loader

दक्षिण अफ्रीका में कोरोना के नये वैरिएंट से भारत में अलर्ट

कोरोना वायरस ने भारत ही नहीं, दुनिया भर में एक बार फिर से चिंताएँ बढ़ा दी हैं। इसकी बड़ी वजह यूरोप में अनियंत्रित हुआ कोरोना संक्रमण नहीं, बल्कि दक्षिण अफ़्रीका में आया नया वैरिएंट है। इस वैरिएंट के बारे में जो शुरुआती आकलन आया है वह कितना ख़तरनाक है, इसका अंदाजा इससे लगाया जा सकता है कि विश्व स्वास्थ्य संगठन द्वारा इसको लेकर बैठक बुला सकता है और ब्रिटेन ने दक्षिण अफ्रीका की अपनी उड़ानें रद्द कर दी हैं। भारत में भी अलर्ट जारी किया गया है। ऐसे फ़ैसले तब लिए जा रहे हैं जब इस नये वैरिएंट वाले संक्रमण की पुष्टि दक्षिण अफ्रीका के अलावा बोत्सवाना और हांगकांग में भी हुई है। 

दक्षिण अफ्रीकी अधिकारियों ने कोरोना के नये वैरिएंट की घोषणा की है। उन्होंने कहा है कि इसका म्यूटेशन  बेहद असामान्य है। दक्षिण अफ़्रीका के इस नये वैरिएंट की जानकारी मिलने के बाद भारत में केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने राज्यों को कहा है कि उन तीन देशों से आने वाले या उनसे होकर गुजरने वाले यात्रियों का कड़ाई से जांच की जाए। 

ताज़ा ख़बरें

सभी राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों को भेजे गए पत्र में स्वास्थ्य सचिव राजेश भूषण ने कहा है कि भारत के राष्ट्रीय रोग नियंत्रण केंद्र यानी एनसीडीसी ने सरकार से कहा है कि तीन देशों में कोविड-19 के एक वैरिएंट बी.1.1529 के कई मामले सामने आए हैं। 

भूषण ने कहा, 'इस वैरिएंट में काफ़ी अधिक संख्या में म्यूटेशंस होने की सूचना है। हाल ही में वीजा प्रतिबंधों में ढील देने और अंतरराष्ट्रीय यात्रा को खोलने के मद्देनज़र देश के सार्वजनिक स्वास्थ्य पर गंभीर असर हो सकता है।'

नये वैरिएंट को इस तरह समझ सकते हैं कि जब पहली बार कोरोना का संक्रमण फैला था तो उसका एक ही रूप था और उसे कोविड-19 कहा जा रहा था। लेकिन धीरे-धीरे कोरोना अपना रूप बदलने लगा। यानी यह नये क़िस्म का कोरोना था। पिछले साल इन्हीं किस्मों को यूके वैरिएंट, दक्षिण अफ्रीका वैरिएंट जैसे नाम सामने आए थे। 

डब्ल्यूएचओ ने नये-नये वैरिएंट के अलग-अलग नाम- अल्फा, बीटा, डेल्टा जैसे नाम दिए। भारत में दूसरी लहर के लिए डेल्टा वैरिएंट को ज़िम्मेदार माना जाता है।

पिछले साल कोरोना की पहली लहर के धीमा पड़ने के दौरान ही कोरोना के जो नये-नये स्ट्रेन सामने आ रहे थे उसमें से एक बी.1.617 था। यह सबसे पहले भारत में मिला। इसे ट्रिपल म्यूटेंट वैरिएंट कहा गया क्योंकि यह फिर से तीन अलग-अलग रूप में- बी.1.617.1, बी.1.617.2 और बी.1.617.3 फैला। इसी में से बी.1.617.2 को डब्ल्यूएचओ ने डेल्टा नाम दिया है। अब तक कई देशों में इस वैरिएंट के मामले सामने आ चुके हैं।

देश से और ख़बरें

बता दें कि दक्षिण अफ्रीका के वैज्ञानिकों ने अब इन नये म्यूटेशंस पर चिंता व्यक्त की है, लेकिन एक सटीक मूल्यांकन व्यापक जीनोम सिक्वेंसिंग के अध्ययनों पर आधारित होगा। दक्षिण अफ्रीका ने इस नये वैरिएंट पर चर्चा के लिए शुक्रवार को वायरस के विकास पर डब्ल्यूएचओ के कार्यकारी समूह की तत्काल बैठक का अनुरोध किया है।

अब तक इस वैरिएंट के 22 मामले दक्षिण अफ़्रीका में, बोत्सवाना में 3 मामले और हॉन्ग कॉन्ग में 2 मामले आए हैं। हांगकांग का मामला दक्षिण अफ्रीका के एक यात्री का है। जिस होटल में वह यात्री रुका था उसमें एक और व्यक्ति में संक्रमण की पुष्टि हुई है। रॉयटर्स की एक रिपोर्ट के अनुसार, दक्षिण अफ़्रीकी वैज्ञानिकों ने गुरुवार को एक संवाददाता सम्मेलन में कहा कि बी.1.1529 नाम से बुलाए जाने वाले इस वैरिएंट में पाए गए म्यूटेंट बेहद ख़तरनाक हैं क्योंकि वे शरीर की प्रतिरक्षा प्रतिक्रिया से बचने में मदद कर सकते हैं और इसे और अधिक संक्रामक बना सकते हैं। 

ख़ास ख़बरें
दक्षिण अफ्रीका में नये वैरिएंट के मिलने से इसलिए चिंता बढ़ी है कि यूरोप में पहले से ही काफ़ी ज्यादा आबादी को टीका लगाए जाने के बावजूद वहाँ संक्रमण तेज़ी से फैल रहा है। यूरोप में हाल में मामले काफ़ी तेज़ी से बढ़ रहे हैं और हर रोज़ क़रीब तीन लाख कोरोना संक्रमण के नये मामले सामने आ रहे हैं। हर रोज़ क़रीब 3400 लोगों की मौतें भी हो रही हैं। सिर्फ़ यूरोप में ही 65 लाख से ज़्यादा कोरोना के सक्रिय मामले हैं।
सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें