल की क़ीमतें 80 रुपये को पार कर गई हैं। 

ताज़ा ख़बरें

‘18 लाख करोड़ की अतिरिक्त वसूली’ 

सोनिया ने कहा, ‘2014 के बाद मोदी सरकार ने जनता को कच्चे तेल की गिरती क़ीमतों का फायदा देने के बजाए पेट्रोल और डीजल पर 12 बार एक्साइज ड्यूटी बढ़ाई जिससे सरकार ने 18 लाख करोड़ रुपये की अतिरिक्त वसूली की। यह अपने आप में जनता की मेहनत की कमाई से पैसा निकालकर खजाना भरने का जीता-जागता सबूत है।’ 

कांग्रेस अध्यक्ष ने कहा कि सरकार की जिम्मेदारी यह है कि मुश्किल वक्त में जनता का सहारा बने, उनकी मुसीबत का फायदा उठाकर मुनाफाखोरी न करे।
सोनिया ने कहा कि पेट्रोल-डीजल की बढ़ी हुई क़ीमतों की सीधी चोट देश के किसान, ग़रीब, नौकरीपेशा लोगों, मध्यम वर्ग और छोटे उद्योगों पर पड़ रही है। उन्होंने कहा कि कोरोना महामारी के इस संकट में बढ़ाई गई पेट्रोल-डीजल की क़ीमतों को मोदी सरकार तुरंत वापस ले। 
देश से और ख़बरे
गलवान में भारतीय जवानों की शहादत और भारत की सीमाओं में चीन घुसपैठ को लेकर भी कांग्रेस इन दिनों मोदी सरकार पर हमलावर है। 
कुछ दिन पहले सोनिया गांधी, पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी से लेकर प्रियंका गांधी वाड्रा, दिग्विजय सिंह, राजीव त्यागी, हरीश रावत और तमाम राज्यों के बड़े कांग्रेसी चेहरों, अपने फ़्रंटल संगठनों के प्रमुखों को पार्टी ने इस मुद्दे पर मैदान में उतारा था और साफ किया था कि मोदी सरकार को चैन की सांस नहीं लेने देगी। 

सोनिया से लेकर राहुल गांधी और तमाम नेताओं ने मोदी सरकार से सवाल पूछा है कि आख़िर चीन के मामले में मोदी सरकार भ्रम की स्थिति क्यों बनाए रखना चाहती है। वह देश के लोगों से सीमा के असल हालात को क्यों छिपाए रखना चाहती है?राहुल गांधी ने कहा था कि भले ही पीएम मोदी भारतीय सीमा में घुसपैठ न होने की बात कहें लेकिन सैटेलाइट फ़ोटोग्राफ़्स और लद्दाख की जनता के बयान कह रहे हैं कि चीन हमारी ज़मीन छीन चुका है। 

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता प्रमाणपत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें