loader

सुप्रीम कोर्ट : पॉजिटिव टेस्ट होने के 2-3 महीने में हुई मौत को कोरोना से मौत माना जाए

कोरोना से होने वाली मौतों को कम कर दिखाने की कोशिश में लगे लोगों को एक ज़ोरदार झटका लगा है। सुप्रीम कोर्ट ने एक बेहद अहम आदेश में कहा है कि कोरोना से होने वाली मौतों के मामले में सर्टिफ़िकेट पर यह स्पष्ट रूप से लिखा जाना चाहिए।

इतना ही नहीं, सर्वोच्च न्यायालय ने यह भी कहा है कि यदि कोरोना के कारण स्वास्थ्य में कोई गड़बड़ी होती है और उससे रोगी की मौत हो जाती है, उस मामले में भी कोरोना को ही मौत का कारण माना जाएगा और इसे मृत्यु प्रमाण पत्र पर लिखना होगा।

अदालत ने यह भी कहा है कि कोरोना पॉजिटिव टेस्ट होने के दो-तीन महीने के अंदर मौत होने पर भी उसे कोरोना से मौत ही माना जाना चाहिए और मृत्यु प्रमाण पत्र पर यह लिखा जाना चाहिए। 

ख़ास ख़बरें

अहम आदेश

इसके साथ ही सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र सरकार और दूसरे संबधित अधिकारियों से कहा है कि वे मृत्यु प्रमाण पत्र जारी करने से जुड़े दिशा-निर्देश को आसान बनाएँ ताकि उस प्रमाणपत्र पर मृत्यु का कारण कोरोना लिखने में दिक्क़त न हो। 

अब तक सरकार कोरोना से होने वाली मौतों की संख्या कम कर बताती रही है और कोरोना के बाद हुए कॉमप्लीकेशन से हुई मौतों को कोरोना से मौत नहीं मानती रही है। मसलन, यदि कोरोना से संक्रमित रोगी को डायबिटीज़ भी हो तो सरकार उसकी मौत का कारण कोरोना नहीं, बल्कि डाइबिटीज़ ही मानती है। 

बड़े पैमाने पर कोरोना से प्रभावित लोगों को न्यूमोनिया, हार्ट अटैक हुआ और उनकी मौत हो गई। ऐसे मामलों में मौत का कारण कोरोना नहीं माना गया। इससे   कोरोना से मरने वालों की संख्या काफी कम कर दिखाई गई। इससे सरकार को इन लोगों के परिजनों को मुआवजा भी नहीं देना होगा। सुप्रीम कोर्ट के इस आदेश के बाद इस तरह का बहाना नहीं चलेगा। 

आदेश में कहा गया है, सभी अधिकारियों को चाहिए कि वे सही और उचित मृत्यु प्रमाण पत्र जारी करें, जिनमें मृत्यु का सही कारण लिखा हो ताकि यदि भविष्य में कोरोना से मरने वालों के लिए स्कीम की घोषणा हो तो कोरोना से मरने वालों के परिजनों को उसका लाभ मिल सके।

याचिकाएँ

जस्टिस अशोक भूषण और जस्टिस एम. आर. शाह की बेंच ने दो जनहित याचिकाओं पर सुनवाई के बाद यह आदेश दिया है। इन यचिकाओं में कहा गया था कि अधिकारी जो मृत्यु प्रमाण पत्र देते हैं, कोरोना से मौत होने पर भी उन मृत्यु प्रमाण पत्रों पर मौत का कारण कोरोना नहीं लिखा होता है। इसका नतीजा यह होता है कि ऐसे लोगों के परिजनों को कोरोना से होने वाली मौतों पर दी जाने वाली रियायतें नहीं मिलती हैं। 

केंद्र सरकार ने सुप्रीम कोर्ट में दाखिल हलफ़नामे में कहा है कि कोरोना डायगनोज़ होने पर यानी कोरोना का पता लगने के बाद मृत्यु होने पर उसका कारण कोरोना ही लिखा जाता है, भले ही उसके साथ दूसरे रोग भी उस व्यक्ति को हों। ज़हर या दुर्घटना से होने वाली मौतें इसका अपवाद हैं। 

इसके बाद बेंच ने कहा,

हमारा मानना है कि मृत्यु प्रमाण पत्र देने की प्रक्रिया जितनी सरल हो उतना ही अच्छा है। इसलिए यह ज़रूरी है कि केंद्र सरकार या संबंधित अधिकारी ये दिशा -निर्देश जारी करें कि पूरी प्रक्रिया को आसान बनाया जाए और यदि कोरोना से मौत हुई हो तो मृत्यु प्रमाण पत्र पर साफ लिखा हो कि कोरोना से मृत्यु हुई है।


सुप्रीम कोर्ट के आदेश का अंश

सर्वोच्च न्यायालय ने कहा कि यह व्यवस्था भी होनी चाहिए कि यदि किसी को यह शिकायत हो कि उसे ग़लत मृत्यु प्रमाण पत्र दिया गया है तो उसकी शिकायत का निपटारा हो। 

supreme court : mention corona death on death certificates - Satya Hindi

मुआवजा पर क्या कहना है सरकार का?

याद दिला दें कि इसके पहले केंद्र सरकार ने सुप्रीम कोर्ट से कहा था कि वह कोरोना से मारे गए सभी लोगों के लिए 4-4 लाख रुपये का मुआवजा नहीं दे सकती क्योंकि इससे पूरी आपात राहत निधि खाली हो जाएगी।  सुप्रीम कोर्ट में हलफनामा देकर यह बात कही थी। सरकार का यह हलफनामा उस याचिका के जवाब में था जिसमें न्यूनतम राहत और कोरोना से मारे गए लोगों को मुआवजा या अनुग्रह राशि देने की माँग की गई थी।

सरकार के आधिकारिक आँकड़ों के मुताबिक़, 9 जून तक 3 लाख 86 हज़ार 713 लोगों की मौत कोरोना संक्रमण के कारण हुई है। इसका मतलब है कि ऐसे किसी राहत पैकेज की घोषणा होने पर इन मृतकों के परिवार वाले इसके लाभार्थी होंगे।

सरकार का तर्क

सरकार ने कहा है कि कोविड-19 के पीड़ितों को 4 लाख रुपये का मुआवजा नहीं दिया जा सकता है क्योंकि आपदा प्रबंधन क़ानून में केवल भूकंप, बाढ़ आदि प्राकृतिक आपदाओं पर ही मुआवजे का प्रावधान है। इसने यह भी कहा है कि यदि इतनी रक़म दी जाती है तो आपदा राहत निधि के रुपये ख़त्म हो जाएँगे।

आपदा प्रबंधन से जुड़े क़ानून लागू किए गए और उसके मुताबिक काम किया गया, पर सरकार मुआवजा देते समय कहती है कि यह आपदा नहीं है। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें