loader

गुजरात दंगा: शाह बोले- सामने आया सच, पीएम मोदी पर झूठे आरोप लगाए गए

गुजरात दंगों के मामले में आए सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद बीजेपी और केंद्र सरकार विपक्ष पर हमलावर हो गई है। केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने शनिवार को कहा कि इस मामले में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बहुत धैर्य के साथ लंबी लड़ाई लड़ी और आज चमकते सूरज की तरह सच सबके सामने आ गया है।

शाह ने सवाल पूछा कि बीजेपी पर दंगों के आरोप लगाने वाले राजनीतिक दलों के शासन में क्या दंगे नहीं हुए हैं। उन्होंने कहा कि उत्तर प्रदेश का इतिहास उठाकर देख लें। उन्होंने कहा कि झूठ के खिलाफ लड़ाई लड़ना बेहद जरूरी होता है।

अमित शाह ने न्यूज़ एजेंसी एएनआई को दिए इंटरव्यू में यह बातें कहीं। बीजेपी के कई और नेताओं ने भी सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद विपक्ष पर हमला बोला है। 

ताज़ा ख़बरें

बता दें कि गुजरात में हुए दंगों में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को क्लीन चिट देने की एसआईटी की रिपोर्ट को चुनौती देने वाली याचिका को सुप्रीम कोर्ट ने शुक्रवार को खारिज कर दिया था। कांग्रेस के नेता एहसान जाफरी की पत्नी जाकिया जाफरी ने सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर की थी। 

गुजरात में साल 2002 में दंगे हुए थे और दंगों की जांच के लिए बनी एसआईटी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को क्लीन चिट दी थी। उस वक्त नरेंद्र मोदी गुजरात के मुख्यमंत्री थे। प्रधानमंत्री मोदी के साथ ही 63 अन्य लोगों को भी दंगों में भूमिका के लिए एसआईटी की ओर से क्लीन चिट दी गई थी।

शाह ने कहा कि गोधरा में ट्रेन को जलाए जाने के बाद गुजरात में दंगे शुरू हुए और बीजेपी के अलावा किसी भी अन्य दल ने 60 लोगों की मौत की घटना की निंदा तक नहीं की। 

एसआईटी पर कोई दबाव नहीं 

शाह ने कहा कि गुजरात दंगों के मामले में जो एसआईटी बनी थी वह सुप्रीम कोर्ट ने बनाई थी, अफसरों का चयन भी सुप्रीम कोर्ट ने किया था। गुजरात से ही आने वाले शाह ने कहा कि गुजरात दंगों की जांच के लिए बनी एसआईटी पर किसी तरह का कोई दबाव नहीं था क्योंकि यह मामला पूरी तरह अदालत की निगरानी में था।

राहुल गांधी पर निशाना 

अमित शाह ने बिना नाम लिए कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी पर भी निशाना साधा। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से भी पूछताछ हुई थी लेकिन तब किसी ने धरना प्रदर्शन नहीं किया था। मोदी के बेहद करीबी माने जाने वाले शाह ने कहा कि वह खुद भी गिरफ्तार हुए थे लेकिन उन्होंने कानून का पूरा सहयोग किया था। 

बीते दिनों नेशनल हेराल्ड मामले में जब राहुल गांधी की ईडी के सामने पेशी हुई थी तो कांग्रेस ने दिल्ली सहित देश के तमाम बड़े शहरों में जोरदार प्रदर्शन किया था।

Supreme court clean chit Narendra Modi in 2002 Gujarat riots case - Satya Hindi

शाह ने न्यूज़ एजेंसी एएनआई की एडिटर स्मिता प्रकाश के एक सवाल के जवाब में कहा कि सुप्रीम कोर्ट ने अपने आदेश में यह तक कहा है कि इस मामले में याचिकाकर्ता जाकिया जाफरी किसी और के निर्देशन पर काम करती थीं।

केंद्रीय गृह मंत्री ने कहा कि उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को बहुत बदनामी झेलते हुए देखा, प्रधानमंत्री मोदी पर झूठे आरोप लगाए गए लेकिन उन्होंने धैर्य बनाए रखा।

मोदी को बनाया गया निशाना 

बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष रहे अमित शाह ने कहा कि यूपीए सरकार ने इस मामले में एक दूसरी याचिकाकर्ता तीस्ता सीतलवाड़ के एनजीओ की पूरी मदद की थी और ऐसा सिर्फ प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को निशाना बनाने के लिए किया गया।

देश से और खबरें

अमित शाह ने कहा कि सुप्रीम कोर्ट ने अपने आदेश में कहा है कि गुजरात की तत्कालीन राज्य सरकार ने दंगा रोकने की भरसक कोशिश की और सही समय पर सही कार्रवाई की। उन्होंने कहा कि देश में राजनीतिक आरोप लगाने की सभी को पूरी स्वतंत्रता है।

शाह ने कहा कि जिन भी लोगों ने गुजरात दंगों के मामले में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर आरोप लगाए थे उन लोगों को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और बीजेपी से मांगी माफी मांगनी चाहिए।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें